अनबूझा-सा इक तेवर थे बाबूजी

fathers day
पुनः संशोधित रविवार, 12 अक्टूबर 2014 (12:17 IST)
 
आलोक श्रीवास्तव की रचना - 3
 
घर की बुनियादें, दीवारें, बामो-दर थे बाबूजी,
सबको बांधे रखने वाला ख़ास हुनर थे बाबूजी.
 
तीन मुहल्लों में उन जैसी कद-काठी का कोई न था,
अच्‍छे-खासे, ऊंचे-पूरे, कद्दावर थे बाबूजी.
 
अब तो उस सूने माथे पर कोरेपन की चादर है,
अम्माजी की सारी सजधज, सब जेवर थे बाबूजी.
 
भीतर से ख़ालिस जज़्बाती और ऊपर से ठेठ-पिता,
अलग, अनूठा, अनबूझा-सा इक तेवर थे बाबूजी.
 
कभी बड़ा सा हाथ ख़र्च थे, कभी हथेली की सूजन,
मेरे मन का आधा साहस, आधा डर थे बाबूजी.
>

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :