लेखन को स्थायित्व और वैधता देती निजी वेबसाइट


इंटरनेट की इस दुनिया ने पाठकों की पहुंच और पठन की आदत दोनों ही बदल दी है। इसी के चलते प्रकाशन और लेखकों का नजरिया भी बदलने लगा है। भारत में लगभग हर अच्छे-बुरे का आकलन उसके सोशल मीडिया/ इंटरनेट पर उपस्थिति के रिपोर्ट कार्ड के चश्मे से देखकर तय किया जा रहा है। संस्था, संस्थान, व्यक्ति, सरकार, कंपनी, साहित्यकर्मी से समाजकर्मी तक और नेता से अभिनेता तक को सोशल मीडिया में उसके वजन, प्रभाव और लोकप्रियता की कसौटी पर तौला जा रहा है। तो साहित्य और हिन्दी का प्रचार भी सोशल मीडिया की कसौटी पर कसकर करना होगा।
के लिए वर्तमान में जब सोशल मीडिया उपयुक्त माध्यम है, तब भी रचनाकारों को पुस्तकों की छपाई के प्रति मोड़ना ठीक भी नहीं होता और न ही आसान रास्ता है। इसकी बजाय ई-बुक को स्वीकारना होगा। पहले प्रकाशित पुस्तकें और अखबारों में प्रकाशित रचनाएं पाठक खोजती और जोड़ती थीं जबकि आज के दौर में यही काम फेसबुक, व्हॉट्सएप और ट्विटर के साथ ब्लॉग और कर रहे हैं। और होना भी यही चाहिए, क्योंकि जब हमारे पास सस्ता और पर्यावरण के लाभ के साथ विकल्प मौजूद है, तो हम क्योंकर पुराने तरीकों से पर्यावरण को हानि पहुंचाकर भी महंगे माध्यम की ओर जा रहे हैं?
यदि हम इंटरनेट की दुनिया में अपनी निजी वेबसाइट भी ब्लॉग जैसी या पुस्तक जैसी बनवाएं तो खर्च अमूमन 5 से 6 हजार रुपए ही आएगा। जिस पर आप अपनी बहुत सारी किताबों के ई-संस्करण भी प्रकाशित कर सकते हैं और पुस्तकों के पाठक के साथ-साथ लाखों विश्वस्तरीय पाठकों की पहुंच तक जाया जा सकता है।

इन्हीं संदर्भों में यदि ब्लॉग को नापा जाए तो वह और बेहतर विकल्प है और फिर सोशल नेटवर्किंग साइट तो है ही रचना के बेहतर प्रचार की, क्योंकि आप एक बात और देखिए क्या गत 2 दशकों में आपको कोई किताब याद है जिसकी 10 लाख प्रतियां बिकी हों? परंतु ये जरूर बता सकते हैं कि कई सोशल साइट्स या निजी वेबसाइट्स हैं जिनके विवर्स 1 करोड़ तक पहुंचे हैं।
लाभ का सौदा है सोशल मीडिया या इंटरनेट माध्यम से पाठकों तक पहुंचना और किफायती भी है। और सबसे अच्छी बात यह कि सोशल मीडिया में यदि आपकी रचना चोरी होती है, तब आप न्यायिक सहायता भी ले सकते हैं जबकि हम किताबों के प्रकाशन में धन और समय दोनों को खर्च करने के बाद सीमित दायरे में ही बंधे रहते हैं। सोशल मीडिया का विकल्प पर्यावरण की दृष्टि से भी लाभप्रद है।

वर्तमान इंटरनेट के इस युग में लेखकों को इलेक्ट्रॉनिक प्रकाशन का लाभ उठाना चाहिए और वैश्विक रूप से पाठकों को दिखते रहने तथा अभिगम्य होने के लिए ऑनलाइन प्रोफाइल्स की सृष्टि करनी चाहिए। आज लेखकों के लिए अपनी ऑनलाइन उपस्थिति के निर्माण के लिए विभिन्न चैनल्स हैं। यदि कोई लेखक या लेखिका चाहता/चाहती है कि उसकी कृति वैश्विक रूप से पढ़ी जाए, तब किसी ऐसी वेबसाइट पर प्रोफाइल बनाना अच्छी बात है जिसमें लेखकों का पृष्ठ, समीक्षा तथा सोशल मीडिया लिंक्स हों। आज कोई वेबसाइट चलाने के लिए अपने-आप-कीजिए से लेकर प्रोफेशनल वेब डेवलपिंग सर्विसेज तक अनेक विकल्प हैं।
साहित्य चोरी से बचने का सहारा भी है निजी वेबसाइट

इंटरनेट की दुनिया ने हिन्दी या कहें प्रत्येक भाषा के साहित्य और लेखन को जनमानस के करीब और उनकी पहुंच में ला दिया है। इससे रचनाकारों की लोकप्रियता में भी अभिवृद्धि हुई है। किंतु इन सबके बाद भी उनके सृजन की चोरी भी बहुत बढ़ी है। जिन लोगों को लिखना नहीं आता या सस्ती लोकप्रियता के चलते वे लोग अन्य प्रसिद्ध लोगों की रचनाओं को तोड़-मरोड़कर या फिर कई बार तो सीधे-सीधे उनका नाम हटाकर खुद के नाम से प्रचारित और प्रकाशित भी करवा लेते हैं। ऐसी विकट स्थिति में असल चोर द्वारा कई बार इतना प्रचार कर दिया जाता है कि कई बार तो मूल रचनाकर को भी लोग साहित्य चोर समझ लेते हैं। साहित्यिक सामग्रियों की चोरी कर अपने प्रकाशित साहित्य या संदर्भ में शामिल कर लेना, अखबारों या सोशल मीडिया में अपने नाम से प्रचारित करना, दूसरे की कविता सरेआम मंचों से सुनाना, साझा संग्रहों में स्वयं के नाम से दूसरे की रचनाएं प्रकाशित करवाना आदि साहित्य चोरों का प्रिय शगल बन चुका है।
कानूनन रूप से भी देखा जाए तो साहित्यिक चोरी धोखाधड़ी की श्रेणी में भी आती है। इसके गंभीर परिणाम भी हो सकते हैं। अगर आप किसी अन्य के रचनात्मक कार्य का उपयोग करते हैं, तो आपको उनके हर स्रोत का श्रेय देना होगा। इसलिए ऑनलाइन या मुद्रित सामग्री के लिए फुटनोट या उद्धरण का उपयोग करें। किसी भी समय आप किसी अन्य व्यक्ति द्वारा लिखी रचना, आकर्षित या आविष्कार किए गए किसी भी चीज का हिस्सा या किसी सामग्री का उपयोग करते हैं, तो आपको उन्हें क्रेडिट देना होगा। यदि आप लेखन या विचारों की चोरी करते हैं और उन्हें अपने ही रूप में बंद करते हैं, तो आप पकड़े जा सकते हैं।
इंटरनेट की दुनिया में स्थापित होने हेतु साहित्यकारों को कुछ प्रबंध करना होंगे, जैसे-

1. सबसे पहले तो अपनी मौलिक रचनाएं अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर मय दिनांक और समय के साथ प्रकाशित करें। ऐसा करने से आपकी रचनाओं के प्रथम प्रकाशन का संदर्भ और मौलिकता का साक्ष्य उपलब्ध होगा।

2. सोशल मीडिया में ब्लॉग और वेबसाइट पर प्रकाशन के पूर्व रचनाएं साझा करने से बचें अन्यथा आप सबूत देने में असमर्थ रहेंगे और साहित्य चोर उस पर खुद की मौलिकता का प्रमाण दर्ज कर लेगा।
3. यदि आपने भी किसी संदर्भ का उपयोग किया है, तो संदर्भ सूची में उसका उल्लेख जरूर करें अन्यथा आप पर भी साहित्य चोरी का आरोप लग सकता है।

4. सोशल मीडिया में रचनाओं को हर जगह अपने ब्लॉग की लिंक या जहां प्रकाशित हुई है, उसी संदर्भ के साथ साझा करें। यह चोर की मनोस्थिति पर भी प्रभाव डालेगा।

5. कहीं भी आपको आपकी रचनाओं की चोरी नजर आए, तो तुरंत उसकी शिकायत मय पर्याप्त साक्ष्य और स्वयं की मौलिक रचना होने के साक्ष्य के साथ नजदीकी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करवाएं।
6. अपनी पुस्तकें मय आईएसबीएन (ISBN) के प्रकाशित करवाएं।



और भी पढ़ें :