तमिलनाडु के समुद्र तट की सैर

भारत के शानदार समुद्री तट-9

WD|
FILE
धरती के 70.8% प्रतिशत भाग पर समुद्र है जिसमें से 14% भाग पर बसा है विराट हिंद महासागर। भारत तीन ओर से समुद्र से घिरा है और जिसके 13 राज्यों की सीमा से समुद्र लगा हुआ है।

भारत के समुद्र तटों से समुद्र और सूर्य को निहारना बहुत ही और होता है। भारत ही एकमात्र ऐसा देश है जहां समुद्र की हजारों किलोमीटर की तट रेखा है। उक्त तट रेखा पर बसे हैं भारत के ये प्रदेश- 1. आंध्रप्रदेश, 2. पश्चिम बंगाल, 3. केरल, 4. कर्नाटक, 5. उड़ीसा 6. तमिलनाडु, 7. महाराष्ट्र, 8. गोवा, 9. गुजरात, 10. पुडुचेरी, 11. अंडमान-निकोबार, 12. दमण-दीव और 13. लक्ष्यद्वीप। इस बार हम चलते हैं तमिलनाडु के समुद्री तट की सैर करने।
दक्षिण भारत का प्रमुख राज्य है तमिलनाडु। यहां की राजधानी चेन्नई है, जिसे पहले मद्रास नाम से जाना जाता था। यहां की प्रमुख नदी है कावेरी। इसी राज्य में हिन्दुओं के प्रमुख चार मठों में से एक मठ है कांचीपुरम में कांची कामकोटि पीठ।

तमिलनाडु की एक लम्‍बी तटरेखा है जो लगभग 1000 किलोमीटर तक फैली है- जहां सैकड़ों तट है। इसके तट पर जहां एक ओर स्थित है भगवान राम द्वारा स्थापित रामेश्वरम, तो दूसरी ओर प्रमुख तीर्थ है कन्याकुमारी। तमिलनाडु का इतिहास बहुत ही पुराना है।
तमिलनाडु के समुद्री तट :
1. मरिन : मरिन समुद्री तट (Marina Beach) चेन्नई के पूर्व में स्थित है जहां से सूर्यास्त का नजारा बहुत ही शानदार नजर आता हैं।

2. इल्लियोट : इल्लियोट समुद्री तट (Elliot Beach) बसंत नगर में स्थित है जहां पर नहाने का मजा ही कुछ और है इसीलिए इसे बा‍थिंग बीच भी कहा जाता है। यह युवाप्रेमियों का मिलन स्थल भी है।
3. कोवलम : कोवलम समुद्री तट (Kovalam Beach) चेन्नई से 40 किलोमिटर दूर महाबलीपुरम के रास्ते पर एक गाँव है जो कोवेलोंग नाम से जाना जाता है।

4. महाबलीपुरम : महाबलीपुरम (Mamallapuram) का समुद्री तट चेन्नई से 58 किलोमीटर दूर दक्षिण में स्थित है। यहां पर भव्य और सुंदर समुद्री तट के अलावा पल्लव राजवंशों के काल के स्मारक और प्राचीन गुफाएं पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है।
5. कन्याकुमारी : कन्याकुमारी (Kanyakumari Beach) समुद्र तट पर हिंद महागार, अरेबिन और बंगाल की खाड़ी का संगम होता है। यह हिंदुओं का प्राचीन तीर्थ स्थल केंद्र है। कन्याकुमारी अपने सूर्य उदय, सूर्यास्त और पूर्णिमा के चांद के दर्शन के लिए प्रसिद्ध है। बहुरंगी रेत के साथ यहां के समुद्री और आकाशीय नजारे देखते ही बनते हैं।
6. पूम्पुहर : पूम्पुहर समुद्री तट (Poompuhar Beach) तमिल महाकाव्य सिलापथिकरम (Silapathikaram) में उपलब्ध सूचनाओं के आधार पर केवरिपूम्पात्तिनम की स्मृति में बनाया गया एक बंदरगाह है।

FILE
7. रामेश्‍वरम : रामेश्‍वरम का समुद्री तट चेन्नई से 572 किलोमीटर दूर है। यह हिंदुओं के लिए पवित्र तीर्थ स्थल है जहां पर भगवान शिव का भव्य एवं प्राचीन मंदिर है जो बारह ज्योतिर्लिंगों के अंतर्गत आता है। इस शिवलिंग की स्थापना भगवान राम ने की थी इसीलिए इस स्थान का नाम रामेश्वर है।
भारत की समुद्री सीमाएं असुरक्षित रही है जिसके कारण समुद्र से लगे क्षेत्र में आक्रमरणकारियों और ईसाई धर्म प्रचारकों का लगातार आना-जाना आसान रहने के कारण यहां का सामाजिक ताना-बाना तो टूटा ही है।

साथ ही अंग्रेजों, फ्रांसिसियों, पुर्तगालियों, ईरानियों आदि द्वारा कब्जा कर शासन करने के दौरान वहां की मूल भाषा, धर्म और संस्कृति को बहुत नुकसान पहुंचाया गया।
आज भी तमिलनाडु को सांस्कृतिक और धार्मिक रूप से तोड़े जाने की साजिश जारी है।

- अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :