उदासीन संप्रदाय अखाड़े

WD|
 उदासीन का शाब्दिक अर्थ है उत्+आसीन= उत् = ऊंचा उठा हुआ अर्थात ब्रह्रा में आसीन = स्थित, समाधिस्थ। यहां प्रस्तुत है छोटे उदासीन अखाड़े के महंतों की जानकारी।

1- श्रीपंचायती उदासीन अखाड़ा : इसका मठ काशीनगर, कीडगंज, इलाहाबाद में स्थित है और इसके संत हैं दुर्गा दास और आगरादास।

2- श्रीपंचायती अखाड़ा नया उदासीन : इसका मठ श्रीपंचायती अखाड़ा, नया उदासीन, कनखल हरिद्वार में स्थित है और इसके संत हैं- भ्रगतराम। दूसरा मठ श्रीपंचायती अखाड़ा, नया उदासीन, 286 मुट्ठीगंज, इलाहाबाद में स्थित है और इसके संत हैं- जगतार मुनी।

3- श्रीनिर्मल पंचायती अखाड़ा : इसका मठ संगीत रोड, कनखल, हरिद्वारा, उत्तराखंड में स्थित है और इसके संत हैं- बलवंत सिंह और मिश्र प्रकाश सिंह (कोठारी)।

>

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :