पुंछ में पाक सेना ने किया संघर्षविराम उल्लंघन, महिला की मौत

सुरेश एस डुग्गर| Last Updated: शनिवार, 12 अगस्त 2017 (13:01 IST)
श्रीनगर। पाकिस्तान ने एक बार फिर शनिवार सुबह जम्मू के के मेंढ़र में युद्धविराम का उल्लंघन किया। सुबह 5.15 से मेंढ़र सेक्टर मे बिना किसी उकसावे के सेना ने गोलाबारी शुरू कर दी। छोटे हथियारों से लेकर मोर्टार तक दागे गए। फायरिंग का एलओसी पर तैनात भारतीय सेना ने मजबूती के साथ माकूल जवाब दिया। फायरिंग 6.45 में रुक गई।
पाक की ओर गोलाबारी में मेंढ़र इलाके में एक महिला की मौत हो गई। 45 साल की महिला की मौत से परिवार के लोग काफी दुखी है। ये पहली बार नहीं है कि पाक गोलाबारी में आम आदमी की मौत हुई है।

इस साल अब तक पाकिस्तान ने करीब 250 दफ़ा से ज्यादा युद्धविराम का उल्लंघन किया है जबकि पिछले साल 228 दफा ही पाकिस्तान ने युद्धविराम का उल्लंघन किया था। अभी जबकि साल खत्म होने मे पांच महीने बचे है।
उधर कश्मीर के कुपवाड़ा में सेना के कैंप पर आतंकियों ने देर रात दूर से फायर कर भाग निकले। सेना ने जवाबी फायरिंग की लेकिन अंधेरे का फायदा उठाकर आतंकी भाग निकले। सेना फिलहाल इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चला रही है।

दूसरी ओर दक्षिणी कश्मीर में पुलवामा जिले के त्राल में अंधेरे का फायदा उठाकर आतंकवादियों के भाग निकलने के कारण सुरक्षाबलों का तलाशी अभियान आज समाप्त कर दिया।

पुलिस ने बताया कि त्राल के नूरपोरा इलाके में में कल शाम अल-कायदा के स्वयंभू कमांडर जाकिर मूसा समेत कुछ आतंकवादियों के छिपे होने की सूचना मिलने पर सुरक्षाबलों ने एक तलाशी अभियान शुरू किया।

सुरक्षाबलों की ओर से जब क्षेत्र की घेराबंदी की जा रही तभी स्थानीय लोगों ने सड़कों पर उतरकर पथराव शुरू कर दिया, जिसके बाद सुरक्षाबलों और प्रदर्शनकारियों के बीच कई घंटों तक झड़पें हुईं। स्थिति को देखते हुए घटनास्थल पर अतिरिक्त सुरक्षाबलों को भेजा गया।
सुरक्षाबलों ने क्षेत्र से बाहर निकलने के सभी मार्ग बंद कर दिए। आज सुबह सुरक्षाबलों ने दोबारा तलाशी अभियान शुरू किया, लेकिन आतंकवादी रात के अंधेरे का फायदा उठाकर भाग निकलने में कामयाब रहे। गौरतलब है कि नौ अगस्त को पुलवामा में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच हुई मुठभेड़ में जाकिर मूसा गुट के तीन आतंकवादी मारे गए थे।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :