गर्मियों में रखें अपने क्यूट 'पपी' का ख्याल


कोमिका भारद्वाज

पालतू जानवरों के शरीर का सामान्य तापमान हमारे शरीर के तापमान से ज्यादा होता है। इसकी वजह से जानवरों के लिए गर्मियां बहुत तकलीफदेह होती हैं इसलिए कुछ आसान उपाय करके हम अपने पालतू जानवरों को शीतलता और आराम दे सकते हैं। कुत्तों को पसीना नहीं आता और गर्मी से बचने के लिए वे सिर्फ जीभ निकालकर सांस लेते हैं या फिर पैरों के निचले हिस्से का सहारा लेते हैं।
गर्मियों में अपने पालतू को एक घंटे से ज्यादा समय तक धूप में नहीं रखना चाहिए। हालांकि, अगर वे खुले में रहते हैं या घर के बाहर समय गुजारते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि उन्हे उपयुक्त छाया मिले और काफी सारा पानी मिले जिससे उन्हे गर्मी से राहत मिले और डीहाइड्रेशन न हो।

इसके अलावा अपने पालतू को कभी भी खड़ी या ज्यादा देर के लिए रुकी गाड़ी में न रखें। इससे पालतुओं के मस्तिष्क को क्षति पहुंचती हैं और वे ज्यादा गर्मी के कारण मर भी जाते हैं। असल में रुकी हुई कार के अंदर का तापमान मिनटों में 120 डिग्री तक पहुंच जाता है। गर्मियों में कुत्ते कम खाते हैं पर शरीर का तापमान कम करने की कोशिश में ज्यादा ऊर्जा नष्ट कर देते हैं।

पालतू जानवरों को रखने वाले बहुत सारे लोग जानवरों को गर्मियों में घर में बनी चीजें जैसे दही और चावल खिलाते हैं। यहां यह गौर करने वाली बात है कि इस खाद्य पदार्थ में काफी ज्यादा मात्रा में पानी है पर ऊर्जा, विटामिन, खनिज आदि पर्याप्त मात्रा में नहीं हैं। इसलिए पूरी तरह संतुलित और पोषण के लिहाज से सही आहार के रूप में आप पेडिग्री ड्राई फूड अपने पालतू को दे सकते हैं। यह भी ध्यान रखें पालतुओं को खाना दिन के ऐसे समय में दिया जाना चाहिए जब थोड़ी ठंड हो।
उन्हें टहलाने के लिए एकदम सुबह या फिर सूर्यास्त के बाद जब गर्मी थोड़ी कम हो जाए तब ले जाएं। अगर आपका कुत्ता खूब हांफ रहा हो, लार गिरा रहा हो या मुंह से झाग निकल रहा हो तो यह गर्मी से जुड़ी समस्या के पहले संकेतों में से है।

ऐसे में अपने कुत्ते को किसी ठंडी जगह पर ले जाइए, ठंडा पानी पिलाइए और अगर कुछ मिनटों में ठीक न हो तो चिकित्सक से संपर्क कीजिए।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

कविता : भारत के वीर सपूत

कविता : भारत के वीर सपूत
तेईस मार्च को तीन वीर, भारतमाता की गोद चढ़े। स्वतंत्रता की बलवेदी पर,

सुनो नन्ही बच्चियों, हम अपराधी हैं तुम्हारे

सुनो नन्ही बच्चियों, हम अपराधी हैं तुम्हारे
माता-पिता की सघन छांव से अधिक सुरक्षित जगह क्या होगी.. ? सुरक्षा की उस कड़ी पहरेदारी में ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी जानिए...
कर्मकांड हमारी सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग है। बिना पूजा-पाठ व कर्मकांड के कोई भी हिन्दू ...

आम के यह 'खास' फायदे शर्तिया नहीं पता होंगे आपको

आम के यह 'खास' फायदे शर्तिया नहीं पता होंगे आपको
रसीले पके आम अत्यंत स्वादिष्ट लगते हैं। आइए जानते हैं इसके 5 ऐसे फायदे जो आपको अचरज में ...

मन को लुभाएगी लाजवाब चटपटी कैरी की चटनी...

मन को लुभाएगी लाजवाब चटपटी कैरी की चटनी...
एक कड़ाही में तेल गरम कर चना दाल, मैथी और जीरा डालकर भून लें। लाल मिर्च, मीठा नीम, हींग ...

मेरी मां : पढ़ें मदर्स डे पर निबंध

मेरी मां : पढ़ें मदर्स डे पर निबंध
हम मां के बारे में जितना भी लिखें वो कम ही होगा! मेरी मां सुबह मुझे जल्दी उठाती हैं, मेरा ...

मातृ दिवस पर निबंध

मातृ दिवस पर निबंध
दिवस, मातृ और दिवस शब्दों से मिलकर बना है जिसमें मातृ का अर्थ है मां और दिवस यानि दिन। इस ...

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल सुरक्षित
इस विशेष हनुमान मंत्र का स्मरण जन्मदिन के दिन करने पर पूरे साल की सुरक्षा हासिल होती है ...

जानकी जयंती पर पढ़ें मां सीता की अचंभित कर देने वाली यह ...

जानकी जयंती पर पढ़ें मां सीता की अचंभित कर देने वाली यह कथा...
भगवान श्रीराम राजसभा में विराज रहे थे उसी समय विभीषण वहां पहुंचे। वे बहुत भयभीत और हड़बड़ी ...

लघुकथा : पत्रकार ?

लघुकथा : पत्रकार ?
एक राजनेता की किसी समारोह के दौरान चप्पलें गुम हो जाने की वजह से समारोह-स्थल से अपनी कार ...