क्या आपकी कुंडली में है पराक्रम के शुभ योग

Author पं. हेमन्त रिछारिया|
Widgets Magazine


कुछ व्यक्ति बड़े साहसी व पराक्रमी होते हैं। ऐसे लोग जोखिम लेने में तनिक भी नहीं देर नहीं करते इसके विपरीत कुछ लोग बड़े ही दब्बू स्वभाव वाले एवं डरपोक होते हैं। आइए जानते हैं कि जन्मपत्रिका में वे कौन से होते हैं जो व्यक्ति साहसी बनाते हैं।
 
 
जन्मपत्रिका के से का विचार किया जाता है। यदि जातक की जन्मपत्रिका में तृतीय भाव पर क्रूर ग्रहों जैसे सूर्य, मंगल, शनि व राहु-केतु का प्रभाव हो तो ऐसा जातक साहसी व पराक्रमी होता है। यदि तृतीय भाव में क्रूर ग्रह की राशि हो या तृतीय भाव क्रूर ग्रहों द्वारा दृष्ट हो तो यह योग जातक को निडर व साहसी बनाता है। तृतीय भाव के अधिपति (तृतीयेश) की क्रूर ग्रहों के साथ युति भी जातक को साहसी बनाती है। इसके विपरीत यदि तृतीय भाव पर सौम्य ग्रहों जैसे चन्द्र, शुक्र, गुरू व बुध आदि का प्रभाव हो तो ऐसा जातक सौम्य स्वभाव वाला होता है।  

 
-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
सम्पर्क: astropoint_hbd@yahoo.com
 
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine