कौन थे कृष्ण के पांच बड़े शत्रु, जानिए

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
विष्णु और भगवान शिव के बहुत सारे शत्रु थे। इन शत्रुओं के चलते ही धरती पर नए धर्मों और संस्कृतियों की उत्पत्ति के साथ ही युद्ध के नए-नए तरीकों और हथियारों का सृजन हुआ और इतिहास रचा गया। जलंधर, भस्मासुर, तारकासुर, त्रिपुरासुर, महिषासुर आदि शिव के द्रोही थे तो कालनेमि सहित सभी असुर भगवान विष्णु के शत्रु थे। बार-बार ये लोग जन्म लेते रहे हैं और विष्णु व शिव के खिलाफ कार्य करते रहे हैं।
 
FILE
राम के काल में रावण तो कृष्ण के काल में कंस, बुद्ध के काल में देवव्रत तो कलि काल में भी कई लोग सक्रिय हैं। विद्वान लोग कहते हैं कि वे शत्रु आज भी सक्रिय हैं। आज हम आपको बताएंगे कि वे कौन हैं, जो कृष्ण के शत्रु हैं।> > हालांकि भगवान कृष्ण ने यूं तो कई असुरों का वध किया जिनमें ताड़का, पूतना, शकटासुर, कालिया, नरकासुर आदि का वध किया था जिनकी उनसे कोई शत्रुता नहीं थी और वे असुर भी कोई शत्रुता नहीं रखते थे। वे सभी क्रूर थे और जनता उनसे त्रस्त थी। लेकिन कुछ ऐसे लोग थे, जो कृष्ण से सीधे-सीधे शत्रुता रखते थे। हालांकि कृष्ण ने उनसे कभी शत्रुता नहीं रखी। आओ जानते हैं उन्हीं में से ऐसे 5 बड़े लोग जो कृष्ण से शत्रुता रखते थे।

 

शत्रु नंबर 1, अगले पन्ने पर

 



और भी पढ़ें :