मनमोहन सिंह बोले, मेरे पास कोई विकल्प नहीं था...

पुनः संशोधित शनिवार, 14 अक्टूबर 2017 (00:11 IST)
नई दिल्‍ली। केन्द्र में 2004 से 2014 तक लगातार दो बार संप्रग गठबंधन सरकार का नेतृत्व कर चुके पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को दावा किया कि प्रधानमंत्री बनने के मामले में उनके पास तो कोई विकल्प ही नहीं बचा था तथा पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी इस बात को अच्छी तरह जानते थे।
उन्होंने यह बात आज यहां तीन मूर्ति सभागार में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की पुस्तक द कोलिशन इयर्स के उद्घाटन के अवसर पर कही जो इस दौर में केन्द्र की विभिन्न गठबंधन सरकारों का लेखाजोखा है। डॉ. सिंह ने पूर्व राष्ट्रपति को प्रतिष्ठित एवं जिंदादिल सांसद एवं कांग्रेसजन के रूप में याद करते हुए कहा कि पार्टी में हर कोई उनसे जटिल एवं मुश्किल मुद्दों के हल की उम्मीद करते थे।
मनमोहन ने वर्ष 2004 में अपने प्रधानमंत्री बनने का जिक्र करते हुए कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उन्हें प्रधानमंत्री के रूप में चुना और प्रणबजी मेरे बहुत ही प्रतिष्ठित सहयोगी थे। उन्होंने कहा, इनके (मुखर्जी के) पास यह शिकायत करने के सभी कारण थे कि मेरे प्रधानमंत्री बनने की तुलना में वे इस पद (प्रधानमंत्री) के लिए अधिक योग्य हैं। पर वे इस बात को भी अच्छी तरह से जानते थे कि मेरे पास इसके अलावा कोई विकल्प नहीं था। उनकी इस टिप्पणी पर न केवल मुखर्जी तथा मंच पर बैठे सभी नेता बल्कि श्रोताओं की अग्रिम पंक्ति में बैठी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया सहित सभी श्रोता हंसी में डूब गए।

मुखर्जी की पुस्तक के लोकार्पण अवसर पर मुखर्जी, मनमोहन के साथ साथ माकपा नेता सीताराम एचुरी, भाकपा नेता सुधाकर रेड्डी, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, द्रमुक नेता कानिमोई मंच पर मौजूद थे। श्रोताओं में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी मौजूद थे।

सिंह ने कहा कि इससे उनके और मुखर्जी के संबंध बेहतरीन हो गए तथा सरकार को एक समन्वित टीम की तरह चलाया जा सका। जिस प्रकार से उन्होंने भारतीय राजनीति के संचालन में महान योगदान दिया है, वह इतिहास में दर्ज होगा।
मनमोहन ने मुखर्जी के साथ अपने संबंधों को याद करते हुए कहा कि वे 1970 के दशक से ही उनके साथ काम कर रहे हैं। डॉ. सिंह ने कहा कि वे दुर्घटनावश राजनीति में आए जबकि मुखर्जी एक कुशल एवं मंझे हुए राजनीतिक नेता हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री रहने के दौरान सरकार को जब भी किसी जटिल मुद्दे का हल निकालना होता था तो मंत्री समूह का गठन किया जाता था और अधिकतर जीओएम की अध्यक्षता उस समय मुखर्जी ही कर रहे होते थे।
इस अवसर पर मुखर्जी ने कहा कि उन्होंने इस पुस्तक में राजनीतिक कार्यकर्ता की नजर से 1996-2004 तक की लंबी राजनीतिक यात्रा को समझने एवं समीक्षा का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि उन्हें संसद में लंबा अनुभव रहा है और उन्हें संसद में देश के कई बड़े नेताओं को सुनने का मौका मिला।

उन्होंने कहा कि यह पुस्तक किसी इतिहासकार की नजर से नहीं, बल्कि एक राजनीतिक कार्यकर्ता के नजर से लिखी गई है। उन्होंने कहा कि 1996 से लेकर 2004 के बीच पुस्तक में देवगौड़ा सरकार, गुजराल सरकार, वाजपेयी सरकार और मनमोहन सरकार के कामकाज का ब्यौरा दिया गया है।
मनमोहन की यह टिप्पणी इसलिए महत्व रखती है क्योंकि मुखर्जी ने अपनी पुस्तक में कहा, यह व्यापक उम्मीद थी कि सोनिया गांधी के मना करने के बाद प्रधानमंत्री के लिए मैं ही अगली पसंद रहूंगा। यह उम्मीद संभवत: इस तथ्य पर आधारित थी कि सरकार में मेरे पास व्यापक अनुभव है। मुखर्जी ने यह भी कहा कि जब उन्होंने मनमोहन सरकार में शामिल होने से इंकार कर दिया, सोनिया ने इसमें शामिल होने पर बल दिया क्योंकि यह उसके कामकाज के लिए महत्वपूर्ण होगा। साथ ही सिंह को भी सहयोग मिलेगा।

उन्होंने पुस्तक लोकार्पण समारोह में कहा कि कांग्रेस स्वयं में एक गठबंधन है क्योंकि यह सभी विचारों को एक मंच पर लाती है। उन्होंने कहा, भीतर के साथ-साथ बाहर गठबंधन होना कठिन है, किन्तु यह किया गया। मुखर्जी ने कहा कि उन्होंने पुस्तक में गठबंधन वर्षों का उल्लेख किया है और किसी व्यक्तिगत मामलों को शामिल नहीं किया गया।

इस अवसर पर माकपा नेता सीताराम येचुरी ने मुखर्जी के साथ अपने लंबे अनुभवों का जिक्र करते हुए कहा कि भारत स्वयं में ही एक महागठबंधन है जिसमें बहुलतावादी विचार शामिल हैं। उन्होंने कहा कि संप्रग सरकार के प्रथम कार्यकाल में कई जटिल मुद्दों पर मुखर्जी के साथ उनका विचार-विमर्श हुआ और उनके अनुभवों का लाभ उठाया गया।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मुखर्जी के लंबे राजनीतिक अनुभवों का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी इस पुस्तक को पढ़कर हम जैसे युवा पीढ़ी के नेता काफी कुछ सीख सकते हैं और आगामी चुनावों में उसका उपयोग कर सकते हैं। उन्होंने कहा, हम जैसे राजनीति में शुरुआत करने वालों और जब (हमें) गठबंधन का मौका मिल सकता हो, के लिए यह पुस्तक काफी महत्वपूर्ण होगी।

अखिलेश ने मंच पर बैठे विभिन्न दलों के सदस्यों की ओर संकेत करते हुए कहा, इन सभी को नेताजी (मुलायम सिंह यादव) के साथ बात करने का अनुभव होगा और अब उनका हमारे साथ भी अनुभव हो जाएगा...यह अच्छी बात होगी। इस अवसर पर द्रमुक सांसद कानिमोई और भाकपा नेता सुधाकर रेड्डी ने मुखर्जी के लंबे अनुभव का उल्लेख करते हुए कहा कि उन्होंने संसद में मुखर्जी से काफी सीखा। (भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

युवती ने ठुकराई अरबों की संपत्ति, बनीं जैन साध्‍वी

युवती ने ठुकराई अरबों की संपत्ति, बनीं जैन साध्‍वी
गुजरात में अरबपति परिवार से ताल्लुक रखने वाली और एमबीबीएस में गोल्ड मेडल हासिल कर चुकी ...

समय से काम पर पहुंचने के लिए रात भर चलता रहा

समय से काम पर पहुंचने के लिए रात भर चलता रहा
अलबामा में एक कर्मचारी अपनी ड्यूटी पर पहुंचने के लिए 30 किलोमीटर पैदल चल कर आया। बॉस को ...

खुशखबर, अब कम भीड़ वाली ट्रेनों में मिलेगी 10% तक छूट

खुशखबर, अब कम भीड़ वाली ट्रेनों में मिलेगी 10% तक छूट
नई दिल्ली। रेलवे ने यात्रियों को एक बड़ी सौगात देते हुए उन ट्रेनों में 10% तक छूट देने का ...

एलआईसी में निकली बंपर वेकेंसियां, जल्द करें आवेदन

एलआईसी में निकली बंपर वेकेंसियां, जल्द करें आवेदन
भारतीय जीवन बीमा निगम ने असिस्टेंट एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर्स के 700 पदों के लिए आवेदन ...

फीचर फोन का गया जमाना, 501 रुपए में मिलेंगे स्मार्ट फोन के ...

फीचर फोन का गया जमाना, 501 रुपए में मिलेंगे स्मार्ट फोन के सारे फीचर्स...
अब महंगे स्मार्ट फोन का जमाना गया। अब मात्र 501 रुपए के फोन में आपको स्मार्ट फोन के सारे ...

पुराने करदाताओं के लिए GST रजिस्ट्रेशन का एक और मौका

पुराने करदाताओं के लिए GST रजिस्ट्रेशन का एक और मौका
नई दिल्ली। वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) लागू होने से पहले की प्रणालियों में पंजीकृत ऐसे ...

विश्व जूनियर स्क्वाश में मिस्र का दबदबा

विश्व जूनियर स्क्वाश में मिस्र का दबदबा
चेन्नई। मिस्र के खिलाड़ियों का डब्ल्यूएसएफ विश्व जूनियर स्क्वाश चैम्पियनशिप के पुरूष और ...

आखिरी क्षणों में गोल गंवाकर भारत ने इंग्लैंड से ड्रॉ खेला

आखिरी क्षणों में गोल गंवाकर भारत ने इंग्लैंड से ड्रॉ खेला
लंदन। भारतीय महिला हॉकी टीम ने आखिरी क्षणों में गोल गंवाकर दुनिया की दूसरे नंबर की टीम ...

अविश्वास प्रस्ताव: शिवसेना ने मोदी की तुलना फ्रांस और राहुल ...

अविश्वास प्रस्ताव: शिवसेना ने मोदी की तुलना फ्रांस और राहुल की क्रोएशिया से की
मुंबई। फीफा विश्व कप फाइनल और केंद्र की राजग सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव के ...

मशहूर कवि, गीतकार गोपालदास नीरज पंचतत्व में विलीन

मशहूर कवि, गीतकार गोपालदास नीरज पंचतत्व में विलीन
अलीगढ़/ आगरा (उप्र)। मशहूर कवि, गीतकार पद्मभूषण गोपालदास नीरज का अंतिम संस्कार रविवार को ...

Oppo Find X दुनिया का सबसे खास कैमरे वाला स्मार्टफोन भारत ...

Oppo Find X दुनिया का सबसे खास कैमरे वाला स्मार्टफोन भारत में लांच, 35 मिनट में होगा फुल चार्ज
ओप्पो ने अपना Oppo Find X भारत में लांच कर दिया है। इस फोन को सबसे पहले पेरिस में लांच ...

Oppo A3s स्मार्टफोन 'सुपर फुल स्क्रीन' पैनल और आ सकते हैं ...

Oppo A3s स्मार्टफोन 'सुपर फुल स्क्रीन' पैनल और आ सकते हैं ये दमदार फीचर्स
चीनी कंपनी Oppo भारत में एक से बढ़कर एक स्मार्ट फोन लांच कर रही है। अब ओप्पो नया फोन लांच ...

एमटेक ने लांच किए दो फीचर फोन

एमटेक ने लांच किए दो फीचर फोन
नई दिल्ली। किफायती मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनी एम टेक ने दो नए फीचर फोन रागा और वी 10 लॉच ...

नौ कैमरे वाला स्मार्ट फोन, DSLR कैमरा भी हो जाएगा फेल

नौ कैमरे वाला स्मार्ट फोन,  DSLR कैमरा भी हो जाएगा फेल
मोबाइल कंपनियां रोज नई टेक्नोलॉजी ला रही हैं। अब मोबाइल का इस्तेमाल बातें करने के लिए ...

लांच हुआ Spice F311, 6 हजार से कम कीमत में मिलेंगे ये ...

लांच हुआ Spice F311, 6 हजार से कम कीमत में मिलेंगे ये बेहतरीन फीचर्स
स्पाइस की भारत के स्मार्टफोन मार्केट में एक अलग पहचान है। स्पाइस ने अपना नया स्मार्ट फोन ...