आज खग्रास चन्द्र ग्रहण : जानिए, क्या होगा आप पर असर

खग्रास चन्द्र ग्रहण को है। यह ग्रहण माघ पूर्णिमा बुधवार को सायंकाल के समय संपूर्ण भारतवर्ष में दृश्यमान होगा। यह ग्रहण असम, मिजोरम, सिक्किम, मेघालय, पूर्वी व प. बंगाल में चन्द्रोदय के बाद प्रारंभ होगा तथा भारत के शेष भागों में इस ग्रहण का आरंभ चन्द्रोदय से पहले ही हो जाएगा, वहां ग्रहण ग्रस्तोदय होगा।
ALSO READ:
ग्रहण काल के समय ध्यान रखें ये नियम, नहीं होगा अनिष्ट


भारत के अलावा और कहां दिखाई देगा?

उत्तरी अमेरिका, पूर्वी व दक्षिणी अमेरिका में चन्द्र अस्त के साथ ग्रहण समाप्त हो जाएगा अर्थात ग्रस्तास्त हो जाएगा, जबकि उत्तरी व पूर्वी यूरोप, एशिया, हिन्द महासागर में चन्द्रोदय के समय यह खग्रास ग्रहण के रूप में प्रारंभ होगा अर्थात ग्रस्तोदय रूप में दिखाई देगा। ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड में इस खग्रास चन्द्रग्रहण के सभी घटनाक्रम दिखाई देंगे अर्थात ग्रहण आरंभ से ग्रहण समाप्ति तक दृश्यमान होगा।
भारतीय समयानुसार इस ग्रहण का प्रारंभ व समाप्ति काल इस प्रकार है-

ग्रहण आरंभ- 17 घंटा 18 मिनट 27 सेकंड
खग्रास प्रारंभ- 18 घंटा 21 मिनट 47 सेकंड
ग्रहण मध्य- 18 घंटा 59 मिनट 50 सेकंड
खग्रास समाप्त- 19 घंटा 37 मिनट 51 सेकंड
ग्रहण समाप्त- 20 घंटा 41 मिनट 11 सेकंड

ग्रहण का पर्वकाल-

ग्रहण का पर्वकाल ग्रहण आरंभ से ग्रहण समाप्ति तक का काल माना जाता है, क्योंकि यह ग्रहण भारत के सुदूर पूर्वी क्षेत्र को छोड़कर शेष भारत में ग्रस्तोदय ही होगा। अत: यहां चन्द्रोदय से ग्रहण समाप्ति तक के काल को पर्वकाल माना जाएगा।

ग्रहण का सूतक-

ग्रहण का सूतक 31 जनवरी 2018 की सुबह 8 बजकर 18 मिनट से आरंभ होगा।
ग्रहण का राशिनुसार फल-

यह ग्रहण पुष्य नक्षत्र एवं आश्लेषा तथा कर्क राशि पर घटित होगा। अत: इन नक्षत्रों व राशि वालों के लिए विशेष रूप से कष्टकारी हो सकता है। यदि चन्द्र के साथ कर्क का राहु जन्मकालीन रहा तो परिणाम अशुभ होते हैं। ऐसी स्थिति में ग्रहण काल में महामृत्युंजय मंत्र का जप करने से कष्टों से राहत मिलती है।
मेष राशिगत फल- कामकाज में सफलता के साथ धनलाभ की उम्मीद कर सकते हैं।

वृषभ राशिगत फल- आर्थिक लाभ के साथ प्रत्येक क्षेत्र में प्रगतिपूर्ण वातावरण रहेगा।

मिथुन राशिगत फल- आर्थिक नुकसान के साथ यात्रा के योग भी हैं।

कर्क राशिगत फल- शारीरिक कष्ट के साथ कार्य में रुकावटें आ सकती हैं।

सिंह राशिगत फल- मानसिक चिंता के साथ आर्थिक नुकसान संभव।
कन्या राशिगत फल- अकस्मात धनलाभ के साथ-साथ सुख-समृद्धि के योग हैं।

तुला राशिगत फल- स्वास्थ्य का ध्यान रखें, किसी कार्य में परिश्रम अधिक होगा।

वृश्चिक राशिगत फल- चिंता रहेगी वहीं संतान कष्ट से खर्च भी होगा।

धनु राशिगत फल- शत्रु पक्ष से बचकर चलें। थोड़े धनलाभ की आशा कर सकते हैं।

मकर राशिगत फल- दांपत्य जीवन में कष्ट रह सकता है, चिंता रहेगी।
कुंभ राशिगत फल- आर्थिक मामलों में सावधानी रखें, खर्च अधिक होगा। चिंता व परिश्रम अधिक रहेगा।

मीन राशिगत फल- कामकाज में विलंब होकर खर्च अधिक रहेगा। स्वास्थ्य मध्यम रहेगा।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

राहुकाल का समय और उससे बचने के उपाय

राहुकाल का समय और उससे बचने के उपाय
राहुकाल स्थान और तिथि के अनुसार अलग-अलग होता है अर्थात प्रत्येक वार को अलग समय में शुरू ...

वास्तु-फेंगशुई : स्टडी टेबल ऐसी होगी तो मिलेगी मनचाही सफलता

वास्तु-फेंगशुई : स्टडी टेबल ऐसी होगी तो मिलेगी मनचाही सफलता
क्या आपने स्टडी टेबल पर ध्यान दिया है। वह सुविधाजनक तो है लेकिन क्या वास्तु अनुरूप भी ...

वृषभ राशि में आए सूर्य, किस राशि के लिए शुभ, किसके लिए अशुभ

वृषभ राशि में आए सूर्य, किस राशि के लिए शुभ, किसके लिए अशुभ
मंगलवार, 15 मई 2018 को वृषभ राशि में सूर्य ने प्रवेश कर लिया है। आइए जानें किस राशि के ...

इन रत्नों से मिलेगा ग्रहों का शुभ प्रभाव, आप भी जानिए...

इन रत्नों से मिलेगा ग्रहों का शुभ प्रभाव, आप भी जानिए...
सूर्य को शक्तिशाली बनाने के लिए 3 रत्ती के माणिक को स्वर्ण की अंगूठी में, अनामिका अंगुली ...

यदि नौकरी में प्रमोशन नहीं हो रहा है तो अपनाएं ये 7 खास

यदि नौकरी में प्रमोशन नहीं हो रहा है तो अपनाएं ये 7 खास उपाय
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि नौकरी में आपकी मेहनत, प्रतिभा और वरिष्ठता के बावजूद मनचाही ...

भारत में हुआ है ज्योतिष का उदय, जानिए ज्योतिष के 10 महान ...

भारत में हुआ है ज्योतिष का उदय, जानिए ज्योतिष के 10 महान ग्रंथ
ज्योतिष का उदय भारत में हुआ, क्योंकि भारतीय ज्योतिष शास्त्र की पृष्ठभूमि 8000 वर्षों से ...

भगवान सूर्यदेव की 10 बातें जो आप नहीं जानते...

भगवान सूर्यदेव की 10 बातें जो आप नहीं जानते...
सूर्यस्वरूप सृष्टि में सबसे पहले प्रकट हुआ इसलिए इसका नाम आदित्य पड़ा।

हर भगवान के वाहन के पीछे छुपा है कोई राज

हर भगवान के वाहन के पीछे छुपा है कोई राज
सारे देवी-देवता पशुओं पर ही सवार हैं। क्यों हर भगवान के साथ कोई पशु जुड़ा हुआ है? आपको ...

20 मई 2018 का राशिफल और उपाय...

20 मई 2018 का राशिफल और उपाय...
विवाद को बढ़ावा न दें। जल्दबाजी से काम बिगड़ेंगे। शोक समाचार मिल सकता है। अपेक्षाकृत ...

20 मई 2018 : आपका जन्मदिन

20 मई 2018 : आपका जन्मदिन
दिनांक 20 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 2 होगा। ग्यारह की संख्या आपस में मिलकर दो होती है इस ...