दुश्मन की गोली नहीं कर पाएगी सेना के जवानों की छाती को छलनी, हल्की बुलेटप्रूफ जैकेट करेगी सुरक्षा

Last Updated: रविवार, 12 अगस्त 2018 (11:23 IST)





प्रतीकात्मक फोटो
कानपुर। सेना के जवानों को दुश्मनों की गोली से बचाने के लिए ओईएफ (ऑर्डिनेंस इक्यूपमेंट फैक्टरी) कानपुर ने सेना के जवानों के लिए हल्की बनाई है। दावा किया जा रहा है कि एके-47 और एके-56 की गोली भी इस जैकेट को नहीं भेद पाएगी।


आमतौर पर पूरी बुलेटप्रूफ जैकेट का भार 10-13 किलो से अधिक होता है। इस जैकेट का वजन सिर्फ 9.5 किलोग्राम है। इस जैकेट को मिश्र धातु निगम (मिथानी) से बनाया गया है। इस जैकेट को परीक्षण के लिए को दिया गया है।
खबरों के मुताबिक 5 मार्च को ये जैकेट डीजी बीएसएफ को दी गई थी जिसमें इसके 4 परीक्षण किए जाने थे। शरीर के नाजुक अंगों (जैसे हृदय, फेफड़े, किडनी आदि) को निशाना बनाकर मारी गई गोली पर परीक्षण किया जा चुका है। 3 परीक्षणों में ये जैकेट सफल रही है। अब सिर्फ साइड गार्ड का टेस्ट किया जाना है।

जैकेट में 3 स्तरों पर सॉफ्ट और हार्ड आर्म प्लेटें लगाई गई हैं। ये शरीर के अंगों को अधिक सुरक्षित रखते हैं। इसमें कार्बन नैनोटेक्नोलॉजी का प्रयोग किया गया है। दावा किया गया है कि इस जैकेट को कार्बाइन, एके-47 और एके-56 की गोली भी नहीं भेद पाएगी।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :