क्या आप जानते हैं, संन्यास के पांच रंग...

Author वृजेन्द्रसिंह झाला|
हमने और आप सबने भी साधु-महात्माओं को अलग-अलग रंग के वस्त्र पहने देखा होगा। कभी-कभी जिज्ञासा भी हुई होगी कि जब सभी संत हैं तो वस्त्रों के रंग अलग अलग क्यों? कोई सफेद वस्त्र धारण करता है, कोई काले। कोई संन्यासी पीले और भगवे वस्त्रों में भी नजर आता है। इसके पीछे पसंद है या फिर कोई विशेष कारण? दरअसल, संन्यास जीवन में वस्त्रों के रंगों का बहुत महत्व है। यही बता रहे हैं बिन्दूजी महाराज, जिन्हें स्वामी निर्वाणदास उदासीन के नाम से भी जाना जाता है। आइए जानते हैं कि विरक्तों के जीवन में रंगों की अहमियत के बारे में...
श्वेत या सफेद रंग : संन्यास की शुरुआत में पहली और महत्वपूर्ण प्रक्रिया है ब्रह्मचर्य और पवित्रता की दीक्षा। इस प्रक्रिया से गुजरने वाले को सफेद वस्त्र प्रदान किए जाते हैं। सफेद अर्थात बेदाग रंग। साधक को ध्यान रखना पड़ता है कि उस पर कहीं कोई दाग अथवा कलंक न लगने पाए। 
 
पीला रंग : जब संन्यास लेने वाला व्यक्ति पहली परीक्षा में सफल और निष्णात हो जाता है तो उसे पीले रंग के वस्त्र प्रदान किए जाते हैं। पीला रंग दया, क्षमा और करुणा का प्रतीक है। पृथ्वी का रंग भी पीला है। पृथ्वी और संत को सबसे अधिक सहनशील मानाय गया है। वैज्ञानिकों ने भी सिद्ध किया है कि पृथ्वी का रंग पीला है। इस अवधि में भिक्षाटन आदि के दौरान संन्यासी को लोगों की उपेक्षाएं और ताने भी सहने पड़ते हैं, लेकिन वह सबको क्षमा कर देता है। 
 
लाल रंग : इन उपेक्षाओं को सहने के बाद गुरु संन्यासी को साधु बनाता है। अर्थात ऐसा माना जाता है कि वह साधना के योग्य हो गया है। तब उसे लाल वस्त्र प्रदान किए जाते हैं। लाल रंग क्रोध, खतरे और ‍अग्नि का प्रतीक है। जो संन्यासी साधनारत होता है, वह अग्नि की ज्वाला के समान होता है। इसमें इच्छाओं का दमन करना होता है। लाल रंग का अर्थ है परिचित और अन्य लोग उस संन्यासी से दूर रहें। यदि उसकी साधना भंग होगी तो उसे क्रोध आएगा और वह चिमटा और त्रिशूल लेकर दौड़ पड़ेगा।  
 अगले पेज पर देखें वीडियो और काले और भगवा रंग का क्या महत्व है....
 
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

ऐसा उत्पन्न हुआ धरती पर मानव और ऐसे खत्म हो जाएगा

ऐसा उत्पन्न हुआ धरती पर मानव और ऐसे खत्म हो जाएगा
हिन्दू धर्म अनुसार प्रत्येक ग्रह, नक्षत्र, जीव और मानव की एक निश्‍चित आयु बताई गई है। वेद ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे देवता... पढ़ें पौराणिक महत्व और 11 खास बातें
सूर्यदेव ने कर्क राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के कर्क में प्रवेश करने के कारण ही इसे ...

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य
गीता में लिखा गया है कि ये संसार उल्टा पेड़ है। इसकी जड़ें ऊपर और शाखाएं नीचे हैं। यदि कुछ ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, जानिए ग्रह अनुसार क्या चढ़ाएं शिव को
श्रावण के शुभ समय में ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार शिवलिंग का पूजन करना चाहिए। ...

क्या ग्रहण करें देवशयनी एकादशी के दिन, जानिए 6 जरूरी ...

क्या ग्रहण करें देवशयनी एकादशी के दिन, जानिए 6 जरूरी बातें...
हिन्दू धर्म में आषाढ़ मास की देवशयनी एकादशी का बहुत महत्व है। यह एकादशी मनुष्य को परलोक ...

18 जुलाई 2018 का राशिफल और उपाय...

18 जुलाई 2018 का राशिफल और उपाय...
विरोध होगा। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। विवाद से क्लेश होगा। संपत्ति की खरीदी संभव है। ...

18 जुलाई 2018 : आपका जन्मदिन

18 जुलाई 2018 : आपका जन्मदिन
अंक ज्योतिष का सबसे आखरी मूलांक है नौ। आपके जन्मदिन की संख्या भी नौ है। यह मूलांक भूमि ...

18 जुलाई 2018 के शुभ मुहूर्त

18 जुलाई 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- दक्षिणायन, मास- आषाढ़, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- ...

आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज का 51वां दीक्षा दिवस

आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज का 51वां दीक्षा दिवस
विश्व-वंदनीय जैन संत आचार्यश्री 108 विद्यासागरजी महाराज भारत भूमि के प्रखर तपस्वी, चिंतक, ...

18 जुलाई से सौर मास श्रावण आरंभ, क्या लाया है यह बदलाव आपकी ...

18 जुलाई से सौर मास श्रावण आरंभ, क्या लाया है यह बदलाव आपकी राशि के लिए
यूं तो विधिवत श्रावण मास का आरंभ 28 जुलाई से होगा लेकिन सूर्य कर्क संक्रांति के साथ ही ...

राशिफल