बैरागी वैष्णव संप्रदाय के अखाड़े

WD|
जिस तरह शैवपंथ के लिए शंकराचार्य, मत्स्येन्द्रनाथ, गुरु गौरखनाथ हुए, उसी तरह वैष्णवपंथ के लिए रामानुजाचार्य, रामानंदाचार्य, वल्लभाचार्य ने उल्लेखनीय कार्य किए। उन्होंने वैष्णव संप्रदायों को पुनर्गठित किया तथा वैष्णव साधुओं को उनका आत्मसम्मान दिलाया। शैव संन्यासियों की तरह वैष्णवों के भी संप्रदाय और अखाड़े हैं। उन संप्रदायों और अखाड़ों के अंतर्गत उप-संप्रदाय और अखाड़े भी अस्तित्व में है।

वैष्णवों में भी मूलत: बैरागी संप्रदाय के तीन अखाड़े हैं :- श्री दिगम्बर आनी अखाड़ा, श्री निर्वाणी आनी अखाड़ा और श्री निर्मोही आनी अखाड़ा।

1- श्री दिगम्बर आनी अखाड़ा- इसका मठ श्यामलालजी, खाकचौक मंदिर, पोस्ट- श्यामलालजी, जिला-सांभर कांथा, गुजरात में स्थित है। इसका दूसरा मठ दिगम्बर अखाड़ा तपोवन, नासिक, महाराष्ट्र में स्थित है। पहले के संत है- श्रीमहंत केशवदास और दूसरे के श्रीमहंत रामकिशोर दास।

2- श्री निर्वाणी आनी अखाड़ा- इसका मठ अयोध्या हनुमान गढ़ी जिला- फैजाबाद में स्थित है और इसके संत हैं- श्रीमहंत धर्मदास। दूसरा मठ- श्रीलंबे हनुमान मंदिर, रेलवे लाइन के पीछे, सूरत, गुजरात में है और इसके संत हैं- श्रीमहंत जगन्नाथ दास।

3- श्री निर्मोही आनी अखाड़ा- इसका मठ धीर समीर मंदिर, बंशीवट, वृन्दावन, मथुरा में स्थित है और इसके संत हैं- श्रीमहंत मदन मोहन दास। दूसरा मठ- श्रीजगन्नाथ मंदिर, जमालपुर, अहमदाबाद, गुजरात में स्थित है और इसके संत हैं- श्रीमहंत राजेन्द्र दास।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

इन तीन लोगों के सिर धड़ से अलग हो गए थे लेकिन जोड़ दिए गए, ...

इन तीन लोगों के सिर धड़ से अलग हो गए थे लेकिन जोड़ दिए गए, जानिए प्राचीन रहस्य
प्राचीन भारत में चिकित्सा और सर्जरी के कई किस्से पुराणों में पढ़ने को मिलते हैं। हालांकि ...

जब दुर्योधन ने अपनी पत्नी को देखा कर्ण के साथ...

जब दुर्योधन ने अपनी पत्नी को देखा कर्ण के साथ...
दुर्योधन की पत्नी का नाम भानुमति था। भानुमति के कारण ही यह मुहावरा बना है- कहीं की ईंट ...

ज्योतिष के अनुसार सूर्य की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार सूर्य की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार ग्रह की परिभाषा अलग है। भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह ...

सावधान... 28 जून से मंगल होगा वक्री, क्या होगी 12 राशियों ...

सावधान... 28 जून से मंगल होगा वक्री, क्या होगी 12 राशियों की स्थिति
मंगल जब उच्च का होकर वक्री होता है, तो जहां उच्च का फल देता आया है, अब वहां नीच का फल ...

नागमणि के पास होने से क्या होता है? देखें चमत्कारिक नागमणि ...

नागमणि के पास होने से क्या होता है? देखें चमत्कारिक नागमणि का वीडियो
नागमणि का रहस्य आज भी अनसुलझा हुआ है। आम जनता में यह बात प्रचलित है कि कई लोगों ने ऐसे ...

लाल किताब में दिए हैं 12 राशि के अनोखे उपाय, पढ़ें क्या है ...

लाल किताब में दिए हैं 12 राशि के अनोखे उपाय, पढ़ें क्या है आपकी राशि का उपाय
किसी से कोई वस्तु मुफ्त में न लें। लाल रंग का रूमाल हमेशा प्रयोग करें।लाल किताब के ...

ऐसे लगाएं परमात्मा से योग

ऐसे लगाएं परमात्मा से योग
योग यानी जुड़ना और जुड़ना जिससे भी सच्चे मन से हो जाए, उससे ही योग लग जाता है। जब किसी को ...

25 जून, सोमवार को बुध का कर्क राशि में प्रवेश, किसे मिलेगा ...

25 जून, सोमवार को बुध का कर्क राशि में प्रवेश, किसे मिलेगा सुख, किसे होगा क्लेश
25 जून, सोमवार को बुध कर्क राशि में प्रवेश करेंगे। आइए जानते हैं कि बुध के कर्क राशि में ...

ज्योतिष के अनुसार राहु की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार राहु की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है राहु के बारे ...

सूर्य आए मिथुन में, यह 3 राशियां हैं खतरे में.. सावधानी ...

सूर्य आए मिथुन में, यह 3 राशियां हैं खतरे में.. सावधानी बरतें
सूर्य ने वृष राशि से मिथुन में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के राशि बदलते ही समस्त राशियों पर ...

राशिफल