कुलगाम में दो आतंकी ढेर, एक जवान ने आत्‍महत्‍या की

जम्‍मू| सुरेश डुग्गर| पुनः संशोधित शनिवार, 12 जनवरी 2019 (19:06 IST)
जम्‍मू। के काटापोरा-यारीपोरा इलाके में सुरक्षाबलों द्वारा सर्च ऑपरेशन चलाया गया। इसी बीच, सेना के जवानों की तीन आतंकियों से मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के डिस्ट्रिक्ट कमांडर सहित तीन आतंकियों के घिरे होने की जानकारी है।
वहीं सूत्रों की मानें तो दो आंतकियों को सुरक्षा बलों ने मार गिराया है। मुठभेड़ अभी भी जारी है। एनकाउंटर के दौरान कुलगाम में सभी इंटरनेट सेवाएं बंद करा दी गई हैं।

अधिकारियों के मुताबिक, आतंकियों की ओर से अभी भी गोलियां बरसाई जा रही हैं, जिससे लगता था कि एक दो आतंकी अभी जिंदा हैं। उनका कहना था कि उन्‍हें भी जल्‍द ढेर कर दिया जाएगा।

जवान ने की आत्‍महत्‍या : कश्मीर के कुलगाम जिले में ही सेना के एक जवान ने अपने शिविर में खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने कहा कि राष्ट्रीय राइफल्स शिविर में वायरलेस ऑपरेटर पद पर तैनात अभिषेक रॉय कुमार ने शुक्रवार शाम अपनी सर्विस रिवॉल्वर से खुद को गोली मार ली। पुलिस ने कहा कि जवान की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। आत्महत्या के कारण का फिलहाल पता नहीं चल पाया है।"
शहीद मेजर के शव को पुणे भेजा गया : इस बीच राजोरी जिले के नौशेरा इलाके में आईडी ब्लास्ट में शहीद हुए मेजर शशि धरन वी नायर का पार्थिव शरीर शनिवार को पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनके निवास स्थान पुणे के लिए रवाना कर दिया गया है। रवानगी से पहले शहीद मेजर को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए मेजर जनरल एच. धर्मराजन, जीओसी एस राजौरी, आईजी पुलिस जम्मू, स्टेशन कमांडर जम्मू, स्टेशन कमांडर एयर फोर्स जम्मू, सीएसओ व्हाइट नाइट कॉप्स आदि मौजूद रहे।
श्रद्धांजलि के बाद मेजर शशिधरन का पार्थिव शरीर शनिवार विमान से उनके निवास स्थान पुणे रवाना कर दिया गया। यह जानकारी सेना के पीआरओ लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने साझा की है।

याद रहे जम्‍मू के राजौरी जिले के नौशहरा इलाके के लाम सेक्टर में शुक्रवार को सेना की लाम बटालियन 2/1 जीआर के तीन जवान गश्त के दौरान आईईडी ब्लास्ट में गंभीर रूप से घायल हुए थे। तीनों को अस्पताल में उपचार के लिए लाया गया।
इस दौरान इनमें से एक जवान ने दम तोड़ दिया। वहीं घायल सूबेदार व नायक का उपचार चल रहा है। उसी जगह शुक्रवार शाम तकरीबन पौने छह बजे एक और आईईडी ब्लास्ट हुआ, जिसमें सेना के मेजर शशि धरन वी नायर शहीद हो गए। धमाका इतना विध्वंसक था कि ब्लास्ट के दौरान सेना की एक जिप्सी के परखच्चे उड़ गए।


और भी पढ़ें :