स्वतंत्रता दिवस पर 'देश की बेटियां' करेंगी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सुरक्षा, तैनात होंगी SWAT महिला कमांडो

Last Updated: शनिवार, 11 अगस्त 2018 (09:14 IST)
भारत के पर दिल्ली में सुरक्षा को लेकर खास इंतजाम किए हैं। खासतौर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लेकर गृह मंत्रालय बेहद सतर्क है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लालकिले की प्राचीर से जब देशवासियों को संबोधित करेंगे तो उनकी सुरक्षा का जिम्मा इन महिला कमांडो के हाथों में होगा।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब लालकिले से देश को संबोधित करेंगे तो इस दौरान उनकी सुरक्षा में जहां एसपीजी और लोकल पुलिस होगी वहीं इस बार विमिन SWAT
कमांडो दस्ता भी तैनात रहेगा। इस स्पेशल विमन कमांडो को दिल्ली की जनता की सुरक्षा में तैनात किया।
किसी भी राज्य में पहला दस्ता :दिल्ली पुलिस का यह कमांडो दस्ता देश की किसी भी राज्य पुलिस में पहला दस्ता है। पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक की देखरेख में बनाए गए इस विशेष दस्ते में 36 महिला कॉन्स्टेबल हैं। इनको करीब 15 महीने तक सख्त ट्रेनिंग दी गई है। आमतौर पर कमांडो ट्रेनिंग 12 महीने की होती है लेकिन विमिन SWAT कमांडो को ऐसी ट्रेनिंग दी गई है जो कि मेल कमांडो से भी अधिक ट्रेंड है।
इस विमिन कमांडो में असम से 13, मणिपुर से 5, अरुणाचल प्रदेश से 5, सिक्किम से 5, मेघालय से 4, नगालैंड से 2 और मिजोरम व त्रिपुरा से 1-1 कॉन्स्टेबल ली गई हैं। यह दस्ता बख्तरबंद गाड़ियों में तैनात होगा और इसे चलाएंगी भी विमन कमांडो ही। फिलहाल इस दस्ते को राजपथ और विजय चौक पर तैनात किया जाएगा।
हथियार चलाने में एक्सपर्ट हैं, महिला कमांडो : इन महिला कमांडो को जीलॉक 21 पिस्टल, एमपी5 सबमशीन गन की भी एक्सपर्ट ट्रेनिंग दी गई है। इस तरह की टीम दुनिया के कई बड़े देशों के पास नहीं है। हथियार न होने की स्थिति में भी लड़ने की ट्रेनिंग दी गई है। इसके लिए इन्हें इजराइली कर्व मागा की ट्रेनिंग दी गई है।
पुरुषों से ज्यादा ट्रेनिंग : यह टीम किसी भी आतंकी हमले से निपटने की पूरी क्षमता रखती है। इन्हें झारौंदा कलां और एनएसजी के मानेसर स्थित सेंटर पर दी गई है। जहां पुरुष कमांडो को 12 महीने की ट्रेनिंग दी जाती है, वहीं इन महिलाओं को 15 महीने की कड़ी ट्रेनिंग दी गई है। इन्हें 12 महीनों की कमांडों ट्रेनिंग के अलावा 3 महीने की स्वैट ट्रेनिंग स्वैट एक्सपर्ट द्वारा दी गई है।

पराक्रम में होंगी तैनात : महिला स्वैट टीम को बेहद खतरनाक स्टंट जैसे बिल्डिंग पर चढ़ने की ट्रेनिंग भी दी गई है। साथ ही इन्हें बंधकों को बचाने के लिए मेट्रो, होटल और बसों में ऑपरेशन चलाने की ट्रेनिंग दी गई है। इसके अलावा इन्हें ऐंटि-टैरर वैन 'पराक्रम' में तैनात किया जाएगा। महिला कमांडो को इस तरह तैयार किया गया है कि यह दिल्ली पर होने वाले किसी भी हमले से ये निपट सकती हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :