इंदौर को इंदौर (अहिल्या नगरी) ही रहने दो



















मां अहिल्या की नगरी इंदौर विकास के पथ पर अग्रसर है और वर्तमान दशक में जोरों से सफाई अभियान चल रहा है। चहुं दिशाओं में इंदौर की भुजाएं पसर रही हैं। आबादी बढ़ रही है और ट्रैफिक बढ़ रहा है।
यूपी, बिहार, राजस्थान, पंजाब, दक्षिण भारत, हिमाचल, आंध्रप्रदेश समेत तमाम राज्यों के नागरिकों ने अहिल्या नगरी इंदौर में बसकर इसकी शोभा को सुशोभित किया है। अब काफी समय से (संभवत: मिलें बंद होने के बाद से) इंदौर को मिनी बॉम्बे या लघु मुंबई बनाने की बात भी चलती रहती है।

मुंबई, महाराष्ट्र प्रदेश का महानगर है। इंदौर भी मप्र के महानगरों में गिना जाने लगा है किंतु अभी इसमें मुंबइयापन कुछ बाकी है। अपराध होते हैं, मगर इनका प्रतिशत 100 के अंदर ही रहता है। मुंबई के साथ शायद ऐसा नहीं होगा। मुंबई फिल्मी नगरी है तो इंदौर में भी गली-गली में हीरो-हीरोइनें हैं।

यह बात अलग है कि आधुनिकता के अंधानुकरण में इंदौर की युवा या किशोर पीढ़ी में बुजुर्गों, गुरुजनों, माता-पिता के चरण स्पर्श की प्रवृत्ति लगभग 5 से 7 प्रतिशत रह गई है, मगर आज हर युवा की जेब में नशे की पुड़िया, ड्रिंक, वाइन, सिगरेट, झाड़फानूस बनी हेयर स्टाइल और फटे-फैशन के परिधान सुशोभित होते दिख जाते हैं।

लड़कियों की तो बात ही निराली है। कहा जाता है कि होलकरकाल से लेकर सन् 1975 तक इंदौर की लड़कियां आधुनिक जरूर थीं, मगर आधुनिकता का उल्लंघन या कहा जाए कि मर्यादा का उल्लंघन शून्य था। आज तो क्लबों में लड़कों के साथ कदम से कदम मिलाकर नशाखोरी कर रही हैं यानी इंदौर को 'मिनी मुंबई' कहा जाने लगा है, तो यह गलत नहीं। बस शायद कुछ सालों बाद इंदौर भी मुंबई ही बन जाए।

वैसे मुंबई से कोई बुराई नहीं, न ही मुंबई से हमें कुछ ऐतराज है, मगर वर्तमान स्थितियों को देखते हुए विचार आता है कि जो नगरी अपनी सहिष्णुता, सद्भाव, समझदारी, दरियादिली, भाईचारे आदि-इत्यादि के लिए प्रसिद्ध है, कल को मुंबई बनने पर पड़ोसी, पड़ोसी से अनजान रहेगा। वैसे इसकी शुरुआत तो हो चुकी है। इंदौर का विकास जरूरी है, करिए। इंदौर को मॉडर्न बनाना है, बनाइए, मगर इसका ऐतिहासिक खिताब या कहा जाए कि विश्वभर में सुशोभित 'अहिल्या नगरी' की उपाधि को धूमिल मत करिए।

अहिल्या नगरी में दया, प्रेम, भाईचारा, जातीय-सामाजिक एकता के दर्शन होते थे। त्योहारों के समय हिन्दू-मुस्लिम-सिख-ईसाई के अपनत्व की औपचारिकता नहीं थी, बल्कि वास्तविकता नजर आती थी। अहिल्या नगरी ने कभी किसी का तिरस्कार नहीं किया और सबको बसाने में कोई कसर नहीं रखी और आज भी वैसा ही है किंतु मॉडर्न बनने में दिल के जज्बातों को दरकिनार कर दिया गया है।

इंदौर को इंदौर (मां अहिल्या नगरी) ही रहने दिया जाए, इसका ये मतलब नहीं कि आधुनिकता की दौड़ में दौड़ न लगाई जाए, लगाई जाए, मगर किसी मनभेद या मतभेद से नहीं बल्कि एकता, भाईचारे और सौहार्द से। इंदौर को बिगाड़ो मत!

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

ग़ज़ल : दर पे खड़ा मुलाकात को...

ग़ज़ल : दर पे खड़ा मुलाकात को...
दर पे खड़ा मुलाकात को तुम आती भी नहीं, शायद मेरी आवाज़ तुम तक जाती भी नहीं।

घर को कैंडल्स से ऐसे सजाएं

घर को कैंडल्स से ऐसे सजाएं
जब भी घर, कमरा या टेबल सजाने की बात आती है तब कैंडल्स का जिक्र न हो, ऐसा शायद ही हो सकता ...

अपना आंगन यूं सजाएं फूलों की रंगोली से...

अपना आंगन यूं सजाएं फूलों की रंगोली से...
रंगोली केवल व्रत-त्योहार पर ही नहीं बनाई जाती, बल्कि इसे घर के बाहर व अंदर हमेशा ही बनाया ...

भोजन के बाद भूलकर भी ना करें यह 5 काम, वर्ना सेहत होगी ...

भोजन के बाद भूलकर भी ना करें यह 5 काम, वर्ना सेहत होगी बर्बाद
आइए जानें कि 5 कौन से ऐसे काम हैं जो भोजन के तुरंत बाद नहीं करना चाहिए ....

बाल गीत : बनकर फूल हमें खिलना है...

बाल गीत : बनकर फूल हमें खिलना है...
आसमान में उड़े बहुत हैं, सागर तल से जुड़े बहुत हैं। किंतु समय अब फिर आया है, हमको धरती चलना ...

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

क्या है राशि, किस राशि से कैसे जानें भविष्य, पढ़ें सबसे खास ...

क्या है राशि, किस राशि से कैसे जानें भविष्य, पढ़ें सबसे खास जानकारी
आकाश में न तो कोई बिच्छू है और न कोई शेर, पहचानने की सुविधा के लिए तारा समूहों की आकृति ...

पारंपरिक टेस्टी-टेस्टी आम का मीठा अचार कैसे बनाएं, पढ़ें ...

पारंपरिक टेस्टी-टेस्टी आम का मीठा अचार कैसे बनाएं, पढ़ें आसान विधि
सबसे पहले सभी कैरी को छीलकर उसकी गुठली निकाल लीजिए। अब उसके बड़े-बड़े टुकड़े कर लीजिए।

9 ग्रहों की ऐसी पौराणिक पहचान तो कहीं नहीं पढ़ी...

9 ग्रहों की ऐसी पौराणिक पहचान तो कहीं नहीं पढ़ी...
भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में 9 ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, बुध, शुक्र, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, जानिए कैसे
सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड 360 अंशों में विभाजित है। इसमें 12 राशियों में से प्रत्येक राशि के 30 ...