पटना के शेल्टर होम में दो महिलाओं की मौत के बाद संचालक और कोषाध्यक्ष गिरफ्तार

पुनः संशोधित सोमवार, 13 अगस्त 2018 (13:01 IST)
पटना। आसरा नामक (आश्रय घर) में एक नाबालिग समेत दो महिलाओं की संदिग्ध मौत हो गई। दोनों महिलाओं को शुक्रवार रात पटना मेडिकल कॉलेज (पीएमसीएच) ले जाया गया था, लेकिन इससे पहले ही दोनों की मौत हो गई थी। इस मामले में रविवार शाम इसके संचालक और कोषाध्यक्ष को गिरफ्तार कर लिया गया।

खबरों के मुताबिक, आसरा शेल्टर होम में नाबालिग समेत दो महिलाओं की संदिग्ध मौत हो गई। दोनों महिलाओं को शुक्रवार रात पटना मेडिकल कॉलेज (पीएमसीएच) ले जाया गया था, लेकिन अस्पताल अधीक्षक डॉ. राजीव रंजन के अनुसार, उससे पहले ही दोनों की मौत हो गई थी। महिलाओं की उम्र 17 साल और 40 साल बताई जा रही है।

पुलिस को घटना की सूचना 36 घंटे बाद रविवार सुबह मिली थी। इससे पहले दोनों महिलाओं का पोस्टमार्टम किया जा चुका है, जिसकी रिपोर्ट आज आएगी। इनमें से एक (नाबालिग) का अंतिम संस्कार शनिवार को ही कर दिया गया था। इस मामले में रविवार शाम इसके संचालक चिरंतन कुमार और कोषाध्यक्ष मनीषा दयाल को गिरफ्तार कर लिया गया। प्रशासन ने जांच के लिए मेडिकल बोर्ड का गठन किया है।

शेल्टर होम के एक कर्मचारी के अनुसार, शुक्रवार को उल्टी, दस्त की शिकायत के बाद दोनों को रात 10 बजे पीएमसीएच में भर्ती कराया गया था। संस्था के सचिव चिरंतन का कहना है कि के बाद समाज कल्याण पदाधिकारी को फोन करके घटना की जानकारी दी गई थी।

खबरों के मुताबिक, जिस दिन दोनों महिलाओं को अस्पताल ले जाया गया, उसी दिन शेल्टर होम से तीन लड़कियों ने भागने की कोशिश की थी। पुलिस और समाज कल्याण विभाग के अधिकारी भी शेल्टर होम की जांच करने गए थे। एक संस्था की महिला कार्यकर्ता ने भी आरोप लगाया कि यहां रखी गईं महिलाओं और लड़कियों को ठीक से नहीं रखा जाता।

इस मामले में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा, शेल्टर होम की जिन दो लड़कियों की अचानक मौत हुई है, क्या वो मुजफ्फरपुर से यहां लाई गई थीं? दोनों सब जानती थीं, इसलिए मार दिया गया? उन्‍होंने सवाल किया पुलिस को सूचना दिए बिना उनका अंतिम संस्कार क्यों किया जा रहा था?


और भी पढ़ें :