भारतीय सुरक्षाबलों की कार्रवाई से सदमे में पाकिस्‍तान

सुरेश एस डुग्गर|
श्रीनगर। कश्मीर में सुरक्षाबलों के हाथों आतंकियों के मरने के बढ़ते आंकड़े ने पाकिस्तान और उसकी खुफिया संस्‍था आईएसआई को हिलाकर रख दिया है। मरने वाले आतंकी कुछ बड़ा भी नहीं कर पा रहे हैं और यही दर्द पाकिस्तान को साल रहा है। इस दर्द को कम करने की खातिर उसने अब जैश-ए-मुहम्मद का सहारा लेना आरंभ किया है। जैश-ए-मुहम्मद के खाते में कश्मीर में होने वाले भयानक हमले जुड़े हुए हैं। इसी कड़ी में तल्हा रशीद का कश्मीर में आना जुड़ा हुआ है।

दरअसल, जैश आतंकी तल्हा रशीद को जैश सरगना मसूद अजहर ने हमास की जगह लेने और अंसार गजवा उल हिन्द व अन्य आतंकी संगठनों के साथ तालमेल बनाकर कश्मीर में को हवा देने के लिए भेजा था। हमास इसी साल मई में सुरक्षाबलों द्वारा तैयार की गई मोस्ट वांटेड 12 आतंकियों की सूची में भी शामिल किया गया था। अगर अधिकारियों पर विश्वास करें तो तल्हा रशीद को जैश की तरफ से हमास की जगह लेने के लिए भेजा गया था। हमास अगस्त में जैश को छोड़ जाकिर मूसा की अगुआई वाले संगठन अंसार गजवा उल हिन्द के साथ चला गया था। इससे जैश की गतिविधियां और काडर प्रभावित हो रहा था।


अधिकारियों ने बताया कि जैश को जाकिर मूसा से कोई परेशानी नहीं है और जब जाकिर ने हिज्ब से बगावत की थी तो जैश से जुड़े लोगों ने ही दक्षिण कश्मीर में एक स्थान विशेष पर बहावी विचारधारा से संबंधित कुछ मजहबी नेताओं के साथ उसकी बैठक का बंदोबस्त करते हुए कई विदेशी आतंकियों को जमा कर उसके अल कायदा से जुड़ने की जमीन तैयार की थी, लेकिन हमास का जैश में अपने कुछ साथियों के साथ मतभेद था। उसने जाकिर मूसा के साथ जाने का ऐलान कर दिया था। हमास के जाने के बाद मसूद अजहर ने तल्हा रशीद को कश्मीर में जिहादी मिशन पर भेजा था।


अधिकारियों ने बताया कि अक्टूबर की शुरुआत में श्रीनगर एयरपोर्ट पर हुए आत्मघाती हमले में शामिल जैश के आतंकी भी तल्हा के साथ ही सरहद पार से आए थे। तल्हा को दक्षिण कश्मीर में जैश के काडर को एकजुट करने और हिज्ब के काडर और अंसार गजवा उल हिन्द व लश्कर के बीच समन्वय की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। हालांकि तल्हा रशीद के बारे में सभी वरिष्ठ पुलिस अधिकारी व अन्य एजेंसियों के अधिकारी कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं, लेकिन संबंधित सूत्रों ने बताया कि तल्हा रशीद जो कथित तौर पर जैश-ए-मुहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर का भतीजा था, सितंबर में उत्तरी कश्मीर के रास्ते कश्मीर में दाखिल हुआ था। उसके साथ जैश के लगभग 15-16 आतंकियों ने 2 से 3 गुटों में घुसपैठ की थी।

कहा जाता है कि पिछले महीने बड़गाम जिले के अरिजाल इलाके में जाकिर मूसा की लश्कर और जैश के आतंकियों के साथ बैठक भी तल्हा रशीद के सौजन्य से ही हुई थी। इसी बैठक में जाकिर मूसा को एक हथियारों की खेप के साथ लश्कर व जैश के कुछ आतंकियों को सौंपा गया था। ऐसे में जबकि अब यह स्पष्ट हो गया है कि पाकिस्तान अपने दर्द को कम करने की खातिर खतरनाक हमलों को अंजाम देने वाले जैश-ए-मुहम्मद का सहारा लेने लगा है, केरिपुब के आईजीपी की वह चेतावनी इसी ओर इशारा करती थी जिसमें वे कहते थे कि आने वाले दिनों में कश्मीर में आतंकी भयानक हमलों को अंजाम दे सकते हैं। हालांकि अब तो आतंकियों के कब्जे से बरामद अमेरिकी एम-4 राइफल ने सुरक्षाबलों के होश उड़ा दिए हैं, क्योंकि ऐसे हथियारों का मुकबाला करने में वे सुरक्षाबल उतने निपुण नहीं हैं, जो कश्मीर में आतंकवादरोधी अभियानों में जुटे हुए हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :