Widgets Magazine

पाकिस्तान में है प्रह्लाद का मंदिर, जहां हुई थी होली की शुरुआत

पुनः संशोधित गुरुवार, 9 मार्च 2017 (12:38 IST)
ने के सम्मान में एक मंदिर बनवाया था जो वर्तमान में पाकिस्तान स्थित पंजाब के मुल्तान शहर में है। इसे प्राचीनकाल में श्रीहरि के 'भक्त प्रह्लाद का मंदिर' के रूप में जाना जाता था। इस मंदिर का नाम प्रह्लादपुरी मंदिर है।
 
मुल्तान के विश्वप्रसिद्ध किले के अंदर बना यह मंदिर किसी जमाने में मुल्तान शहर की पहचान हुआ करता था। पाकिस्तान के निर्माण के पहले होली के समय यहां विशेष पूजा अर्चना आयोजित की जाती है।
 
कुछ इतिहासकार बताते हैं कि यहां दो दिनों तक होलिका दहन उत्सव मनाया जाता था। पाकिस्तान में मौजूद इस पंजाब प्रांत में होली, होलिका दहन से 9 दिनों तक मनाई जाती है। रंगों भरी होली तो यहां मनती ही है, लेकिन होली मनाने का परंपरा यहां कुछ हटकर है।
 
पश्चिमी पंजाब और पूर्वी पंजाब में होली के दिन, मटकी फोड़ी जाती है। भारत की तरह यहां भी मटकी को ऊंचाई पर लटकाते हैं। यहां मौजूद व्यक्ति पिरामिड बनाकर मटकी फोड़ते हैं। मटकी में मक्खन, मिश्री भरा हुआ होता है, मटकी फोड़ते ही यह सब कुछ बिखर जाता है। 
 
यहां इसे चौक-पूर्णा त्यौहार के नाम से जाना जाता है। वैसे इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहीं नरसिंह भगवान ने एक खंबे से निकल कर प्रह्लाद के पिता हिरण्यकश्यप को मारा था। इसके पश्चात प्रह्लाद ने स्वंय ही इस मंदिर का निर्माण करवाया था। यह भी माना जाता है कि होली का त्यौहार और होलिका दहन की प्रथा भी यही से आरंभ हुई थी।
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine