बेमिसाल गायकी से सजी शिव चालीसा (देखें वीडियो)


- सिद्धार्थ झा महाशिवरात्रि आने में कुछ ही दिन बचे है, घर, खेत-खलिहान शिवजी के जय-जयकारों से और गानों से गूंज रहा है। निसंदेह इन दिनों कैलाश खेर का बम लहरी, जय जय शिवशंकर और टी सीरीज के कुछ अनाम गायकों की बेमिसाल धुनें आपको हर कही सुनने को मिल जाएगी, लेकिन लोकप्रिय गानों की सूची में एक और गाना शुमार होने जा रहा जिसके टीजर और प्रोमो इन दिनों चर्चा और कौतुहलता का विषय बने हुए है।> >
 
पिछले कुछ सालों से भगवान शिव पर कोई नया गाना या धुन नहीं बनी थी, ऐसे में इसमें कोई संदेह नहीं है कि आने वाली एलबम शिव चालीसा लोगों के सिर चढ़कर बोलेगा क्योंकि इसके गीत-संगीत बोल और बेमिसाल गायकी से भक्तिमय वातावरण बना देती है। 
 
वास्तव में ये एलबम अपनी मौलिकता, भक्तिमय संगीत और बेजोड़ गायकी का अद्‍भुत संगम है, खासतौर से जैसे प्रतिभावान गायक ने जिस खूबसूरती और श्रद्धा भाव से इसे गाया है वो इसे अद्वितीय बना देता है। शिव चालीस शिव भक्तों के लिए संगीत के फूलों से सजा वो गुच्छा है जो उनके मन मंदिर में साक्षात् महादेव के दर्शन करवा देता है। दिल को छू लेने वाले शिव के तांडव से भोलेनाथ की महिमा तक का वर्णन करने वाले इस म्यूजिक वीडियो को KKNKTV (केकेएनकेटीवी) और Red ribbon ने मिलकर किया है जिसे शिवरात्रि के महापर्व पर रिलीज किया जा रहा है। इसका म्यूजिक कंपोज  किया है श्रीनिवासन शर्मा ने जो दक्षिण भारतीय फिल्मों में कोई नया नाम नहीं है। 
 
बहुत प्रसिद्ध है खासतौर से शंकर महादेवन और इनकी जुगलबंदी कमाल की है। शिव चालीसा का निर्देशन जाने-माने निर्देशक हेमंत राव ने किया है। विजुअल्स और ग्राफिक्स का बखूबी इस्तेमाल किया गया है। मगर इन सबके बावजूद इसकी एक और खासियत है वो है और कृष्ण भट्ट जिन्होंने इसके भजन में कमाल के बोल यानी लिरिक्स लिखे हैं, दोनों पेशे से डॉक्टर हैं। 
 
 
शिव चालीसा वीडियो देखने के लिए क्लिक करें... 


 
ताज्जुब होता है कैसे एक डॉक्टर सर्जन डॉ. राघवेंद्र जिनके हाथों में सर्जरी का ब्लेड और होंठो पर दुनियाभर की दवाईयों के नाम होने चाहिए आखिर वो कैसे इतने शानदार भजन और गीत लिख सकते है। ऐसा कारनामा उन्होंने पहली बार नहीं किया है, इससे पहले भी वो कई ऐसे गीतों के रचियता रह चुके है, जिसे काफी सराहा गया है। चिकित्सा क्षेत्र से इतर इस तरह के कई एलबम और वीडियो का निर्माण उनकी कंपनी केकेएनकेटीवी कर चुकी है। शायद इसीलिए कहा जाता है शौक बड़ी चीज है और अगर वो आपका जूनून बन जाए तो लोगों के सिर चढ़कर बोलता है। 
 
याद कीजिए इससे पहले भी एक डॉक्टर सिंगर की लोकप्रियता बुलंदियों के शिखर को छू चुकी है। आप पलाश सेन से वाकिफ है जो चिकित्सा के साथ गायकी भी समय-समय पर करते रहे है। सुविधा के लिए शिव चालीसा सभी डिजिटल मीडिया एवं स्टोरेस पर भी उपलब्ध है, जहां से आसानी से डाउनलोड किया जा सकता है।

निसंदेह में वो सभी तत्व है जो इन्हें खास बनाती है, शंकर महादेवन और डॉ. राघवेंद्र भट्ट की जुगलबंदी इसे कर्णप्रिय बनाती है और निसंदेह ये हर घर का संगीत बनेगा। बिना महाकालेश्वर, काशी विश्वनाथ जाए बिना, शिव की अनुभूति चाहते है तो शिव चालीसा सिर्फ आपके लिए ही है ।


और भी पढ़ें :