रेलवे का जनता खाना एक ही सप्ताह में हिट

नई दिल्ली| वार्ता|
रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव के प्रयास से रेलवे स्टेशनों और रेलगाड़ियों में सस्ती कीमत वाली पूडी सब्जी अंचार का जनता खाना पहले ही सप्ताह में हिट हो गया। रेलवे सूत्रों के अनुसार बुधवार को इसके नौ हजार से भी ज्यादा पैकेट बिक गए।

रेलवे के खानपान कारोबार को देखने वाली सरकारी कंपनी भारतीय रेल खानपान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) के वरिष्ठ आधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को देश भर में जनता खाना के 1548 पैकेट बिके थे। इससे उत्साहित रेलवे ने 55 स्टेशनों की बजाय 61 स्टेशनों पर पूड़ी-सब्जी बनाकर उसे पैकेट में बंद कर बेचने की व्यवस्था कर दी है।
रेल भवन में सत्तू, लस्सी एवं मट्ठा की संस्कृति शुरू कराने वाले रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव को इस बात का बड़ा मलाल था कि रेलवे स्टेशनों से सस्ती पूरी-सब्जी के पैकेट जनता खाना की विदाई हो रही है और बर्गर, पित्जा जैसे फास्ट फूड जोर पकड़ रहा है। इसके बाद उन्होंने रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों को फिर से जनता खाना शुरू करने का निर्देश दिया।

इस समय देश में लंबी दूरी की लगभग 250 रेलगाड़ियों में ही भोजनयान की सुविधा है। शेष गाड़ियों के यात्री रेलवे के लाइसेंसशुदा वेंडर या रेलगाड़ियों में अवैध रूप से चलने वाले वेंडरों द्वारा बेचे जाने वाले खाद्य पदार्थ पर ही गुजारा करते हैं। इतना होते हुए भी भारतीय रेल के परिसर में रोज आने वाले एक करोड़ 70 लाख यात्रियों को उचित मूल्य पर गुणवत्तापूर्ण खाद्य पदार्थ नहीं मिल पाता है।
इस समय नई दिल्ली, हावड़ा, मुंबई, कोलकाता, आसनसोल, सिकंदराबाद, विजयवाड़ा, तिरुपति, वड़ोदरा, पुणे, इलाहाबाद, कानपुर, लखनऊ, वाराणसी, गुवाहाटी, गया, मुगलसराय समेत 61 रेलवे स्टेशनों पर जनता खाना की बिक्री नौ अप्रैल से शुरू की है। इसे शीघ्र ही बढ़ाकर 100 स्टेशन करने की योजना है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :