महानवमी पर कैसे करें पूजन, जानिए


डॉ. रामकृष्ण डी. तिवारी|
 
* नवरात्रि की नवमी तिथि है विशेष, जानिए कैसे करें पूजा
शक्ति के लिए देवी आराधना की सुगमता का कारण मां की करुणा, दया, स्नेह का भाव किसी भी भक्त पर सहज ही हो जाता है। ये कभी भी अपने बच्चे (भक्त) को किसी भी तरह से अक्षम या दुखी नहीं देख सकती है। उनका आशीर्वाद भी इस तरह मिलता है, जिससे साधक को किसी अन्य की सहायता की आवश्यकता नहीं पड़ती है। वह स्वयं सर्वशक्तिमान हो जाता है।
 
इनकी प्रसन्नता के लिए कभी भी उपासना की जा सकती है, क्योंकि शास्त्राज्ञा में चंडी के लिए किसी भी मुहूर्त की अनिवार्यता नहीं है। नवरात्रि के नौवे दिन महानवमी पूजन एवं आराधना का विशेष महत्व है। इस दिन के तप का फल कई गुना व शीघ्र मिलता है।
 
में देवी के एक हजार नामों की सूची है। इसमें उनके गुण हैं व कार्य के अनुसार नाम दिए गए हैं। सहस्त्रनाम के पाठ करने का फल भी महत्वपूर्ण है। इन नामों से हवन करने का भी विधान है। इसके अंतर्गत नाम के पश्चात नमः लगाकर स्वाहा लगाया जाता है।
हवन की सामग्री के अनुसार उस फल की प्राप्ति होती है। सर्व कल्याण व कामना पूर्ति हेतु इन नामों से अर्चन करने का प्रयोग अत्यधिक प्रभावशाली है। जिसे के नाम से जाना जाता है। सहस्त्रार्चन के लिए देवी की सहस्त्र नामावली जो कि बाजार में आसानी से मिल जाती है कि आवश्यकता पड़ती है।
 
इस नामावली के एक-एक नाम का उच्चारण करके देवी की प्रतिमा पर, उनके चित्र पर, उनके यंत्र पर या देवी का आह्वान किसी सुपारी पर करके प्रत्येक नाम के उच्चारण के पश्चात नमः बोलकर भी देवी की प्रिय वस्तु चढ़ाना चाहिए। जिस वस्तु से अर्चन करना हो वह शुद्ध, पवित्र, दोष रहित व एक हजार होना चाहिए।
 
अर्चन में बिल्वपत्र, हल्दी, केसर या कुंकुम से रंग चावल, इलायची, लौंग, काजू, पिस्ता, बादाम, गुलाब के फूल की पंखुड़ी, मोगरे का फूल, चारौली, किसमिस, सिक्का आदि का प्रयोग शुभ व देवी को प्रिय है। यदि अर्चन एक से अधिक व्यक्ति एक साथ करें तो नाम का उच्चारण एक व्यक्ति को तथा अन्य व्यक्तियों को नमः का उच्चारण अवश्य करना चाहिए।
अर्चन की सामग्री प्रत्येक नाम के पश्चात, प्रत्येक व्यक्ति को अर्पित करना चाहिए। अर्चन के पूर्व पुष्प, धूप, दीपक व नैवेद्य लगाना चाहिए। दीपक इस तरह होना चाहिए कि पूरी अर्चन प्रक्रिया तक प्रज्वलित रहे। अर्चनकर्ता को स्नानादि आदि से शुद्ध होकर धुले कपड़े पहनकर मौन रहकर अर्चन करना चाहिए।
 
इस साधना काल में आसन पर बैठना चाहिए तथा पूर्ण होने के पूर्व उसका त्याग किसी भी स्थिति में नहीं करना चाहिए। अर्चन के उपयोग में प्रयुक्त सामग्री अर्चन उपरांत किसी साधन, ब्राह्मण, मंदिर में देना चाहिए। कुंकुम से भी अर्चन किए जा सकते हैं। इसमें नमः के पश्चात बहुत थोड़ा कुंकुम देवी पर अनामिका-मध्यमा व अंगूठे का उपयोग करके चुटकी से चढ़ाना चाहिए।
 
बाद में उस कुंकुम से स्वयं को या मित्र भक्तों को तिलक के लिए प्रसाद के रूप में दे सकते हैं। सहस्त्रार्चन नवमी के दिन कम से कम एक बार अवश्य करना चाहिए। इस 1000 अर्चन में आराध्य देवी का अर्चन अधिक लाभकारी है। नवमी के दिन अर्चन का प्रयोग बहुत प्रभावशाली, सात्विक व सिद्धिदायक होता है। अत: इसे पूर्ण श्रद्धा व विश्वास से करना चाहिए।
 


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

महाभारत के पांच मामाओं के 'कारनामे' जानकर चौंक जाएंगे

महाभारत के पांच मामाओं के 'कारनामे' जानकर चौंक जाएंगे
महाभारत में मामाओं के बड़े जलवे रहे हैं। एक ओर मामाओं ने लुटिया डुबोई है तो दूसरी ओर पार ...

जानिए क्या है केमद्रुम योग, यह योग जातक को बना देता है

जानिए क्या है केमद्रुम योग, यह योग जातक को बना देता है कंगाल
लग्न चक्र के विविध योगों में केमद्रुम योग एक ऐसा योग है, जिसके कारण बहुत कठिनाइयां सामने ...

क्या है पुरी की जगन्नाथ रथयात्रा का राज, इन 15 बिंदुओं से ...

क्या है पुरी की जगन्नाथ रथयात्रा का राज, इन 15 बिंदुओं से जानिए संपूर्ण रथयात्रा का महत्व
विश्व प्रसिद्ध रथयात्रा जगन्नाथ यात्रा का उत्साह चरम पर है। देश-विदेश से लोग इसमें शामिल ...

आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि के मुहूर्त और पूजन का शुभ समय, ...

आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि के मुहूर्त और पूजन का शुभ समय, जानिए...
आषाढ़ गुप्त नवरात्रि का पर्व 13 जुलाई 2018 से शुरू हो रहा है। आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकम तिथि ...

उड़ीसा में एक जगन्नाथ मंदिर ऐसा भी है जहां नहीं निकलती ...

उड़ीसा में एक जगन्नाथ मंदिर ऐसा भी है जहां नहीं निकलती रथयात्रा, जानिए आप भी...
गंजाम के मरदा स्थित जगन्नाथ मंदिर में कोई देवी-देवता ही स्थापित नहीं हैं। कहते हैं, सन ...

16 जुलाई 2018 से सूर्य कर्क राशि में, जानिए क्या उलटफेर ...

16 जुलाई 2018 से सूर्य कर्क राशि में, जानिए क्या उलटफेर होगा आपकी राशि में ...
16 जुलाई 2018 सोमवार को 22:42 बजे कर्क राशि में गोचर करने जा रहे हैं। सूर्यदेव के इस ...

शिवपुराण में मिला धन कमाने का पौराणिक रहस्य, बहुत आसान है ...

शिवपुराण में मिला धन कमाने का पौराणिक रहस्य, बहुत आसान है मनचाही दौल‍त पाना
यदि आप भी शिवजी की कृपा से धन संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाना चाहते हैं तो यहां बताया गया ...

श्रावण मास में मंदिर नहीं जा सकते, घर में रहकर करना है शिव ...

श्रावण मास में मंदिर नहीं जा सकते, घर में रहकर करना है शिव पूजन तो यह लेख आपके लिए है, पढ़ें राशि अनुसार शिव पूजन
प्रस्तुत है इस श्रावण मास में कुछ ऐसे उपाय जो आप घर में बैठकर ही आसानी से कर सकते हैं और ...

सावन मास में यह धारा शिव को चढ़ाने से मूर्ख भी हो जाता है ...

सावन मास में यह धारा शिव को चढ़ाने से मूर्ख भी हो जाता है बुद्धिमान, पढ़ें 7 विशेष जानकारी
सावन मास में शिव का पूजन पूरी विधि विधान से करना चाहिए। जानिए, अलग-अलग धाराओं से शिव ...

चातुर्मास में रखें इन बातों का विशेष ध्यान

चातुर्मास में रखें इन बातों का विशेष ध्यान
व्रत, भक्ति और शुभ कर्म के चार महीने को हिन्दू धर्म में 'चातुर्मास' कहा गया है। ध्यान और ...

राशिफल