वर्ष 2018 ग्रहण के 5 गजब नजारे, भारत में दिखेंगे 2 ग्रहण


नए साल 2018 में सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा की चाल दुनिया के खगोलप्रेमियों को 2 पूर्ण चन्द्रग्रहणों और 3 आंशिक सूर्यग्रहणों के 5 रोमांचक दृश्य दिखाएगी, हालांकि भारत में इनमें से केवल 2 खगोलीय घटनाओं के नजर आने की उम्मीद है।
उज्जैन की प्रतिष्ठित शासकीय जीवाजी वेधशाला के अधीक्षक डॉ. राजेन्द्रप्रकाश गुप्त ने बताया कि आगामी वर्ष में ग्रहणों की अद्भुत खगोलीय घटनाओं का सिलसिला 31 जनवरी को लगने वाले पूर्ण चन्द्रग्रहण से शुरू होगा।

नववर्ष का यह पहला ग्रहण भारत के साथ एशिया के कुछ अन्य देशों, दक्षिण अमेरिका,
रूस और पूर्वी यूरोप में दिखाई देगा। गुप्त ने भारतीय संदर्भ में की गई कालगणना के हवाले से बताया कि वर्ष 2018 में 15 और 16 फरवरी की दरमियानी रात आंशिक सूर्यग्रहण लगेगा।
हालांकि सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा की लुका-छिपी के इस दिलचस्प वाकये को भारत में नहीं निहारा जा सकेगा, क्योंकि ग्रहण के वक्त देश में पौ भी नहीं फटी होगी। इस खगोलीय घटना को अंटार्कटिका, दक्षिणी अमेरिका के दक्षिणी हिस्सों और दुनिया के कुछ अन्य इलाकों में देखा जा सकेगा।

आगामी 13 जुलाई को लगने
वाला आंशिक सूर्यग्रहण भी भारत में नहीं ​​देखा जा सकेगा। ग्रहण का यह दृश्य अंटार्कटिका, तस्मानिया और ऑस्ट्रेलिया के दक्षिणी भाग में नजर आने की उम्मीद है।

भारतीय खगोलप्रेमी यह जानकर खुश हो सकते हैं कि अगले साल 27 जुलाई को लगने वाला पूर्ण चन्द्रग्रहण देश के उन हिस्सों में दिखाई देगा, जहां मॉनसून के मौसम के दौरान आकाश साफ रहेगा। यह नजारा एशिया के कुछ अन्य देशों के साथ
अंटार्कटिका, ऑस्ट्रेलिया, रूस, अफ्रीका, यूरोप और अमेरिका के कुछ इलाकों में भी दिखेगा।
11 अगस्त 2018 को लगने वाला आंशिक सूर्यग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। अगले साल ग्रहण की यह अंतिम खगोलीय घटना कनाडा के उत्तरी भाग,
ग्रीनलैंड, रूस, कजाखस्तान, मंगोलिया और चीन में दिखाई देगी।

समाप्ति की ओर बढ़ रहे वर्ष 2017 के खाते में ग्रहण के 4 रोमांचक दृश्य लिखे थे। इनमें 11 फरवरी को लगा उपच्छाया चन्द्रग्रहण, 26 फरवरी को लगा वलयाकार सूर्यग्रहण, 7 अगस्त को लगा आंशिक चन्द्रग्रहण और 21 अगस्त को लगा पूर्ण सूर्यग्रहण शामिल हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :