अक्षय तृतीया पर करें 'अक्षय साधना' और ये उपाय, होगा भाग्योदय...

akshay tritiya
 
 
* अक्षय तृतीया पर करें पितृ-दोष मुक्ति के सरल उपाय  
 
आगामी 18 अप्रैल को 'अक्षय-तृतीया' है। जैसा कि नाम से स्पष्ट है अक्षय अर्थात् जिसका कभी क्षय ना हो। 'अक्षय-तृतीया' एक अति महत्वपूर्ण पर्व है। 'अक्षय-तृतीया' को अबूझ व स्वयं सिद्ध मुहूर्त की मान्यता प्राप्त है। प्रतिवर्ष अक्षय-तृतीया का पर्व वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। 
 
इस बार 'अक्षय-तृतीया' 18 अप्रैल को कृतिका नक्षत्र एवं सर्वार्थ सिद्धि योग में रहेगी जो बहुत ही दुर्लभ व शुभ संयोग है। अक्षय-तृतीया के दिन सम्पन्न की गईं साधनाएं व दान अक्षय रहकर शीघ्र फलदायी होते हैं। 
 
'अक्षय-तृतीया' के दिन साधक हत्थाजोड़ी सिद्धि, लक्ष्मी प्राप्ति साधना, अरिष्ट निवारण साधना सम्पन्न कर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। पितृ-दोष से मुक्ति के लिए 'अक्षत-तृतीया' बहुत अच्छा अवसर है, इस दिन पितृगणों के निमित्त दिया गया दान अक्षय होकर पितृगणों को तुष्ट करता है।
 
अक्षत तृतीया के दिन क्या करें :- 
 
1. सुख शांति : 11 गोमती चक्रों को लाल रेशमी वस्त्र में बांधकर चांदी की डिब्बी में रखकर पूजा स्थान में रखने से घर में सदैव सुख-शांति का वातावरण बना रहता है।
 
2. व्यापारिक लाभ : 27 गोमती चक्रों को पीले या लाल रेशमी वस्त्र में बांधकर अपने प्रतिष्ठान के मुख्य द्वार पर बांधने से व्यापार में आशातीत लाभ होता है।
 
3. कर्मक्षेत्र : यदि कर्मक्षेत्र में बाधाएं आ रही हों या पदोन्नति में रुकावट हो तो 'अक्षय-तृतीया' के दिन शिवालय में शिवलिंग पर 13 गोमती चक्र अपनी मनोकामना का स्मरण करते हुए अर्पित करने लाभ होता है।
 
4. भाग्योदय : भाग्योदय हेतु 'अक्षय-तृतीया' के दिन प्रात:काल उठते ही सर्वप्रथम 11 गोमती चक्रों को पीसकर उनका चूर्ण बना लें, फिर इस चूर्ण को अपने घर के मुख्य द्वार के सामने अपने ईष्ट देव का स्मरण करते हुए बिखेर दें। इस प्रयोग से कुछ ही दिनों में साधक का दुर्भाग्य समाप्त होकर भाग्योदय होता है।
 
ALSO READ: : जीवन में चमत्कार करेंगे ये 14 तरह के दान...>  
पितृ-दोष से मुक्ति के लिए : 
 
जिन जातकों की जन्मपत्रिका में 'पितृ-दोष' है वे 'अक्षय-तृतीया' के दिन प्रात:काल किसी स्वच्छ स्थान या मन्दिर में लगे पीपल के ऊपर अपने पितृगणों के निमित्त घर का बना मिष्ठान व एक मटकी में शुद्ध जल रखें। पीपल के नीचे धूप-दीप प्रज्ज्वलित कर अपने पितृगणों की संतुष्टि के लिए प्रार्थना करें। तत्पश्चात् बिना पीछे देखे सीधे अपने घर लौट आएं, ध्यान रखें इस प्रयोग को करते समय अन्य किसी व्यक्ति की दृष्टि ना पड़ें। इस प्रयोग को करने से पितृगण शीघ्र ही संतुष्ट होकर अपना आशीर्वाद प्रदान करते हैं।
 
स्वयंसिद्ध विवाह मुहूर्त है 'अक्षय-तृतीया' :
 
' अक्षय-तृतीया' एक स्वयं सिद्ध मुहूर्त है। 15 अप्रैल को सूर्य के मेष राशि में प्रवेश के साथ ही विगत 1 माह से चल रहा 'मलमास' समाप्त हो जाएगा। ' मलमास' के समाप्ति के पश्चात 18 अप्रैल ' अक्षय-तृतीया' से विवाह प्रारंभ होंगे। स्वयं सिद्ध व अबूझ श्रेणी का मुहूर्त होने से 'अक्षय-तृतीया'  के दिन विवाह करना श्रेयस्कर रहेगा।>
 
-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
प्रारब्ध ज्योतिष परामर्श केन्द्र
सम्पर्क: astropoint_hbd@yahoo.com

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

राशिफल

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, जानिए ग्रह अनुसार क्या चढ़ाएं शिव को
श्रावण के शुभ समय में ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार शिवलिंग का पूजन करना चाहिए। ...

सूर्य आए कर्क राशि में, जानिए क्या उलटफेर होगा आपकी राशि ...

सूर्य आए कर्क राशि में, जानिए क्या उलटफेर होगा आपकी राशि में ...
16 जुलाई 2018 सोमवार को 22:42 बजे कर्क राशि में गोचर करने जा रहे हैं। सूर्यदेव के इस ...

शिवपुराण में मिला धन कमाने का पौराणिक रहस्य, बहुत आसान है ...

शिवपुराण में मिला धन कमाने का पौराणिक रहस्य, बहुत आसान है मनचाही दौल‍त पाना
यदि आप भी शिवजी की कृपा से धन संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाना चाहते हैं तो यहां बताया गया ...

श्रावण मास में मंदिर नहीं जा सकते, घर में रहकर करना है शिव ...

श्रावण मास में मंदिर नहीं जा सकते, घर में रहकर करना है शिव पूजन तो यह लेख आपके लिए है, पढ़ें राशि अनुसार शिव पूजन
प्रस्तुत है इस श्रावण मास में कुछ ऐसे उपाय जो आप घर में बैठकर ही आसानी से कर सकते हैं और ...

सावन मास में यह धारा शिव को चढ़ाने से मूर्ख भी हो जाता है ...

सावन मास में यह धारा शिव को चढ़ाने से मूर्ख भी हो जाता है बुद्धिमान, पढ़ें 7 विशेष जानकारी
सावन मास में शिव का पूजन पूरी विधि विधान से करना चाहिए। जानिए, अलग-अलग धाराओं से शिव ...

18 जुलाई से सौर मास श्रावण आरंभ, क्या लाया है यह बदलाव आपकी ...

18 जुलाई से सौर मास श्रावण आरंभ, क्या लाया है यह बदलाव आपकी राशि के लिए
यूं तो विधिवत श्रावण मास का आरंभ 28 जुलाई से होगा लेकिन सूर्य कर्क संक्रांति के साथ ही ...

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते ...

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते हैं पार्वती और गणेश?
अमरनाथ गुफा में शिवलिंग का निर्मित होना समझ में आता है, लेकिन इस पवित्र गुफा में एक गणेश ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण मास,अभिषेक और बेलपत्र
पौराणिक कथा है कि जब सनत कुमारों ने महादेव से उन्हें श्रावण महीना प्रिय होने का कारण पूछा ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें पूरी कहानी
लकी कैट जापान से आई है। घर में इस बिल्ली की प्रतिमा रखने मात्र से ही व्यक्ति की सारी ...

श्रावण मास में शिव-पूजा से पहले पढ़ें यह नियम, वरना नहीं ...

श्रावण मास में शिव-पूजा से पहले पढ़ें यह नियम, वरना नहीं मिलेगा पूरा फल, मंत्र की गल‍ती कर सकती है बर्बाद
श्रावण भगवान शिव का प्रिय महीना है, इन दिनों चारों ओर से मंत्र जाप की ध्वनि सुनाई देगी, ...