इंदौर को इंदौर (अहिल्या नगरी) ही रहने दो



















मां अहिल्या की नगरी इंदौर विकास के पथ पर अग्रसर है और वर्तमान दशक में जोरों से सफाई अभियान चल रहा है। चहुं दिशाओं में इंदौर की भुजाएं पसर रही हैं। आबादी बढ़ रही है और ट्रैफिक बढ़ रहा है।
यूपी, बिहार, राजस्थान, पंजाब, दक्षिण भारत, हिमाचल, आंध्रप्रदेश समेत तमाम राज्यों के नागरिकों ने अहिल्या नगरी इंदौर में बसकर इसकी शोभा को सुशोभित किया है। अब काफी समय से (संभवत: मिलें बंद होने के बाद से) इंदौर को मिनी बॉम्बे या लघु मुंबई बनाने की बात भी चलती रहती है।

मुंबई, महाराष्ट्र प्रदेश का महानगर है। इंदौर भी मप्र के महानगरों में गिना जाने लगा है किंतु अभी इसमें मुंबइयापन कुछ बाकी है। अपराध होते हैं, मगर इनका प्रतिशत 100 के अंदर ही रहता है। मुंबई के साथ शायद ऐसा नहीं होगा। मुंबई फिल्मी नगरी है तो इंदौर में भी गली-गली में हीरो-हीरोइनें हैं।

यह बात अलग है कि आधुनिकता के अंधानुकरण में इंदौर की युवा या किशोर पीढ़ी में बुजुर्गों, गुरुजनों, माता-पिता के चरण स्पर्श की प्रवृत्ति लगभग 5 से 7 प्रतिशत रह गई है, मगर आज हर युवा की जेब में नशे की पुड़िया, ड्रिंक, वाइन, सिगरेट, झाड़फानूस बनी हेयर स्टाइल और फटे-फैशन के परिधान सुशोभित होते दिख जाते हैं।

लड़कियों की तो बात ही निराली है। कहा जाता है कि होलकरकाल से लेकर सन् 1975 तक इंदौर की लड़कियां आधुनिक जरूर थीं, मगर आधुनिकता का उल्लंघन या कहा जाए कि मर्यादा का उल्लंघन शून्य था। आज तो क्लबों में लड़कों के साथ कदम से कदम मिलाकर नशाखोरी कर रही हैं यानी इंदौर को 'मिनी मुंबई' कहा जाने लगा है, तो यह गलत नहीं। बस शायद कुछ सालों बाद इंदौर भी मुंबई ही बन जाए।

वैसे मुंबई से कोई बुराई नहीं, न ही मुंबई से हमें कुछ ऐतराज है, मगर वर्तमान स्थितियों को देखते हुए विचार आता है कि जो नगरी अपनी सहिष्णुता, सद्भाव, समझदारी, दरियादिली, भाईचारे आदि-इत्यादि के लिए प्रसिद्ध है, कल को मुंबई बनने पर पड़ोसी, पड़ोसी से अनजान रहेगा। वैसे इसकी शुरुआत तो हो चुकी है। इंदौर का विकास जरूरी है, करिए। इंदौर को मॉडर्न बनाना है, बनाइए, मगर इसका ऐतिहासिक खिताब या कहा जाए कि विश्वभर में सुशोभित 'अहिल्या नगरी' की उपाधि को धूमिल मत करिए।

अहिल्या नगरी में दया, प्रेम, भाईचारा, जातीय-सामाजिक एकता के दर्शन होते थे। त्योहारों के समय हिन्दू-मुस्लिम-सिख-ईसाई के अपनत्व की औपचारिकता नहीं थी, बल्कि वास्तविकता नजर आती थी। अहिल्या नगरी ने कभी किसी का तिरस्कार नहीं किया और सबको बसाने में कोई कसर नहीं रखी और आज भी वैसा ही है किंतु मॉडर्न बनने में दिल के जज्बातों को दरकिनार कर दिया गया है।

इंदौर को इंदौर (मां अहिल्या नगरी) ही रहने दिया जाए, इसका ये मतलब नहीं कि आधुनिकता की दौड़ में दौड़ न लगाई जाए, लगाई जाए, मगर किसी मनभेद या मतभेद से नहीं बल्कि एकता, भाईचारे और सौहार्द से। इंदौर को बिगाड़ो मत!

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना होगा, गलना होगा
बाधाएं आती हैं आएं घिरें प्रलय की घोर घटाएं, पांवों के नीचे अंगारे, सिर पर बरसें यदि ...

श्रावण मास की खास आखिरी सवारी 20 अगस्त को, शिव, श्रावण और ...

श्रावण मास की खास आखिरी सवारी 20 अगस्त को, शिव, श्रावण और उज्जैन का त्रिवेणी संगम
श्रावण सोमवार को राजाधिराज महाकाल महाराज पूरे लाव लष्कर के साथ अपनी प्रजा का हाल जानने ...

भोलेनाथ शंकर की सुंदर भावनात्मक स्तुति : जय शिवशंकर, जय ...

भोलेनाथ शंकर की सुंदर भावनात्मक स्तुति : जय शिवशंकर, जय गंगाधर, करुणा-कर करतार हरे
जय शिवशंकर, जय गंगाधर, करुणा-कर करतार हरे, जय कैलाशी, जय अविनाशी, सुखराशि, सुख-सार ...

20 अगस्त को श्रावण का अंतिम सोमवार, अपनी राशि अनुसार कुछ इस ...

20 अगस्त को श्रावण का अंतिम सोमवार, अपनी राशि अनुसार कुछ इस तरह करें शिव को प्रसन्न
मेष राशि के जातकों को श्रावण मास के अंतिम सोमवार पर शिवजी को आंकड़े का फूल चढ़ाना चाहिए। ...

श्रावण मास में जरूरी है भगवान शिव के साथ प्रभु श्रीराम का ...

श्रावण मास में जरूरी है भगवान शिव के साथ प्रभु श्रीराम का पूजन, जानिए क्या है राज
श्रावण मास में शिव का प्रिय मंत्र 'ॐ नमः शिवाय' एवं 'श्रीराम जय राम जय जय राम' मंत्र का ...

बस सात दिन और बचे हैं सावन को खत्म होने में, कर लीजिए यह ...

बस सात दिन और बचे हैं सावन को खत्म होने में, कर लीजिए यह उपाय
26 अगस्त 2018 को रक्षाबंधन के पर्व के साथ ही सावन का पावन महीना समाप्त हो जाएगा। पूजन, ...