पढ़ें क्या है फिल्म 'पद्मावत' में, क्यों देखें, क्यों न देखें

padmavati movie still

फिल्म 'पद्मावत' देखकर लौटा हूं वह भी 3डी में। 3 घंटे लंबी इस फिल्म का नाम तो असल में 'खिलजावत' होना चाहिए था, क्योंकि पूरी फिल्म खिलजी के इर्दगिर्द घूमती है, खिलजी के कैरेक्टर को ही सबसे ज्यादा फुटेज मिली है। पद्मावती और राजा रतन सिंह की कहानी तो इस फिल्म का महज एक हिस्सा है। अपनी बात कुछ बिंदुओं में रख रहा हूं।

1- 'पद्मावत' का अगर इतना विरोध नहीं होता तो ये फिल्म कभी भी हिट नहीं हो सकती थी, क्योंकि बेहद ढीली-ढाली फिल्म है। रफ्तार बहुत सुस्त है। क्लाइमेक्स सीन जरूरत से ज्यादा लंबा खींच दिया गया है। भव्यता रचने के चक्कर में संजय लीला भंसाली ड्रामा रचने में पूरी तरह नाकाम रहे हैं।

2- हमेशा की तरह पूरी फिल्म संजय लीला भंसाली ने अंधेरे में शूट की है, यहां तक कि धूप में गरमी के सीन में भी वो खिलजी को पसीना-पसीना दिखाते हैं, लेकिन सूरज यहां भी नहीं दिखता। यही नहीं के इंतजार में पूरा दिन एक जगह खड़े दिखाते हैं, लेकिन उस दिन भी सूरज नहीं निकलता। राजा रतन सिंह और खिलजी का युद्ध भी दिन में होता है, फिर भी कहीं धूप नहीं दिखाई पड़ती। ये अंधेरा अब संजय लीला भंसाली की फिल्मों में टाइप्ड हो गया है और बहुत खटकता है।

3- फिल्म में राजपूती आन-बान और शान को खूब बढ़ाचढ़ाकर दिखाने की कोशिश की गई है। राजपूत कटी गर्दन के बावजूद लड़ते दिखाए गए हैं। गोरा सिंह और बादल के किरदार राजपूती शान की कहानी कहते हैं। राजा रतन सिंह की पीठ में कई तीर घुस जाते हैं, लेकिन वो मुंह के बल नहीं गिरते, उनकी मौत जब होती है तो वो घुटने के बल बैठकर, सीना ताने आकाश की तरफ देख रहे होते हैं। महारानी पद्मावती की शान में खूब कसीदे काढ़े गए हैं। करणी सेना वाले अगर फिल्म देखकर विरोध की सोचते तो चार लोग भी सड़क पर नहीं आते।

4- फिल्म में रानी पद्मावती को विदुषी नारी, युद्धनीति की माहिर दिखाया गया है। फिल्म में पद्मावती और खिलजी का कहीं आमना-सामना नहीं है,। आईने के जरिए धुएं के बीच सिर्फ 1 सेकेंड की झलकी ही खिलजी को दिखाई गई है। ना कहीं ड्रीम सिक्वेंस है और ना ही कहीं खिलजी के खयालों में पद्मावती आती है। खिलजी पूरी फिल्म में पद्मावती की छाया भी नहीं देख पाया है।

5- इस फिल्म के विरोध में तो मुसलमानों और ब्राह्मणों को आवाज उठानी चाहिए थी, राजपूतों को नहीं। क्योंकि इसमें ब्राह्मण कुलगुरु को लंपट, कामी, विश्वासघाती और दुश्मनों के साथ मिलकर चित्तौड़ को बर्बाद करने का कारक दिखाया गया है। बाद में उसका सिर कटवाकर खिलजी पद्मावती के पास भेज देता है। फिल्म में खिलजी को क्रूर, अय्याश और लौंडेबाज (गे) दिखाया गया है। उसका सबसे करीबी गुलाम मलिक गफूर है, जिसे राजपूत कहते हैं कि उसे खिलजी की बेगम ही समझो। प्रतीकात्मक दृश्य में खिलजी और मलिक गफूर के शारीरिक रिश्ते भी दिखाए गए हैं। खिलजी को इतना बड़ा लंपट दिखाया गया है कि सुल्तान की बेटी निकाह के लिए उसकी राह देख रही है, वो किसी और के साथ अय्याशी कर रहा है।

6- संजय लीला भंसाली फिल्म बनाते-बनाते पहले भी भटक जाते रहे हैं, इस बार कुछ ज्यादा ही भटक गए। घायल अवस्था में तलवार लिए अकेला खिलजी राजमहल में पद्मावती की तलाश में घूम रहा है, पद्मावती सैकड़ों रानियों और दासियों के साथ जौहर करने जा रही हैं। जो हालात थे, उसमें अगर पद्मावती और बाकी राजपूत रानियों ने तलवार उठा ली होती तो खिलजी की गरदन उनके कदमों में होती। राजपूतों को युद्ध करने, जीत हासिल करने की योजनाएं बनाने की जगह लफ्फाजी करते हुए ज्यादा दिखाया गया है। ऐसी तमाम चूकों की दास्तान है पद्मावत।

7- सिनेमाघर से बाहर निकलते वक्त सिर्फ दो किरदार याद रह जाते हैं और एक भाव। किरदार जो याद रह जाते हैं वो हैं अलाउद्दीन खिलजी और मलिक गफूर। भाव जो रह जाता है वो ये है कि इस फिल्म के लिए संजय लीला भंसाली को जितना कोसा जाए उतना कम है । फिल्म का विरोध तो लचर फिल्म बनाने के लिए होना चाहिए था।

8- अभिनय की बात करें तो अलाउद्दीन खिलजी की क्रूर, वहशी, हवसी, मक्कार और राक्षस टाइप की भूमिका में रणबीर सिंह छाए हुए हैं, हालांकि कई जगह वो ओवरएक्टिंग के शिकार हुए हैं। ऊपर से भंसाली ने ऐसे कैरेक्टर को फिल्म में डांस भी करवा दिया है, गाना भी गवा दिया है, पूरी फिल्म पर खिलजी का ही कब्जा है। शाहिद कपूर ने मेहनत तो की है, फिर भी राजा रतन सिंह रावल के किरदार को वो जीवंत नहीं कर पाए हैं, भूमिका के लिए शाहिद बिल्कुल मिसफिट थे। दीपिका पादुकोण के किरदार पद्मावती पर ही फिल्म का नाम है, लेकिन संजय लीला भंसाली ने उन्हें भी ठग लिया। फिर भी जितनी भूमिका उन्हें मिली, दीपिका ने उसके साथ न्याय किया है। खिलजी की बीवी के किरदार में अदिति राव हैदरी ने दमदार मौजदूगी दर्ज कराई है। लेकिन मलिक गफूर के किरदार में नीरजा फेम जिम सरभ ने कमाल का अभिनय किया है, यादगार अभिनय किया है। गे गुलाम के किरदार को निभाते-निभाते जैसे पूरे किरदार में ही समा गए हैं।

9- भव्यता के चक्कर में पद्मावत में ना तो प्रेम कहानी परवान चढ़ पाई और ना ही दुश्मनी। संजय लीला भंसाली ने इसे चूं-चूं का मुरब्बा बना दिया है। फिल्म बनाने पर डर हावी है, लिहाजा क्लाइमेक्स पूरा नहीं हुआ, बस आखिर में संदेश ही आता है। संजय लीला भंसाली ने पद्मावत बनाकर अपने तमाम दर्शकों को निराश किया है, लेकिन करणी सेना को उन्होंने वही फायदा दिया है, जो फायदा मंदिर आंदोलन ने बीजेपी को दिया था।

10- फिल्म पद्मावत पर मेरी राय से आप इत्तेफाक रख सकते हैं, नहीं भी रख सकते हैं, लेकिन मेरी नजरों का सच यही है कि पद्मावती जैसी किरदार पर बनी फिल्म और संजय लीला भंसाली जैसे फिल्मकार का इससे नाम जुड़ने पर सहज ही कुछ अपेक्षाएं हो जाती हैं, उन अपेक्षाओं पर ये फिल्म खरी नहीं उतरती। जिन्हें भव्यता से प्रेम है, जो रणबीर सिंह के दीवाने हैं, उन्हें ये फिल्म बहुत रास भी आएगी।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना
शिव है अंत:शक्ति, शिव सबका संयोग। शिव को जो जपता रहे, सहे न कभी वियोग। शिव सद्गुण विकसित ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे भी जरूरी है....
बदलते वक्त के साथ अब महिलाओं की प्रेग्‍नेंसी को लेकर सोच भी काफी बदल गई है। आज की महिलाएं ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की छुट्टी
बीमारी कितनी ही बड़ी क्यों न हो, सही इलाज और सावधानियां अपनाकर इस पर जीत पाई जा सकती है। ...

कविता : नहीं चाहिए चांद

कविता : नहीं चाहिए चांद
मुझे नहीं चाहिए चांद/और न ही तमन्ना है कि सूरज कैद हो मेरी मुट्ठी में

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है
जिस तरह से संसार में दो ही चीजें दृश्य हैं, प्रकाश और अंधकार। उसी तरह श्रव्य भी दो ही ...

अगर 4 साल उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो मान लीजिए ये 5 बातें...

अगर 4 साल उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो मान लीजिए ये 5 बातें...
भारत जैसे देश में यदि लोग अपनी उम्र के औसतन चार साल और बढ़ाना चाहते हैं तो उसे विश्व ...

कैसे चल रहे हैं प्रधानमंत्री के सितारे, जानिए मोदी के लिए ...

कैसे चल रहे हैं प्रधानमंत्री के सितारे, जानिए मोदी के लिए कैसा होगा आने वाला समय ?
जन्मपत्रिका के माध्यम से किसी भी जातक का अतीत, वर्तमान और भविष्य बताया जा सकता है, फिर ...

आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे सफेद मूसली के ये 7 स्वास्थ्य

आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे सफेद मूसली के ये 7 स्वास्थ्य लाभ
पौराणिक लेख और कई अत्याधुनिक शोधों ने इस बात को प्रमाणित किया है कि सफेद मूसली एक ...

नागपंचमी पर ऐसे करें नागपूजन और विसर्जन, पढ़ें विशेष ...

नागपंचमी पर ऐसे करें नागपूजन और विसर्जन, पढ़ें विशेष प्रार्थना और मंत्र...
नागपंचमी के दिन प्रात:काल स्नान करने के उपरान्त शुद्ध होकर यथाशक्ति (स्वर्ण, रजत, ताम्र) ...

17 अगस्त को हो रहा है सूर्य का राशि परिवर्तन, जानिए किन ...

17 अगस्त को हो रहा है सूर्य का राशि परिवर्तन, जानिए किन राशि‍यों की बदलने वाली है किस्मत ...
सूर्यदेव नवग्रहों के राजा हैं। सिंह राशि के स्वामी हैं। अग्नितत्व प्रधान ग्रह हैं। कुंडली ...