अनूठा पेड़ करता है भविष्यवाणी

भविष्य के संकेत देता अनूठा पेड़

WD|
FILE

की इस बार की कड़ी में हम आपको जानकारी देते हैं के अंचल के जिले के कस्बे की जहां स्थित है भविष्य बताने वाला एक अनूठा पेड़।

इसे आस्था कहें या अंधविश्वास कि धर्म धाम वागड अंचल में एक ऐसा अनूठा पेड़ है जिसके संबंध में कहा जाता हैं कि यह भविष्य के सटीक और सही-सही देता है। इस पेड़ से ही यह पता चलता है कि वर्ष भर अकाल की काली छाया रहेगी या नहीं।

वागड की प्राचीन राजधानी रहे डूंगरपुर जिले के माही नदी के मुहाने पर स्थित गलियाकोट कस्बे में प्रसिद्ध एवं प्राचीनतम सदियों से श्रद्धा का केन्द्र और वागडवासियों की आराध्या का रहा है। यह मंदिर भी अनूठा है। शायद यह दुनिया का पहला ऐसा मंदिर होगा जिसकी छत नहीं है।
इन्हीं देवी शीतला माता के दरबार में स्थित है यह अनूठा पेड़। इसे देखकर ही यहां के पुरोहित और जानकार लोग बताते हैं कि आने वाला समय सूखे और अकाल की विभीषिका से भरा होगा या फिर खुशहाली का।

FILE
शीतला माता के मूल मंदिर में देवी की मूर्ति के ठीक पीछे इस अनूठे पेड़ का स्थान है, जहां बरसात के ठीक पहले एक पौधा दिखाई देने लगता है जिसे स्थानीय बोली में 'हुरण' कहा जाता है। हर वर्ष आषाढ़ माह में यह पौधा अपने आप उग जाता है। इस पौधे की बढ़ोतरी और पल्लवन को देखकर ही प्राप्त होने लगते हैं।
हालांकि इस पेड़ की आयु ज्यादा नहीं होती और दशहरे पर यह अपने आप लुप्त हो जाता है, लेकिन इन चार माहों में यह पेड़ भविष्य के संकेत दे जाता है। सदियों से यह पेड़ इसी प्रकार भविष्यवाणियों का आधार बना हुआ है।

कहते हैं कि आम तौर पर एक फीट से लेकर छह फीट औसत आकार पाने वाले इस पेड की ऊंचाई और टहनियों के विस्तार से भविष्य का अंदाजा लगाया जाता है।
पिछले पांच-छह वर्ष में जब लगातार सूखे और अकाल का दौर रहा, तब यह पेड़ मात्र दो-ढाई फीट लंबाई ही पा सका और टहनियां भी नहीं निकली। ऐसे में यह एक-डेढ़ माह में ही सूख गया, लेकिन इसके बाद जिन-जिन वर्षों में बारिश अच्छी हुई, तब-तब यह करीब छह फीट ऊंचा हो चला और इसकी टहनियां भी विस्तार पाती रही। किसान हों या आम आदमी, आषाढ़ मास में गलियाकोट शीतला मंदिर आकर बरसात की भावी स्थिति का संकेत पाते रहे हैं।
शीतला माता मंदिर के पुराने पुजारी बताते हैं कि सदियों से यह पेड़ इसी प्रकार पनपता रहकर अकाल या सुकाल का संकेत देता रहा है। जिस वर्ष पेड़ अपनी पूरी ऊंचाई के साथ टहनियां फैलाकर पनपता है तो इससे साफ संकेत मिलता है इस साल अच्छी बारिश और खुशहाली रहेगी।

- प्रस्तुति : अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :