नरेन्द्र मोदी : झेले हैं बयानों के बाण

WD|
 
FILE
गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेन्द्र मोदी को जब से भारतीय जनता पार्टी का उम्मीदवार बनाया गया है तब से उन पर राजनीति और बयानबाजी गर्म हो गई है। एक ओर जहां मोदी हमला करने से नहीं चूक रहे हैं तो दूसरी ओर से मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक बयानों की भरमार लग चुकी है। आओ जानते हैं कि मोदी के खिलाफ बयानों की शुरुआत कहां से हुई। मौत का सौदागर : सोनिया गांधी द्वारा 2007 के विधानसभा चुनाव के दौरान की गई इस तरह की टिप्पणी ने भारी राजनीतिक बबाल खड़ा कर दिया। तब से ही मोदी के खिलाफ इस चुनाव में बद से बदतर शब्दों का इस्तेमाल किया जाने लगा। जब मुखिया ही मुख खोल कर दें तो फिर कार्यकताओं के कहने ही क्या।> > जून में पटना में एक रैली को संबोधित करने हुए नरेन्द्र मोदी ने इस पर पलटवार करते हुए कहा कि सोनिया बताएं कौन है मौत का सौदागर? नक्सलवाद, महंगाई, आतंकवाद, भोपाल गैस त्रासदी में हजारों-लाखों लोग मारे गए उन लोगों की मौत का सौदागर कौन है?

 

अगले पन्ने पर किसने कहा बंदर, कुत्ता और राक्षस...

 


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :