अवध आगमन का उत्सव और दूसरों की खुशियां


धनतेरस से घरों में दीपावली की जगमग प्रारंभ हो जाती है। यह तैयारी बीते काल में भगवान श्रीरामचन्द्रजी की वनवास अवधि समाप्ति एवं उनके तथा राज्याभिषेक को उत्सव के रूप में मनाने की परंपरा से जुड़ी हुई है। 
 
कालांतर में समय के साथ सरयू में बहुत पानी बह चुका है और पता नहीं कब और कैसे हम अपने आराध्य को भूलकर, माया के आधिपत्य में घिरकर, लक्ष्मी पूजन को इस अवसर पर मुख्य पूजा उत्सव की तरह मनाने लगे हैं। अब तो शायद ही कोई हो, जो इस दिन लक्ष्मी पूजा छोड़कर श्रीराम की स्तुति पूजा कर उस उल्लास की स्मृति करता हो, जो कि श्रीराम के आगमन से अयोध्या के घर-घर में उमड़ा होगा। 
 
उत्सवों को मनाने में विषयों का इतना महत्व नहीं है जितना कि उसे दूसरों की खुशियों के लिए मनाने में है। अगर हम उत्सव-पर्व के समय ये बात ध्यान रख लें कि हमारे नजदीक, आसपास कुछ कमजोर या गरीब लोग भी रहते हैं और उनके सामने हमें अपनी विलासिता, चमक-दमक का दिखावा नहीं करना है, तो हमारा यह प्रयास उन्हें ज्यादा खुशियां दे सकेगा। और यह खुशी उनके लिए कहीं ज्यादा अनमोल होगी बनिस्बत उस उपहार के, जो हम उन्हें पर्वों पर देते हैं। 
 
पता नहीं कौन-कैसे, किस स्थित-परिस्थिति से गुजरकर अपने बच्चों और परिवार के लिए पर्व की खुशियां इकट्ठी करता है और हो सकता है कि उनकी वो खुशी का क्षण हमारी विलासिता देखकर एक पल को ठहर जाए या उनकी उमंग एक क्षण को अवसाद में बदल जाए! इसी तरह की अन्य छोटी-छोटी-सी बातों को ध्यान में रखकर मनाया गया हमारा पर्व ही सही मायने में उत्सव होता है, जो चारों ओर खुशियां बिखेरता है न कि सिर्फ चारदीवारी के अंदर! 
 
पर्व-उत्सव खूब उत्साह से मनाइए, उपहार भी बांटिए लेकिन बस यह ध्यान रहे कि हमारे अपने वैभव का अतिरेक प्रदर्शन कहीं किसी के दिलरूपी दीपों से भरी दीपावली की खुशी को फीका या मद्धिम न कर दे!
 
ईश्वर हम सभी को सादगी से पर्व मनाने की प्रेरणा प्रदान करे, यही प्रार्थना! इसके लिए हमें ज्यादा कुछ नहीं करना है, बस! खुशी का हाथ बढ़ाइए, इसे और फैलाइए! >  

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

पूजा ही नहीं सेहत के लिए भी शुभ है नारियल, 6 लाभकारी नुस्खे ...

पूजा ही नहीं सेहत के लिए भी शुभ है नारियल, 6 लाभकारी नुस्खे पढ़ें और आजमाएं
नारियल को श्रीफल भी कहा जाता है। यह फल पूजा में प्रमुखता से शामिल किया जाता है। इसके ...

घर पर ही बनाएं कैंडल होल्डर

घर पर ही बनाएं कैंडल होल्डर
हम आमतौर पर घर सजाने के लिए कैंडल्स का इस्तेमाल करते हैं। बाजार में कई तरह के कैंडल ...

अभी भी वक्त है कुदरती पानी को सहेजें

अभी भी वक्त है कुदरती पानी को सहेजें
पानी को लेकर विश्वयुद्ध की बातें अब नई नहीं हैं। सुनने में जरूर अटपटी लगती हैं लेकिन ...

घर के अंदर सजे पौधों का ऐसे रखें ध्यान, पढ़ें 3 सुझाव

घर के अंदर सजे पौधों का ऐसे रखें ध्यान, पढ़ें 3 सुझाव
जब मौसम गर्मी का हो तो ऐसे में लोग सुबह-शाम बाग-बगीचे में टहलना, बैठना व समय बिताना पसंद ...

आंखें होंगी साफ, स्वस्थ और चमकीली, यह 3 उपाय आजमा कर देखें

आंखें होंगी साफ, स्वस्थ और चमकीली, यह 3 उपाय आजमा कर देखें
हम आपको बता रहे हैं आंखों की सुरक्षा के अचूक उपाय.. जानिए कौन सी 3 चीजें ऐसी हैं जो आंखों ...

रोहिणी थीं चंद्र की प्रिय पत्नी, क्रोधित ससुर ने दिया शाप, ...

रोहिणी थीं चंद्र की प्रिय पत्नी, क्रोधित ससुर ने दिया शाप, शिव ने रखा शीश पर
चंद्र का विवाह दक्ष प्रजापति की 27 नक्षत्र कन्याओं के साथ संपन्न हुआ। चंद्र का रोहिणी पर ...

ऐसे हुआ सुंदर चमकीले चंद्रदेव का जन्म, पढ़ें पौराणिक कथा

ऐसे हुआ सुंदर चमकीले चंद्रदेव का जन्म, पढ़ें पौराणिक कथा
चंद्रमा के जन्म की कहानी पुराणों में अलग-अलग मिलती है। मत्स्य एवम अग्नि पुराण के अनुसार ...

मैक्सिको से सीखें हम नेताओं को सुधारने के गुर

मैक्सिको से सीखें हम नेताओं को सुधारने के गुर
मैक्सिको के चिचीकुइला शहर के महापौर अल्फांसो मोंटीएल ने अपने चुनावी प्रचार में शहर के ...

पूर्णिमा 29 मई को, क्या है इस दिन का धार्मिक और वैज्ञानिक ...

पूर्णिमा 29 मई को, क्या है इस दिन का धार्मिक और वैज्ञानिक रहस्य
जब पूर्णिमा आती है तो समुद्र में ज्वार-भाटा उत्पन्न होता है, क्योंकि चंद्रमा समुद्र के जल ...

उम्र को बढ़ने से रोकेगा यह ड्रायफ्रूट, इसके फायदे भी हैं ...

उम्र को बढ़ने से रोकेगा यह ड्रायफ्रूट, इसके फायदे भी हैं खूब, जानिए कैसे करें सेवन
आप मखाने के चार दानों का सेवन करके शुगर से हमेशा के लिए निजात पा सकते है। इसके सेवन से ...