18 अप्रैल को सर्वार्थसिद्धि योग में मनेगी अक्षय तृतीया, ये हैं शुभ मुहूर्त...

akshya tritya-Poster-630
 
 
वैशाख मास में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया या आखातीज कहते हैं। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार 'अक्षय' का अर्थ होता है- जिसका कि क्षय नहीं हो अर्थात जिसका फल नष्ट न हो। अक्षय तृतीया पर किए जाने वाले कार्य व दान-पुण्य व्यर्थ नहीं जाते। अत: हमें किसी भी शुभ काम के लिए यही दिन चुनना चाहिए। यह अति शुभ दिन सभी कार्यों का शुभ फल देता है।
 
वर्ष 2018 में यह तिथि 18 अप्रैल, बुधवार को पड़ रही है। मान्‍यता है कि इस दिन विवाह करने वालों का सौभाग्य अखंड बना रहता है। अक्षय तृतीया के दिन मांगलिक कार्य, विवाह, गृह निर्माण, गृह प्रवेश, देव प्रतिष्ठा, व्यापार आरंभ, मुंडन संस्कार आदि का है। इसके अलावा व्यापार के लिए भी यह दिन विशेष रहेगा।
 
इस बार लगभग अक्षय तृतीया पर 24 घंटे का का बन रहा है अत: मांगलिक कार्यों के लिए यह समय बहुत खास रहेगा। 18 अप्रैल को तृतीया तिथि 4.47 बजे से शुरू होकर रात 3.03 बजे तक रहेगी। इसमें दिनभर खरीदारी अथवा कोई भी शुभ कार्य संपन्न किया जा सकता है। सर्वार्थसिद्धि योग के महासंयोग में आने वाली अक्षय तृतीया अपार सुख-समृद्धि देने वाली होगी। >
 
>

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :