भारतीय फुटबॉल टीम ने तोड़ा 53 साल पुराना रिकॉर्ड

Last Updated: रविवार, 20 अगस्त 2017 (19:41 IST)
मुंबई। भारत ने 1 गोल से पिछड़ने के बाद शानदार वापसी करते हुए को 3 देशों की अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल सीरीज में शनिवार रात को 2-1 से हरा दिया और इसके साथ ही अपने इतिहास में लगातार 8 आधिकारिक मैच जीतने का भी रिकॉर्ड बना दिया। राष्ट्रीय टीम ने इसके साथ ही 53 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया।
भारतीय राष्ट्रीय टीम ने 1962 से 1964 तक लगातार 7 अंतरराष्ट्रीय मैच जीतने का रिकॉर्ड बनाया था जिसे अब की टीम ने 8वीं जीत के साथ तोड़ दिया। भारत ने 2 जून 2016 को लाओस के खिलाफ एएफसी प्लेऑफ राउंड 1 का मैच जीतने के बाद से लगातार 8 अंतरराष्ट्रीय मैच जीत लिए हैं।

भारतीय टीम के इस रिकॉर्ड को बनाने के बावजूद कोच स्टीफन कोंस्टेंटाइन बहुत ज्यादा उत्साहित नहीं हैं। उन्होंने कहा कि यदि हम एएफसी एशिया कप 2019 के लिए क्वालीफाई नहीं करते हैं तो इस रिकॉर्ड का कोई मतलब नहीं है। मेरा लक्ष्य क्वालीफाई करना है और मैं इस तरह के रिकॉर्ड से ज्यादा उत्साहित नहीं होता।

कोंस्टेंटाइन ने कहा कि 9, 10, 11 तब तक मायने नहीं रखता, जब तक कि हम अपना लक्ष्य हासिल नहीं कर लेते। निश्चित रूप से मैच जीतना महत्वपूर्ण है ताकि टीम की लय बनी रहे लेकिन हमारा लक्ष्य मकाऊ से मुकाबला होने से पहले सही संयोजन में आ जाना है। कोच ने इस जीत का श्रेय खिलाड़ियों के साथ साथ पूरे सपोर्टिंग स्टाफ को भी दिया।

मुंबई फुटबॉल एरेना में हुए इस मुकाबले में भारत के लिए रोबिन सिंह ने 37वें और बलवंत सिंह ने 62वें मिनट में गोल किए। मॉरीशस का एकमात्र गोल मर्विन जोसलीन ने 15वें मिनट में किया। भारतीय टीम ने इस जीत से भारतीय फुटबॉल में एक नया रिकॉर्ड बना दिया। यह पहली बार है, जब राष्ट्रीय टीम ने लगातार 8 आधिकारिक मैच जीत लिए हैं। भारत की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पिछले 16 मैचों में यह 14वीं जीत है।
इस मैच में स्थानीय खिलाड़ी निखिल पुजारी, अमरिंदर सिंह और मानवीर सिंह ने सीनियर राष्ट्रीय टीम की तरफ से अपना अंतरराष्ट्रीय पदार्पण किया, जो उनके लिए यादगार मैच भी बन गया। मॉरीशस की टीम अब सेंट किट्स एंड नेविस से इसी स्थल पर 22 अगस्त को खेलेगी जबकि भारत 2 दिन बाद 24 अगस्त को यहीं सेंट किट्स एंड नेविस से भिड़ेगा। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :