Widgets Magazine

लोग समझते हैं माई लेकिन ये हैं बालकदास महाराज

Last Updated: मंगलवार, 17 मई 2016 (15:59 IST)
- आलोक 'अनु'  
उज्जैन। सिंहस्थ महापर्व के दौरान कई ऐसे साधु-संत और महात्माओं का आगमन हो रहा है, जिनके अतीत में अगर झांका जाए तो उनके नामांकरण से लेकर उनके बारे में कई रोचक बाते सामने आती है, उसी में शामिल है दिगंबर अखाड़े से जुड़े बालकदासजी महाराज जो जन्म से ही संन्यासी हैं, लेकिन इनकी वेशभूषा देखकर कोई भी धोखा खा जाता है कि यह महिला संन्यासी (माई) हैं या पुरुष संन्यासी।
मंगलनाथ मेला क्षेत्र निर्मोही अखाड़े के महंत परमात्मादासजी महाराज के आश्रम में अचानक एक बाबा दिखाई दिए, जिनके लंबे-लंबे बाल और वेशभूषा देखकर पहले प्रतीत हुआ कि यह कोई महिला संन्यासी (माई) हैं, लेकिन जब परमात्मानंदजी जो कि उनके गुरू भाई है, ने उन्हें गले लगाया तो पता चला कि वे कोई महिला संत (माई) नहीं बल्कि बालकदास जी महाराज हैं, इन्हें देखकर कई लोग धोखा खा जाते हैं, क्योंकि वर्षों से अपने बाल उन्होंने नहीं काटे है। 
 
दिंगबर अखाड़े से जुड़े बालकदासजी महाराज से जब पूछा गया कि आपका नाम बालकदास कैसे रखा गया तो उन्होंने कहा कि मैं जन्म से संन्यासी हूं, कब पैदा हुआ कहां पैदा हुआ, इसकी मुझे कोई जानकारी नहीं है, जब से होश संभाला है, तब से सन्यासियों के बीच में रह रहा हूं और इसलिए मैं भी बचपन से संन्यासी बन गया, यही कारण है कि मुझे लोग बालकदासजी महाराज के नाम से पहचानते हैं।
 
केवल मोरधन खाते हैं : बालकदास महाराज ने जबसे संन्यास लिया है, तब से उन्होंने अन्न ग्रहण नहीं किया है, वे केवल मोरधन खाते हैं। तपसीजी की छावनी, अयोध्या गुरूद्वारा में रहने वाले बालकदासजी का कहना है कि संत की उम्र नहीं कर्म होता है, वहीं संत के पास धन नहीं साधना होती है। संन्यासी जीवन जीने वाले बालकदास ने आज तक कोई नशा ग्रहण नहीं किया है, जबकि वे जिन साधु-संतों और महात्माओं के बीच रहते हैं, उनमें से अधिकांश कोई न कोई नशा करते हैं, लेकिन सात्विक जीवन को अपना आधार बना चुके बालकदास इन सभी व्यसनों से दूर हैं।
 
जटाएं तोड़कर ले जाते हैं घर : बालकदासजी महाराज ने बताया कि उनकी लंबी जटाएं उनके भक्त अक्सर हाथ से तोड़कर अपने घर ले जाते हैं। लगभग 14 सालों से उन्होंने अपने बाल नहीं कटवाए हैं, इसलिए उनकी जटाओं की लंबाई लगभग 8 फुट से अधिक है, जिन्हें धोने में लगभग दो घंटे और सुखाने में तीन से चार घंटे लग जाते हैं।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बृहस्पतिवार को करें मंगल दोष के ये उपाय, दूर होगा तनाव...

बृहस्पतिवार को करें मंगल दोष के ये उपाय, दूर होगा तनाव...
ज्यादातर ज्योति‍षी का मानना है कि अगर कुंडली में मंगल कमजोर हो तो गुरुवार का दिन प्रतिकूल ...

मंदबुद्धि छात्रों के लिए बहुत लाभदायी है यह एक मंत्र, अवश्य ...

मंदबुद्धि छात्रों के लिए बहुत लाभदायी है यह एक मंत्र, अवश्य पढ़ें...
विद्यार्थी को इस मंत्र को प्रत्येक दिन नहा-धोकर पवित्र आसन पर बैठकर धूप दीप जलाकर ...

नहीं रखने चाहिए बच्चों के ये नाम, वर्ना पछताएंगे

नहीं रखने चाहिए बच्चों के ये नाम, वर्ना पछताएंगे
हिंदुओं में वर्तमान में यह प्रचलन बढ़ने लगा है कि वे अपने बच्चों के नाम कुछ हटकर रखने लगे ...

शुक्र का स्वराशि वृषभ में प्रवेश, क्या होगा 12 राशियों पर ...

शुक्र का स्वराशि वृषभ में प्रवेश, क्या होगा 12 राशियों पर असर...
शुक्र ने अपनी स्वराशि वृषभ में प्रवेश कर लिया है। शुक्र को सौंदर्य, भोग-विलास, ...

सोना-चांदी शुभ क्यों होते हैं पूजा में...

सोना-चांदी शुभ क्यों होते हैं पूजा में...
चांदी को भी पवित्र धातु माना गया है। सोना-चांदी आदि धातुएं केवल जल अभिषेक से ही शुद्ध हो ...

बांग्लादेश में हैं माता के ये 5 शक्तिपीठ

बांग्लादेश में हैं माता के ये 5 शक्तिपीठ
भारत का बंटवारा जब हुआ था तब भारतीय हिन्दुओं ने अपने कई तीर्थ स्थल, शक्तिपीठ और प्राचीन ...

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?
अतिथि कौन? वेदों में कहा गया है कि अतिथि देवो भव: अर्थात अतिथि देवतास्वरूप होता है। अतिथि ...

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार
12 राशियां स्वभावत: जिन-जिन रोगों को उत्पन्न करती हैं, वे इस प्रकार हैं-

वेदों के ज्ञाता श्री रामानुजाचार्यजी का जीवन परिचय

वेदों के ज्ञाता श्री रामानुजाचार्यजी का जीवन परिचय
श्री रामानुजाचार्य का जन्म सन् 1017 में श्री पेरामबुदुर (तमिलनाडु) के एक ब्राह्मण परिवार ...

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?
मांग में सिंदूर सजाना एक वैवाहिक संस्कार है। सौभाग्यवती स्त्रियां मांग में जिस स्थान पर ...

राशिफल