सुषमा स्वराज बोलीं, मुबीन अहमद अब खतरे से बाहर...

नई दिल्ली। विदेश मंत्री का कहना है कि पिछले सप्ताह अमेरिका में जानलेवा हमले का शिकार हुआ भारतीय अब खतरे से बाहर है। उल्लेखनीय है कि पीड़ित मुबीन अहमद तेलंगाना 
का निवासी है।  
 
सुषमा स्वराज ने गुरुवार की देर रात ट्वीट किया, मुझे सैन फ्रांसिस्को स्थित हमारे वाणिज्य दूतावास से रिपोर्ट मिली है। उन्होंने यह भी कहा, हमले का शिकार शख्स मुबीन अहमद एक गैस स्टेशन पर काम करता है और एक बंदूकधारी ने मुबीन से पैसे मांगे और फिर उस पर गोली चला दी।
 
सुषमा ने यह जानकारी भी दी कि 'उसे कैलिफोर्निया के इडेन मेडिकल सेंटर में भर्ती कराया गया। सौभाग्य से वह खतरे से बाहर है। हम पुलिस के साथ इस मामले पर नजर बनाए हुए हैं। मुबीन अहमद (26) तेलंगाना के संगारेड्डी जिले का रहने वाला है। अमेरिका में जहां वह काम करता है वहीं पर उसे चार जून को पेट में दो गोलियां मार दी गई थीं हालांकि उसके परिवार को गुरुवार को इस घटना के बारे में पता चला।
 
मुबीन के परिवार का कहना है कि कुछ लोग ग्राहक बनकर मुबीन के गैस स्टेशन पर पहुंचे और किसी बात पर विवाद होने के बाद उन्होंने उस पर गोलियां चला दीं। घायल मुबीन को फौरन कैलिफोर्निया के अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी सर्जरी हुई। शिकागों में रहने वाले उसके रिश्तेदार अस्पताल में उसकी देखभाल कर रहे हैं।
 
कैलिफोर्निया पुलिस के साथ संपर्क में भारतीय विदेश मंत्री सुषमा ने ट्वीट कर बताया है कि भारत इस केस पर नजर रखे है और कैलिफोर्निया की पुलिस के साथ बराबर संपर्क में है। सुषमा ने ट्वीट किया और जानकारी दी, पीड़ित मुबीन एक गैस स्‍टेशन पर काम करता है। एक बंदूकधारी ने उससे पैसे मांगे और फिर उस पर गो‍ली चला दी। 
 
मुबीन वर्ष 2015 में मास्‍टर्स प्रोग्राम के लिए कैलिफोर्निया गया था और उसका परिवार संगारेड्डी जिले में रहता है। दो वर्ष पहले मुबीन का प्रोग्राम खत्‍म हो गया था। दो वर्ष पहले आया था घर मुबीन के पिता मुजीब अहमद ने बताया, 'मुबीन को वेंटीलेटर पर रखा गया है। हमें पता नहीं है कि असल में क्‍या हुआ। सिर्फ इतना जानते हैं कि उसे दर्द हो रहा था और दर्द को कम करने के लिए उसे जो दवाई दी गई है उसकी वजह से वह बेहाश है।' 
 
मुबीन के बारे में यह जानकारी भी दी गई कि वह दो वर्ष पहले अमेरिका गया था और फिर एक बार भी अपने घर नहीं आया है। उनका कहना है कि अमेरिका से भारत आना मुबीन के लिए काफी महंगा है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :