शैव संन्यासी संप्रदाय अखाड़े

WD|
लगभग 5 लाख साधु-संन्यासियों की फौज से सुसज्जित शैव संन्यासी संप्रदाय का इतिहास बहुत ही प्राचीन है। शैव संन्यासी संप्रदाय के बहुत सारे अखाड़े या कहें की मठ और मड़ियां हैं। उनमें से प्रमुख सात की संक्षिप्त जानकारी। यह सभी दसनामी संप्रदाय के अंतर्गत ही आते हैं। वैष्णव और उदासीन संप्रदाय के अलग अखाड़े हैं।

इन अखाड़ों का बहुत प्राचीन इतिहास रहा है। समय-समय पर इनका स्वरूप और उद्येश्य बदलता रहा है। अखाड़ों का आज जो स्वरूप है उस रूप में पहला अखाड़ा ‘अखंड आह्वान अखाड़ा’ सन् 547 ई. में सामने आया। इसका मुख्य कार्यालय काशी में है और शाखाएं सभी कुम्भ तीर्थों पर हैं।

1- श्रीपंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी- इसका मठ धारागंज, प्रयाग इलाहाबाद में स्थित है। इस अखाड़ा के संत है - श्रीमहंत योगेन्द्र गिरी और श्रीमहंत जगदीश पुरीजी। 

2- श्रीपंच अटल अखाड़ा- इसका मठ चक्र हनुमान, खाटूपुरा, काशी, वाराणसी में स्थित है। इस अखाड़ा के संत है- श्रीमहंत उदय गिरी और श्रीमहंत सनातन भारती।

3- श्रीपंचायती अखाड़ा निरंजनी- इसका मठ 47/44 मोरी, धारागंज, प्रयाग इलाहाबाद में स्थित है। इस अखाड़े के संत है- श्रीमहंत रामानन्द पुरी और श्रीमहंत नरेन्द्र गिरी।

4- तपोनिधि आनन्द अखाड़ा पंचायती- इसके दो मठ हैं पहला स्वामी सागरनन्द आश्रम, त्रयंबकेश्वर, दूसरा श्रीसूर्य नारायण मन्दिर त्र्यंम्बकेश्वर जिला- नासिक, महाराष्ट्र में स्थित है। इस मठ के संत है- श्रीमहंत शंकरानन्द सरस्वती और श्रीमहंत धनराज गिरी।

5- श्रीपंचदसनाम जूना अखाड़ा- इसका मठ भारा हनुमान घाट, काशी वाराणसी में स्थित है। इस मठ के संत है- श्रीमहंत विद्यानन्द सरस्वती और श्रीमहंत प्रेम गिरी।

6- श्रीपंचदसनाम आह्वान अखाड़ा- इसका मठ डी-17/122 दशाश्वमेघ घाट काशी वाराणसी में स्थित है। इस मठ के संत है- श्रीमहंत कैलाश पुरी और श्रीमंहत सत्या गिरी।

7- श्रीपंचदसनाम पंचागनी अखाड़ा- इसका मठ तलहटी गिरनार, पोस्ट- भावनाथ, जिला- जूनागढ़ गुजरात में स्थित है। इस मठ के संत हैं- श्रीमहंत अच्युतानन्दजी ब्रह्माचारी। दूसरा मठ सिद्ध काली पीठ गंगा पार काली मन्दिर हरिद्वार, उत्तराखंड में स्थित है जिसके संत है- श्रीमहंत कैलाश नन्दजी ब्रह्मचारी।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है मान्यता, जानिए
शास्त्रों के अनुसार विवाह आठ प्रकार के होते हैं। विवाह के ये प्रकार हैं- ब्रह्म, दैव, ...

कृष्ण के 80 पुत्रों का रहस्य, साम्ब के कारण हुआ मौसुल युद्ध

कृष्ण के 80 पुत्रों का रहस्य, साम्ब के कारण हुआ मौसुल युद्ध
भगवान श्रीकष्ण ने आठ महिलाओं से विधिवत विवाह किया था। इन आठ महिलाओं से उनको 80 पुत्र मिले ...

गुलाब का एक फूल बदल सकता है जीवन की दिशा, जानिए 10 रोचक ...

गुलाब का एक फूल बदल सकता है जीवन की दिशा, जानिए 10 रोचक टोटके
हम आपके लिए लाए हैं सुंगधित गुलाब के फूल के कुछ ऐसे उपाय या टोटके जिन्हें आजमाकर आप अपने ...

आखिर क्यों होती हैं हमारे कामों में देरी, जानिए, क्या कहता ...

आखिर क्यों होती हैं हमारे कामों में देरी, जानिए, क्या कहता है ज्योतिष
जानते हैं कि जन्मपत्रिका में वे कौन सी ऐसी ग्रहस्थितियां व ग्रह होते हैं जो कार्यों में ...

रावण की पत्नी मंदोदरी ने क्यों किया वि‍भीषण से विवाह?

रावण की पत्नी मंदोदरी ने क्यों किया वि‍भीषण से विवाह?
पुलस्त्य ऋषि के पुत्र और महर्षि अगस्त्य के भाई महर्षि विश्रवा ने राक्षसराज सुमाली और ...

ऐसे दें अपने घर को एस्ट्रो टच

ऐसे दें अपने घर को एस्ट्रो टच
घर सजा कर रखना किसे पसंद नहीं होता लेकिन यदि घर कि सजावट ज्योतिष व एस्ट्रो के अनुरुप हो ...

गायत्री मंत्र का सरल और गोपनीय अर्थ हिन्दी में, खास आपके ...

गायत्री मंत्र का सरल और गोपनीय अर्थ हिन्दी में, खास आपके लिए...
समस्त धर्म ग्रंथों में गायत्री की महिमा एक स्वर से कही गई। समस्त ऋषि-मुनि मुक्त कंठ से ...

गायत्री जयंती : कौन हैं गायत्री माता, कैसे हुआ अवतरण, विवाह ...

गायत्री जयंती : कौन हैं गायत्री माता, कैसे हुआ अवतरण, विवाह और महिमा
मां गायत्री की कृपा से ब्रह्मा जी ने गायत्री मंत्र की व्याख्या अपने चारों मुखों से चार ...

करोड़ पल सोने के दान का फल देती है निर्जला एकादशी, पढ़ें ...

करोड़ पल सोने के दान का फल देती है निर्जला एकादशी, पढ़ें पौराणिक व्रत कथा...
निर्जला एकादशी व्रत की कथा इस प्रकार है- भीमसेन व्यासजी से कहने लगे कि हे पितामह! भ्राता ...

राशिफल