वित्त राज्यमंत्री शिवप्रताप शुक्ल ने कहा, जीएसटी स्लैब में हो सकता है बदलाव

पुनः संशोधित सोमवार, 16 जुलाई 2018 (18:12 IST)
नई दिल्ली। वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) के तहत करों की दरें तय करने वाली जीएसटी परिषद की इस सप्ताह के अंत में होने वाली बैठक में कर के स्लैबों में संभव है। जीएसटी परिषद की अगली बैठक 21 जुलाई को होने वाली है।

वित्त राज्यमंत्री ने सोमवार को यहां एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं के प्रश्न के उत्तर में कहा कि हां, अगली बैठक में दरों को संगत बनाने पर भी विचार किया जाएगा। शुक्ला ने कहा कि जरूरत के हिसाब से परिषद समय-समय पर दरों की समीक्षा करती रहती है। सरकार का उद्देश्य जीएसटी को सरल से सरल बनाना और लोगों को अधिकतम राहत देना है।
जीएसटी के तहत अभी 4 कर स्लैब हैं। सबसे निचला स्लैब 5 प्रतिशत का है जबकि उच्चतम स्लैब 28 प्रतिशत का है। इसके अलावा 2 अन्य स्लैब 12 प्रतिशत और 18 प्रतिशत के हैं जिनमें अधिकतर वस्तुओं एवं सेवाओं को रखा गया है। बिना ब्रांड वाले खाद्यान्नों तथा कुछ अन्य जरूरी उत्पादों को कर से छूट दी गई है जबकि विलासिता वाले तथा स्वास्थ्य के लिए हानिकारक उत्पादों को 28 प्रतिशत के स्लैब में रखने के अलावा उन पर अधिभार भी लगाया गया है।
शुरू से ही जीएसटी में स्लैबों की संख्या कम करने की मांग उठती रही है। इसके पक्षधरों का कहना है कि कई स्लैब होने से 'एक कर' का उद्देश्य पूरा नहीं होता। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :