श्मशान घाट की अग्नि सबसे खराब, कैसे और क्यों?

हाल ही में मुरारी बापूजी ने गुजरात के एक जोड़े की में शादी करवा दी। कहते हैं कि और वधु ने चिता के फेरे लिए थे। निश्चत ही यह घोर निंदनीय है। धर्म का मार्ग दिखाने वाले कैसे ऐसा अधर्मी कार्य कर सकते हैं? धर्मशास्त्र हमें सही और गलत में फर्क करना सिखाता है। उसमें मुख्‍यत: 16 संस्कारों को अच्छे से परिभाषित किया गया है। क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि मंदिर में देवता के समक्ष किसी का दाह संस्कार कर दें? तब फिर कैसे कोई चिता के फेरे ले सकता है? आओ जानते हैं कि शास्त्र क्या कहता है।
शास्त्र अनुसार 27 प्रकार की अग्नि होती है। प्रत्येक कार्य के लिए अलग-अलग अग्नि का प्रयोग होता है। विवाह में जिस अग्नि को प्रज्जवलित किया जाता है उसे योजक कहते हैं जबकि चिता की अग्नि को क्रव्याद कहते हैं। दोनों का गुण-धर्म अलग-अलग होता है। माना जाता है कि योजक अग्नि जोड़ने का कार्य करती है जबकि क्रव्याद अग्नि समाप्त करने का कार्य करती है।

श्मशान घाट की भूमि पर किसी भी प्रकार का मंगलाचरण या मंगलगान नहीं किया जाता है। केवल लोमभ्य स्वाहा, त्वचे स्वाहा आदि मन्त्रों को छोड़कर वेद मन्त्रों का पाठ भी श्मशान में वर्जित है। विवाह में सभी तरह की मांगलिक वस्तुओं का होना आवश्यक है जबकि श्मशान में कोई भी वस्तु न तो मांगलित होती है और शमशान का वास्तु भी मांगलिक नहीं होता है। विवाह नए जीवन का प्रारंभ है जबकि श्मशान जीवन का अंत।

जहां विवाह होता है वहां कलश, मंडप, सुगंध, यज्ञ वेदी मंत्रोच्चार आदि के द्वारा सकारात्मक ऊर्चा का निर्माण किया जाता है जबकि शमशन में नकारात्मक ऊर्जा रहती है। श्मशान में प्रत्येक व्यक्ति दुखी होकर ही आता है और दुखी ही जाता है। वहां अशुद्ध हवा और राख होती है जिसका हमें संभवत: अनुभव नहीं होता। उस रुदन और भयावह वातावरण में विवाह अनुचित है।

श्मशान की भूमि पर शिव और भैरव की ही स्थापना होती। शिवजी के पार्वती के साथ नहीं होती, क्योंकि श्मशान भूमि पर पत्नी साथ में नहीं रहती है। विवाह आदि मांगलिक कार्यों में हम स्नान आदि करने के बाद सम्मलित होते हैं जबकि श्मशान से आने के बाद हमें स्नान करना होता है क्योंकि वह भूमि अपवित्र होती है। मृतकों को जलाकर हमें स्नान करके शुद्ध होना होता है। श्मशान इसीलिए नगर के बाहर होते थे ताकि वहां की नकारात्क ऊर्जा और अपवित्र राख हवा के साथ घर में न घुसे। शवदाह के बाद तीसरे दिन अस्थि संचय करने के बाद भी स्नान करके शुद्ध होना होता है।

अत: शुद्धता, पवित्रता और शास्त्र सम्मत व्यवहार का ध्यान रखना जरूरी है। यदि आप संतों के बहकावे या प्रभाव में आकर कोई ऐसा आचरण करते हैं जोकि धर्म विरुद्ध है, तो निश्चित ही इसका आपको दोष लगेगा ही। ईश्वर, धर्म, देवी या देवता से बढ़कर नहीं होते हैं संत। संतों के अंधे भक्त न बनें।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

अत्यंत आश्चर्यजनक है श्री घंटाकर्ण यंत्र, जानिए कैसे करें ...

अत्यंत आश्चर्यजनक है श्री घंटाकर्ण यंत्र, जानिए कैसे करें पूजन
श्री घंटाकर्ण यंत्र अति विशिष्ट एवं प्रभावशाली है, जो वर्तमान में अन्य किसी पुस्तक में ...

गंगा में विसर्जित अस्थियां कहां गायब हो जाती हैं?

गंगा में विसर्जित अस्थियां कहां गायब हो जाती हैं?
हिन्दू धर्म में व्यक्ति को समाधी देने या दाह संस्कार दोनों की ही परंपरा है, जो कि शास्त्र ...

करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी गंगा मैली की मैली, कौन है ...

करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी गंगा मैली की मैली, कौन है गुनाहगार...
गंगा भारत की सबसे महत्वपूर्ण नदी है और इसका धार्मिक महत्व भी बहुत अधिक है। कहते है कि ...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...
अक्सर अपनी जन्म पत्रिका का परीक्षण करवाते समय लोगों का प्रश्न होता है कि किस दिशा में ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी जानिए...
कर्मकांड हमारी सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग है। बिना पूजा-पाठ व कर्मकांड के कोई भी हिन्दू ...

अप्सरा मेनका ने क्यों छोड़ दिया था विश्वामित्र को?

अप्सरा मेनका ने क्यों छोड़ दिया था विश्वामित्र को?
विश्वामित्र वैदिक काल के विख्यात ऋषि थे। उनके ही काल में ऋषि वशिष्ठ थे जिसने उनकी अड़ी ...

खुलासा, इन पांच में से इस स्त्री के कारण हुआ था महाभारत का ...

खुलासा, इन पांच में से इस स्त्री के कारण हुआ था महाभारत का युद्ध?
आम धारणा है कि जर, जोरू और जमीन के लिए ही युद्ध होते रहे हैं। महाभारत में भूमि बंटवारा ...

पुण्य फलदायी है मोहिनी एकादशी, पढ़ें पौराणिक व्रतकथा, आरती ...

पुण्य फलदायी है मोहिनी एकादशी, पढ़ें पौराणिक व्रतकथा, आरती एवं महत्व
वैशाख मास में जो एकादशी आती है उसका नाम मोहिनी एकादशी है। इसका व्रत करने से मनुष्य सब ...

यह है भगवान नृसिंह के रौद्र अवतार की पौराणिक कथा

यह है भगवान नृसिंह के रौद्र अवतार की पौराणिक कथा
हिरण्यकशिपु का शासन बहुत कठोर था। देव-दानव सभी उसके चरणों की वंदना में रत रहते थे। भगवान ...

इस एकादशी पर करें ये 3 उपाय, शीघ्र होगा आपका विवाह...

इस एकादशी पर करें ये 3 उपाय, शीघ्र होगा आपका विवाह...
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार एकादशी के व्रत-उपवास का बहुत महत्व है।जिन लोगों की शादी नहीं ...

राशिफल