रक्षाबंधन पर है ग्रहण, कब मनाएं पर्व, जानिए शुभ मंत्र



हर वर्ष की तरह रक्षाबंधन शुक्ल पक्ष श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि को सोमवार, को आ रहा है। इस बार विशेष यह है कि इस दिन रात्रि 10 बजकर 53 मिनट पर है तथा मोक्ष 12 बजकर 48 मिनट पर होगा। अत: सूतक दिन के 2 बजे से लगेगा। अत: त्योहार दिन के 2 बजे के पूर्व ही मनाया जाएगा या दूसरे दिन पूर्णिमा 3.15 बजे अपराह्न तक है, तब मनाया जा सकता है।
तंत्र-मंत्र की सिद्धि के लिए इससे अच्‍छा समय दूसरा नहीं होगा, अत: लाभ उठाएं। जिन्हें ग्रहण दोष जन्म पत्रिका में हो, वे दुग्ध धारा द्वारा रुद्राभिषेक करवा सकते हैं। ग्रहण काल में मंत्रों की सिद्धि विशेष रूप से की जाती है। लक्ष्मी प्राप्ति, रोग नाश, शत्रु नाश आदि के लिए लाभ उठा सकते हैं। मंत्र निम्न प्रकार करें-

1. यक्षिणी सिद्धि के लिए कोई सा भी मंत्र करें तथा धनदा यक्षिणी के लिए 'घं श्रीं ह्रीं रतिप्रिये स्वाहा' स्फटिक माला से मंत्र जप करें। मात्र जप ही यथेष्ट है।

2. लक्ष्मी प्राप्ति के लिए- कमल गट्टे की माला से 'ॐ ऐं ह्रीं श्री महालक्ष्म्यै नम:'
तथा
3. 'ॐ श्री वित्तेश्वराय नम:' का जप करें।

4. घर में आए दिन सामान की कमी का सामना करना पड़ता हो तो स्फटिक की माला से 'ॐ ह्रीं श्रीं आं ऐं लक्ष्मी स्वाहा' जपें।

5. व्यापार-व्यवसाय की वृद्धि के लिए 'ॐ नमो ह्रीं श्रीं क्रीं श्रीं क्लीं श्रीं लक्ष्मी मम गृहे धन चिंता दूर करोति स्वाहा' जपें।

6. अथाह संपत्ति प्राप्त करने के लिए 'ॐ श्रीं त्रिभुवन स्वामिनी महादेवी महालक्ष्मी ल ल ल ल हं ह: महाप्रभुत्वमर्थ कुरु कुरु ह्रीं नम:' जपें।
7. सर्व रक्षार्थे बटुक भैरव मंत्र 'ॐ ह्रीं बटुकाय आपदुद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं ॐ' जपें।


विशेष ज्ञातव्य- ग्रहण के 10 मिनट पूर्व से 10 मिनट बाद तक जपें, सिद्धि निश्चित ही प्राप्त होगी। इति:।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

ऐसा उत्पन्न हुआ धरती पर मानव और ऐसे खत्म हो जाएगा

ऐसा उत्पन्न हुआ धरती पर मानव और ऐसे खत्म हो जाएगा
हिन्दू धर्म अनुसार प्रत्येक ग्रह, नक्षत्र, जीव और मानव की एक निश्‍चित आयु बताई गई है। वेद ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे देवता... पढ़ें पौराणिक महत्व और 11 खास बातें
सूर्यदेव ने कर्क राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के कर्क में प्रवेश करने के कारण ही इसे ...

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य
गीता में लिखा गया है कि ये संसार उल्टा पेड़ है। इसकी जड़ें ऊपर और शाखाएं नीचे हैं। यदि कुछ ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, जानिए ग्रह अनुसार क्या चढ़ाएं शिव को
श्रावण के शुभ समय में ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार शिवलिंग का पूजन करना चाहिए। ...

क्या ग्रहण करें देवशयनी एकादशी के दिन, जानिए 6 जरूरी ...

क्या ग्रहण करें देवशयनी एकादशी के दिन, जानिए 6 जरूरी बातें...
हिन्दू धर्म में आषाढ़ मास की देवशयनी एकादशी का बहुत महत्व है। यह एकादशी मनुष्य को परलोक ...

आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज का 51वां दीक्षा दिवस

आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज का 51वां दीक्षा दिवस
विश्व-वंदनीय जैन संत आचार्यश्री 108 विद्यासागरजी महाराज भारत भूमि के प्रखर तपस्वी, चिंतक, ...

18 जुलाई से सौर मास श्रावण आरंभ, क्या लाया है यह बदलाव आपकी ...

18 जुलाई से सौर मास श्रावण आरंभ, क्या लाया है यह बदलाव आपकी राशि के लिए
यूं तो विधिवत श्रावण मास का आरंभ 28 जुलाई से होगा लेकिन सूर्य कर्क संक्रांति के साथ ही ...

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते ...

क्या अमरनाथ गुफा में शिवलिंग के साथ ही बर्फ से निर्मित होते हैं पार्वती और गणेश?
अमरनाथ गुफा में शिवलिंग का निर्मित होना समझ में आता है, लेकिन इस पवित्र गुफा में एक गणेश ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण ...

इन पौराणिक कथाओं से जानिए कि क्यों प्रिय है शिव को श्रावण मास,अभिषेक और बेलपत्र
पौराणिक कथा है कि जब सनत कुमारों ने महादेव से उन्हें श्रावण महीना प्रिय होने का कारण पूछा ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें ...

कौन है जापानी लकी कैट, क्यों करती है यह हमारी मदद... जानें पूरी कहानी
लकी कैट जापान से आई है। घर में इस बिल्ली की प्रतिमा रखने मात्र से ही व्यक्ति की सारी ...

राशिफल