वर्ष 2018 : मूलांक के अनुसार जानिए, कैसा होगा नया साल आपके लिए

से जानिए क्या है नए साल की गठरी में आपके लिए 
2018 और : नए साल के सितारे, क्या कर रहे हैं इशारे 
वर्ष 2018 और आपका मूलांक : जानिए कैसा होगा आपका भविष्य 
मूलांक के अनुसार जानिए नए साल में कैसा होगा आपका हाल 
नए साल के सितारे, जानिए आपके मूलांक के इशारे 
 
नए साल की आहट के साथ ही उम्मीद और आशा की किरणें जगमगाने लगती है। आने वाला वर्ष कैसा होगा, सपने पूरे होंगे या नहीं? हर वर्ग, हर उम्र के लोगों के लिए अलग- अलग संदेश लेकर आ रहा है नया वर्ष 2018... आइए जानते हैं न्यूमेरोलॉजी के अनुसार आपके मूलांक के लिए कैसा होगा वर्ष 2018..... 
 
मूलांक 1 और वर्ष 2018 
 
मूलांक 1 वालों का स्वामी सूर्य है, वहीं वर्ष का अंक 9 है। इसका स्वामी मंगल है, जो सूर्य का मित्र है। यह वर्ष आपके लिए अत्यंत उत्साहवर्धक व सुखद रहेगा। रुके कार्यों में सफलता मिलेगी। स्वास्थ्य की दृष्टि से यह वर्ष उत्तम रहेगा। पारिवारिक मामलों में महत्वपूर्ण कार्य होंगे, वहीं अविवाहितों के लिए सुखद स्थिति है, विवाह के योग भी बनेंगे। नौकरीपेशा व्यक्तियों के लिए समय उत्तम हैं। पदोन्नति के योग भी है। बेरोजगारों को रोजगार के सुअवसर मिलेंगे। राजनीतिज्ञ लोग भी सफल होंगे। 
 
शुभ रंग- सुनहरी, हल्का गुलाबी, लाल। 
मूलांक 2 और वर्ष 2018 
 
मूलांक 2 का स्वामी चन्द्र है व वर्ष का स्वामी मंगल है और मंगल चन्द्र का मित्र है। यह वर्ष आपके लिए काफी उन्नति व प्रगति का रहेगा, उत्साह में वृद्धि होगी, वहीं जोश के साथ आप अपनी जीवनशैली को बरकरार रखेंगे। लेखन संबंधित मामलों में समय अनुकूल रहेगा। वाद-विवाद व प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता पाने हेतु इस वर्ष बहुत से सुअवसर मिलेंगे। कोई नया कार्य बनने की योजनाओं की शुरुआत करने की संभावना है। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति में सुधार होगा। पारिवारिक समस्याओं का समाधान भी निकलेगा, स्वास्थ्य की दृष्टि से यह वर्ष ठीक रहेगा। शत्रुपक्ष प्रभावहीन होंगे। संबंधित समस्या भी हल होगी।
 
शुभ रंग- हल्का सिन्दूरिया रंग 
मूलांक 3 और वर्ष 2018 
 
मूलांक 3 का स्वामी गुरु है व वर्षांक का स्वामी मंगल है। गुरु-मंगल में मित्रता है। यह वर्ष आपके लिए अत्यंत उत्साहवर्धक रहकर प्रसन्नतादायक भी रहेगा। किसी विशेष परीक्षा में सफलता का भी योग है। नौकरीपेशा के लिए यह वर्ष अपनी प्रतिभा के बल पर प्रगति व सफलता का भी रहेगा। नवीन व्यापार की योजना भी बन सकती है। दांपत्य जीवन में सुखद स्थिति होकर घर या परिवार में शुभ कार्य भी होंगे। मित्र वर्ग का सहयोग सुखद रहेगा। शत्रु वर्ग प्रभावहीन होंगे। महत्वपूर्ण कार्य से यात्रा के योग भी हैं। मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। राजनीतिक व्यक्तियों के लिए समय उत्तम है। प्रशासनिक क्षेत्र से जुड़े व्यक्ति भी लाभान्वित होंगे।
 
शुभ रंग- केसरिया व लाल रंग 
मूलांक 4 और वर्ष 2018 
 
मूलांक 4 का स्वामी राहु है वहीं वर्ष का मूलांक 9 होकर इसका स्वामी मंगल है। दोनों में शत्रुता है। यह वर्ष आपको अति उत्साह से बचकर चलना होगा। कोई भी ऐसा कार्य न करें जिससे आप पर प्रशासन का शिकंजा कसें। पारिवारिक मामलों में मिल-जुलकर ही चलना होगा। मान-प्रतिष्ठा का ख्याल रखें। मित्र वर्ग का सहयोग ले लेकिन सावधानीपूर्वक चलें। नवीन कार्ययोजनाओं में सावधानी रखना होगी। आर्थिक मामलों में सावधानी व सतर्कता बरतें। शासकीय व्यक्तियों को काफी संभलकर चलना होगा। नौकरीपेशाओं के लिए अपने कार्य पर सतर्कता रखनी होगी। शत्रुपक्ष पर अपनी कूटनीतियों द्वारा सफलता मिलेगी। 
 
शुभ रंग- आसमानी रंग, लाल रंग से बचें।
मूलांक 5 और वर्ष 2018 
 
मूलांक 5 का स्वामी बुध है वहीं वर्ष का मूलांक 9 है। मंगल, बुध के साथ समभाव रखता है। यह वर्ष आपके लिए सफलताओं के साथ उत्साहभरा रहेगा, जो आप अभी तक नहीं कर पाए, वह इस वर्ष कर पाने में सफल होंगे। यदि पिछली कोई समस्या होगी, वह इस वर्ष समाप्त होगी। पारिवारिक सहयोग के साथ प्रसन्नता रहेगी। संतान पक्ष में प्रसन्नतादायक समाचार मिल सकता है। नौकरीपेशा व्यक्तियों के लिए यह वर्ष निश्चय ही सफलताओं से भरा रहेगा। दांपत्य जीवन में मधुर वातावरण के साथ प्रसन्नता रहेगी। अविवाहित भी विवाह के बंधन में बंधेंगे। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति में सुधार होगा।
 
शुभ रंग- मेहरुन के साथ हरा 
मूलांक 6 और वर्ष 2018
 
मूलांक 6 का स्वामी शुक्र व वर्ष का मूलांक 9 है व उसका स्वामी मंगल है। शुक्र व मंगल में शत्रुता है। इस साल अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखकर चलें अन्यथा आपकी प्रतिष्ठा को ठेस लग सकती है। अनैतिक व्यवसाय से धन कमाने की चेष्टा नहीं करें तो उत्तम रहेगा। विद्यार्थी वर्ग के लिए लेखन संबंधित मामलों में अनुकूल स्थिति रहेगी। व्यापार-व्यवसाय में स्वप्रयत्नों द्वारा उत्तम सफलता के योग हैं। अविवाहितों के लिए विवाह के योग बनेंगे। स्त्री पक्ष का सहयोग मिलेगा। नौकरीपेशा व्यक्ति अपने कार्यबल पर उन्नति के हकदार होंगे। बैंकिंग परीक्षाओं में सफलता अर्जित कर सकते हैं। दांपत्य जीवन में सुखद स्थिति रहेगी। आर्थिक मामलों में संभलकर चलना होगा।
 
शुभ रंग- गोल्डन, लाल से बचें।
मूलांक 7 और वर्ष 2018
 
मूलांक 7 का स्वामी केतु है व वर्ष के मूलांक का स्वामी मंगल है। केतु व मंगल में आपसी मित्रता है। केतु जिस ग्रह के साथ रहता है, उस जैसा ही प्रभाव देता है। अत: आपके कार्य में प्रगति के साथ तेजी का वातावरण रहेगा। आपको प्रत्येक कार्य में पूरी तरह एकजुट होकर लगने पर सफलता मिलेगी। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति उत्तम ही रहेगी। अधिकारी वर्ग का सहयोग भी मिलेगा। नौकरीपेशा व्यक्तियों के लिए समय सुखदायी रहेगा। नवीन कार्ययोजना शुरू करने से पहले केसर का लंबा तिलक लगाकर कार्य शुरू करें व एक पताका किसी मंदिर पर लगाएं।
 
शुभ रंग- सफेद चमकीला रंग
मूलांक 8 और वर्ष 2018
 
मूलांक 8 का स्वामी शनि है व वर्ष के मूलांक का स्वामी मंगल है। इनमें आपसी शत्रुता होने से आपके कार्यों में काफी रुकावटों का सामना करना पड़ेगा। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति कुछ कमजोर ही रहेगी। नौकरीपेशा व्यक्तियों को अपने कार्य में सावधानी रखकर चलना होगा। बेरोजगार के लिए यह साल ठीक नहीं है। कुछ कम ही रोजगार पाने में सफल होंगे। शत्रु वर्ग से बचकर ही चलें। स्वास्थ्य की दृष्टि से समय मिला-जुला ही रहेगा। राजनीतिक व्यक्ति समय को ध्यान में रखकर चलें। कोई भी कार्य बगैर सोचे-समझे न करें।
 
शुभ रंग- नीला व हल्का हरा।
मूलांक 9 और वर्ष 2018
 
मूलांक 9 का स्वामी मंगल है व वर्ष के मूलांक का स्वामी भी मंगल ही है। यह समय आपके लिए अपनी शक्ति का भरपूर प्रयोग करने का है। आप अपने प्रत्येक कार्य में अनुकूल सफलता के साथ प्रगति की ओर अग्रसर होंगे। पारिवारिक, जमीन-जायदाद संबंधित विवाद भी सुलझेंगे। महत्वपूर्ण कार्ययोजनाओं में सफलता मिलेगी। अधिकार क्षेत्र में वृद्धि होगी। नौकरी में चली आ रही बाधा भी दूर होगी। स्वास्थ्य की दृष्टि से समय उत्तम रहेगा। राजनीतिक व्यक्ति भी सफलता का स्वाद चखेंगे। मित्रों व स्वजनों का सहयोग मिलने से प्रसन्नता रहेगी। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल होंगे।
 
शुभ रंग- लाल, नीले से बचें।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

राशिफल

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते ...

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते हैं पार्वती और गणेश?
अमरनाथ गुफा में शिवलिंग का निर्मित होना समझ में आता है, लेकिन इस पवित्र गुफा में एक गणेश ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण मास,अभिषेक और बेलपत्र
पौराणिक कथा है कि जब सनत कुमारों ने महादेव से उन्हें श्रावण महीना प्रिय होने का कारण पूछा ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें पूरी कहानी
लकी कैट जापान से आई है। घर में इस बिल्ली की प्रतिमा रखने मात्र से ही व्यक्ति की सारी ...

श्रावण मास में शिव-पूजा से पहले पढ़ें यह नियम, वरना नहीं ...

श्रावण मास में शिव-पूजा से पहले पढ़ें यह नियम, वरना नहीं मिलेगा पूरा फल, मंत्र की गल‍ती कर सकती है बर्बाद
श्रावण भगवान शिव का प्रिय महीना है, इन दिनों चारों ओर से मंत्र जाप की ध्वनि सुनाई देगी, ...

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य
गीता में लिखा गया है कि ये संसार उल्टा पेड़ है। इसकी जड़ें ऊपर और शाखाएं नीचे हैं। यदि कुछ ...

भोलेनाथ को क्यों प्रिय है भस्म, जानेंगे तो श्रद्धा से भावुक ...

भोलेनाथ को क्यों प्रिय है भस्म, जानेंगे तो श्रद्धा से भावुक हो जाएंगे, साथ में पढ़ें महाकाल की भस्मार्ती का राज
आखिर भगवान भोलेनाथ को विचित्र सामग्री ही प्रिय क्यों है। बहुत कम लोग जानते हैं कि उनके ...

श्रावण में 40 दिन तक शिव जी को घी चढ़ाने से मिलेगा यह ...

श्रावण में 40 दिन तक शिव जी को घी चढ़ाने से मिलेगा यह आश्चर्यजनक आशीर्वाद, पढ़ें 12 राशि मंत्र भी...
श्रावण मास में भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए अपनी राशि अनुसार करें उनकी मंत्र आराधना। ...

आप नहीं जानते होंगे नंदी कैसे बने भगवान शिव के गण?

आप नहीं जानते होंगे नंदी कैसे बने भगवान शिव के गण?
शिव की घोर तपस्या के बाद शिलाद ऋषि ने नंदी को पुत्र रूप में पाया था। शिलाद ऋषि ने अपने ...

यह हैं वे 8 सुंदर सुगंधित फूल और पत्ती जिनसे होते हैं ...

यह हैं वे 8 सुंदर सुगंधित फूल और पत्ती जिनसे होते हैं भोलेनाथ प्रसन्न
श्रावण मास कहें या सावन मास इस पवित्र महीने में भगवान भोलेशंकर की कई प्रकार से आराधना ...

अमरनाथ गुफा में प्रवेश से पहले किन्हें त्याग दिया था शिवजी ...

अमरनाथ गुफा में प्रवेश से पहले किन्हें त्याग दिया था शिवजी ने, आप भी जानिए
अमरनाथ गुफा की ओर जाते हुए शिव सर्वप्रथम पहलगाम पहुंचे, जहां उन्होंने अपने नंदी (बैल) का ...