सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन, दिल्ली में जमकर फोड़े पटाखे, लोगों को सांस लेने में तकलीफ और आंखों में जलन

Air Pollution in Delhi" width="740" />
Last Updated: गुरुवार, 8 नवंबर 2018 (10:44 IST)
नई दिल्ली। दिल्ली में के आदेश की अनदेखी कर दिवाली की रात को देर तक पटाखे छोड़े गए जिसकी वजह से प्रदूषण और अधिक खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। सुबह से ही धुंध की चादर बिछी है। लोगों को सांस लेने में तकलीफ और आंखों में जलन हो रही है। स्मॉग की वजह से विजिबिलिटी बेहद कम है।  
 
दिल्ली के लोधी रोड पर लगे एयर पॉल्यूशन मॉनिटरिंग स्टेशन पर आज सुबह पीएम-2.5 और पीएम-10 का स्तर 500- 500 माइक्रो क्यूबिक था जो कि बेहद खतरनाक स्तर है। उल्लेखनीय है कि पीएम 2.5 बारिक कण होते हैं, पीएम 2.5 बढ़ने से ही धुंध बढ़ती है।  
 
दिल्ली में कई जगह रात के तीन बजे एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) 999 के आखिरी स्तर पर पहुंच गया था। दिल्ली में प्रदूषण का स्तर कितना खतरनाक है इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि भारत में प्रदूषण का स्तर मापने वाले मीटर 999 के बाद काम नहीं करते।>  
 
केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार शाम सात बजे एक्यूआई 281 था। रात आठ बजे यह बढ़कर 291 और रात नौ बजे यह 294 हो गया। आनंद विहार, आईटीओ और जहांगीरपुरी समेत कई इलाकों में प्रदूषण का बेहद उच्च स्तर दर्ज किया गया। मयूर विहार एक्सटेंशन, लाजपत नगर, लुटियंस दिल्ली, आईपी एक्सटेंशन, द्वारका, नोएडा सेक्टर 78 समेत अन्य स्थानों से कोर्ट के आदेश का उल्लंघन किए जाने की सूचना मिली।>  
 
गौरतलब है कि दिल्ली में खतरनाक स्तर पर प्रदूषण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों पटाखा छोड़ने के लिए रात आठ से 10 बजे की समय-सीमा तय की थी। इसके बावजूद दिल्लीवासियों ने खूब पटाखे छोड़े।  शीर्ष अदालत ने सिर्फ ‘हरित पटाखों’ के निर्माण और बिक्री की अनुमति दी थी। हरित पटाखों से कम प्रकाश और ध्वनि निकलती है और इसमें कम हानिकारक रसायन होते हैं।  
 
न्यायालय ने पुलिस से इस बात को सुनिश्चित करने को कहा था कि प्रतिबंधित पटाखों की बिक्री नहीं हो और किसी भी उल्लंघन की स्थिति में संबंधित थाना के एसएचओ को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार ठहराया जाएगा और यह अदालत की अवमानना होगी।
 
 
समय-सीमा का छिटपुट उल्लंघन किए जाने की बात स्वीकार करते हुए दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने देर रात कहा, ‘हम हालात की निगरानी कर रहे हैं।’ अधिकारी ने कहा, ‘उल्लंघन के छिटपुट मामले हुए हैं। कुछ इलाकों में लोग रात आठ से 10 बजे की समय-सीमा के बाद भी पटाखे फोड़ते नजर आए। उल्लंघन के ऐसे मामलों की ठीक-ठीक संख्या का पता लगाया जाना बाकी है। हालांकि, हम उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे।’


122 केस दर्ज, 31 गिरफ्तार
दिल्ली पुलिस ने आदेशों को लागू करने के लिए जगह-जगह दबिश भी दी। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, नॉर्थ वेस्ट दिल्ली में 57 केस दर्ज किए गए और करीब 140 किलो पटाखा बरामद किया गया। द्वारका इलाके की बता करें तो 42 केस दर्ज किया गया और 200 किलो पटाखे जब्त किए। वहीं, साउथ दिल्ली में 23 एफआईआर दर्ज कर 17 लोगों को गिरफ्तार किया गया और 278 किलो पठाखा जब्त किया गया। नॉर्थ दिल्ली से 14 लोगों को गिरफ्तार किया गया। (एजेंसी)
 



और भी पढ़ें :