बॉलीवुड में छाई रहेगी हॉलीवुड कंपनियाँ

WD|
पूरब और पश्चिम का मेल आज एक वैश्विक घटनाक्रम का हिस्सा बन गया है। वैश्वीकरण की इस प्रक्रिया से बॉलीवुड भी अछूता नहीं रहा है और बीते वर्ष की गतिविधियाँ अगर अपने अंजाम तक पहुँची तो इस बात में दो राय नहीं कि अगले वर्ष हॉलीवुड की फिल्म निर्माता कंपनियाँ कम से कम 25 हिन्दी फिल्मों का निर्माण करने जा रही हैं।

इस सब के बीच सोनी एंटरटेंमेन्ट और संजय लीला भंसाली की फिल्म साँवरिया के पैसा वसूल साबित नहीं होने के बावजूद नए वर्ष में हॉलीवुड के भारतीय संस्करण पर्दे पर देखने को मिलेंगे। गौरतलब है कि बॉलीवुड के लिए कमाई और विस्तार के लिहाज से वर्ष 2007 काफी शानदार रहा।

इसी क्रम को आगे जारी रखते हुए इरोज वार्नर ब्रदर्स फाक्स सर्च लाइट सोनी इंटरनेशनल मोशन पिक्चर प्रोडक्शन जैसी हॉलीवुड फिल्म निर्माता कंपनियाँ वर्ष 2008 में हिन्दी फिल्मों के निर्माण के लिए बड़े पैमाने पर भारतीय कंपनियों से गठजोड़ कर रही हैं।
सर्वेक्षण कंपनी एटी कियर्नी और सीआईआई द्वारा संयुक्त रूप से जारी रिर्पोट द न्यू इकोनॉमिक्स ऑफ इंडियन फिल्म इंडस्ट्री, क्रिएटीविटी एंड ट्रांसफार्मेशन के अनुसार वर्ष 2006 में बॉलीवुड का कारोबार 1.8 अरब डॉलर रहा था और इस क्षेत्र में वैश्विक कंपनियों के प्रवेश के बाद वर्ष 2011 तक इसका आकार बढ़कर 4.5 अरब डॉलर से 6 अरब डॉलर तक हो जाने की उम्मीद है।
कियर्नी की रपट में कहा गया है कि बॉलीवुड में खुलापन के इस दौर में बड़े-बड़े प्रोडक्शन हाउस सामने आएँगे और फिल्मों के स्वरूप और बजट में भी जबरदस्त वृद्धि देखने को मिलेगी।

दूसरी ओर एडलैब्स सहारा मोशन पिक्चर्स यशराज फिल्म्स जैसी बॉलीवुड कंपनियों का मानना है कि हालीवुड फिल्म निर्माता कंपनियों के भारतीय फिल्म उद्योग में प्रवेश से कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा।
एड लैब्स के अध्यक्ष अमित खन्ना का कहना है कि हॉलीवुड फिल्म निर्माण कंपनियों के बॉलीवुड में प्रवेश का देशी कंपनियों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। उनका बॉलीवुड में स्वागत है क्योंकि हिन्दी फिल्म उद्योग में अब धन की कोई कमी नहीं है।

पहले आमिर खान के साथ फिल्म लगान और अब फिल्म जोधा अकबर बनाने वाली कंपनी यूटीवी ने हॉलीवुड की कंपनी फॉक्स सर्च लाइट के साथ मिलकर नेमसेर्कं का निर्माण किया और अब कंपनी भारतीय मूल के हॉलीवुड निर्माता निर्देशक मनोज एन श्यामलन के साथ मिलकर फिल्म द हैपनिंग बना रही है जो अगले वर्ष पर्दे पर आएगी।
यूटीवी ने हॉलीवुड अभिनेता विल स्मिथ की कंपनी ओवरब्रूक एंटरटेंमेन्ट के साथ फिल्म निर्माण के लिए समझौता किया है। इसके अलावा सोनी इंटरटेंमेन्ट ने इरोज के साथ मिलकर वर्ष 2008 में छह हिन्दी फिल्मों के निर्माण के लिए समझौता किया है।

विश्व की प्रसिद्ध एनिमेशन फिल्म कंपनी डिज्नी भी बॉलीवुड में प्रवेश करने जा रही है और यशराज फिल्म्स के साथ उसकी पहली फिल्म रोडसाइड रोमियो अगले वर्ष पर्दे पर देखने को मिलेगी।
इस सब के बीच फिल्म सांवरिया को अपेक्षित सफलता नहीं मिलने के बावजूद फिल्म उद्योग को उम्मीद है कि अगले वर्ष बॉलीवुड में फिल्मों से अर्जित आय में 20 से 25 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की जा सकती है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :