हर कहीं झुकेंगे तो मुसीबत में पड़ जाएंगे

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
यदि आप हिंदू हैं तो झुकना अच्छी बात है, लेकिन कहां नहीं झुकना चाहिए यह भी जानना जरूरी है। अधिकतर हिंदू कहीं भी झुकने के लिए तैयार रहते हैं। जहां भी कोई दो अगरबत्ती लगा दें वहीं झुक जाते हैं। इतना मत झुको की खुद का वजूद ही मिटा दो। जो लोग कमजोर होते हैं वह हर कहीं झुक जाते हैं। आपको जिंदगी में कहीं पर भी झुकना नहीं पड़े इसके लिए जरूरी है कि आप हिंदू धर्म से जुड़ें।
अधिकतर हिन्दू ईश्वर, परमेश्वर, ब्रह्म या भगवान को छोड़कर तरह-तरह की प्राकृतिक एवं सांसारिक वस्तुएं, ग्रह-नक्षत्र, देवी-देवता, नाग, नदि, झाड़, पितर और गुरुओं की पूजा करते रहते हैं। निश्चित ही यह उनके मानसिक पतन का उदाहरण ही है। भटके हुए और धर्म को नहीं जानने वाले लोग ही दर्गा, समाधि और सड़क के किनारे बैठे भैरू, पाल्या आदि महाराज के यहां माथा टेकते फिरते हैं।
ईश्वर को छोड़कर अन्य पर श्रद्धा रखने वाले अगले-पिछले हर जन्म में दुख ही पाते हैं और इस दुख के कारण वे कभी दर्गाह, कभी समाधि तो कभी किसी बाबा, तांत्रिक, ज्योतिष आदि के दर पर दर-दर भटकते रहते हैं।

: आजकल बहुत से लोग सड़क किनारे के पाल्या महाराज को पूजने लगे हैं। दरअसल, जब किसी हिंदू की किसी सड़क हादसे में मौत हो जाती है तो उस जगह या स्थान पर उक्त व्यक्ति की याद में एक ओटला बना दिया जाता है। उस पर एक पत्थर रखकर उसे सिंदूर से पोत दिया जाता है। मृतक के परिजन कुछ वर्षों तक वहां उसकी बर्सी या तिथि पर अगरबत्ती आदि लगाने आते रहते हैं बाद में यह सिलसिला बंद हो जाता है। तब, स्थानीय लोग इसे का स्थान मानकर वहां पूजा अर्चना शुरू कर देते हैं। कालांतर में सड़क किनारे के ऐसे कई स्थान अब मंदिर का रूप ले चुके हैं। इसी तरह जब कोई मुस्लिम किसी सड़क हादसे में मरता है तो वहां बना दी जाती है।
सिद्धों की समाधि : नागा साधु, नाथ समप्रदाय, बैरागी समाज और गोस्वामी समाज के लोग अपने मृतकों का दाह संस्कार नहीं करते। वे उनकी समाधि देते हैं। पहले उनके अलग समाधि स्थान होते हैं। बाद में जिस तरह कब्रिस्तान के लिए भूमि दी जाती है उस तरह उन्हें भूमि देना बंद कर दिया गया। फिर भी ये लोग अपने अपने समाज की निजी भूमि पर समाधि देकर वहां एक ओटला बनाते हैं जिसके ऊपर एक छोटा सा शिवलिंग स्थापित कर दिया जाता है। कालांतर में यही समाधि स्थल शिव मंदिरों में बदल गए। कालांतर में उनमें से बहुत से समाधि स्थलों ने दर्गाह का स्वरूप अपना लिया।
उल्लेखनीय है कि देश में ऐसी कई छत्रियां या स्मारक हैं जो किसी राजा-महाराजा के समाधि स्थल है। मध्यकाल में कब्रिस्तान, श्मशान या समाधि स्थल शहर के बाहर होते थे, लेकिन आबादी बढ़ने और शहरीकरण के चलते अब ये सभी शहर के भीतर होकर उनमें से कई तो समाप्त हो गए। बस वही कब्रें, समाधि आदि बच गए जिनकी देखरेख होती रही या जो आकार प्रकार में भव्य थे। सेठ-साहूकार या मालदार लोग अपने मृतकों की कब्रें या समाधि अच्छी बनवा देते थे।
यदि आप भी किसी समाधि, कब्र या पाल्या महाराज के यहां माथा टेकने जा रहे हैं। अगरबत्ती लगा रहे हैं तो निश्चित ही जानिए आप सही मार्ग पर नहीं हैं। हालांकि यह आपका चयन है, लेकिन ऐसा करके आप मृतकों, भूतों और आत्माओं के पूजक ही माने जाएंगे। हो सकता है कि आपको इससे तात्कालिक लाभ मिले लेकिन यह भी देखा गया है कि ऐसा करने से जीवन में मुसीबत और भी बड़ जाती है। ऐसी मान्यता है कि कई लोग जब तक माथा टेकते रहते हैं तब तक ठीक चलता है और जहां छोड़ा की वे समाधि वाले भूत उनके जीवन में तूफान खड़ा कर देते हैं। हालांकि वे बीच बीच में भी ऐसा करते रहते हैं ताकि उनकी अहमियत बनी रहे और लोग उन्हें मानें, उनके दर पर माथा टेके।
समाधि या कब्र पूजना वर्जित : आजकल हिन्दू कई दर्गाओं, समाधियों और कब्रों पर माथा टेककर अपने सांसारिक हितों को साधने में प्रयासरत है, लेकिन क्या यह धर्मसम्मत है। क्या यह उचित है? यदि हिन्दू धर्म समाधि पूजकों का धर्म होता तो आज देश में लाखों समाधियों की पूजा हो रही होती क्योंकि इस देश में ऋषियों की लंबी परंपरा रही है और सभी के आज भी समाधि स्थल है। लेकिन आज ऐसे कई संत हैं जिनके समाधि स्थलों पर मेला लगता है।
कई तो अपने गुरु की पूजा करते हैं और बहुत सी जगहों पर रावण की पूजा भी होती है। इसके अलावा सिद्ध, चारण, पिशाच, पितर, ग्रह-नक्षत्र, पीर-फकीर, सिद्ध बाबा, कब्र-समाधि आदि को तो लोग पूजते ही हैं साथ ही अब तो फिल्म स्टारों के मंदिर भी बनने लगे हैं। बहुत से ऐसे तांत्रिक हैं जो पिशाच कर्म करते हैं। ऐसे लोगों के लिए मौत के बाद जो सजा मिलेगी उसका वेद और गरूढ़ पुराण में उल्लेख मिलता है।

अगले पन्ने पर क्यों नहीं जाना चाहिए समाधि या कब्रों पर...

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :