मोदी को कोसते-कोसते कोसों दूर हो गईं पार्टियां : नकवी

Last Updated: गुरुवार, 5 अक्टूबर 2017 (18:45 IST)
नई दिल्ली। विकास दर में गिरावट को लेकर कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों द्वारा मोदी
सरकार की आलोचना पर पलटवार करते हुए केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने गुरुवार को कहा कि कुछ पार्टियां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को कोसते-कोसते जनता से कोसों दूर चली गई हैं।

नकवी हैदराबाद के यूसुफगुडा में कोटला विजया भास्कर रेड्डी इंडोर स्टेडियम में प्रधानमंत्री
मुद्रा योजना के प्रोत्साहन कैंप में आम जनता, कारोबारियों, उद्योग जगत के प्रतिनिधियों, सामाजिक क्षेत्र के लोगों को संबोधित कर रहे थे।

यहां जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार, उन्होंने कहा कि सरकार ने 8 अप्रैल 2015 को शुरू
प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत अभी तक 9 करोड़ 13 लाख ऋण स्वीकृत किए हैं। इस
योजना के तहत लाभ पाने वालों में लगभग 76 प्रतिशत महिलाएं हैं। लाभार्थियों में लगभग
55 प्रतिशत से ज्यादा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़े वर्ग, अल्पसंख्यक वर्ग
के लोग शामिल हैं। लाभार्थियों में 3 लाख 96 हजार करोड़ रुपए के ऋण स्वीकृत किए गए हैं।

नकवी ने कहा कि दुनिया का हर देश आज भारत को आर्थिक ताकत मान रहा है। आज
भारत दुनिया का सबसे मजबूत एवं सुरक्षित निवेश का केंद्र बन गया है। पिछले 3 वर्षों के
दौरान मोदी सरकार ने अर्थव्यवस्था को मजबूत दिशा दी है। आर्थिक विकास दर 7 प्रतिशत
से ऊपर रही है।

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के लिए
मोदी सरकार ने जो कदम उठाए हैं उनमें सबसे बड़ा और असरदार कदम है नोटबंदी। ऐसा कड़ा कदम मोदी जैसा प्रधानमंत्री ही उठा सकता है, जो राजनीति में नहीं बल्कि राष्ट्रनीति
पर विश्वास करते हैं।

नकवी ने कहा कि कुछ राजनीतिक दल और कुछ लोग प्रधानमंत्री मोदी को कोसते-कोसते
जनता से कोसों दूर हो गए हैं। कोसने वालों और काम करने वालों में कॉम्पिटिशन चल रहा
है। कुशासन-करप्शन का काकस सरकार को कोसने के कॉम्पिटिशन में व्यस्त है, जबकि
प्रधानमंत्री देश की प्रगति को अपना धर्म मानकर काम कर रहे हैं। इस कॉम्पिटिशन में जीत काम करने वालों की ही होगी।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के प्रोत्साहन कार्यक्रम में नकवी ने इस योजना के साथ-साथ
स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया जैसी योजनाओं की भी जानकारी लोगों को दी। (भाषा)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :