पाश्चात्य त्योहार बनाम भारतीय त्योहार





संस्कृति न केवल मनुष्य की आत्मा वाहक है बल्कि एक राष्ट्र का मूल भी है। विभिन्न देशों में अलग-अलग संस्कृतियां हैं चूंकि राष्ट्रीय त्योहार किसी देश की सबसे अच्छी सांस्कृतिक उपलब्धियों और सबसे महत्वपूर्ण रिवाजों का करता है। त्योहार एक सांस्कृतिक घटना है और संस्कृतियों के अध्ययन के लिए एक शक्तिशाली उपकरण भी है। त्योहार को 'संस्कृति का वाहक' माना जाता है। त्योहार किसी देश, समाज और संस्कृतियों के व्यवहार और विचारों का प्रतिबिम्बन माना जाता है।
त्योहारों से लोग संस्कार सीखते हैं, बनाते हैं और साझा करते हैं। इस अद्वितीय और विशिष्ट घटना के माध्यम से, हम मानव संस्कृति की गहरी परत की जांच सुविधाजनक और प्रत्यक्ष तरीके से कर सकते है। इसके अलावा, एक त्योहार हमें दो संस्कृतियों की विचलन और समानता का पता लगाने के लिए एक आधार प्रदान करता है।

जैसा कि ज्ञात है, त्योहार हमारे दैनिक जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक सांस्कृतिक घटना के रूप में त्योहार मानव विकास और ऐतिहासिक विकास के दौरान अस्तित्व में आता है। इस अनूठी सांस्कृतिक घटना से मानव परिवेश और प्राकृतिक परिवेश और परिधीय परिवेश को ध्यान में रखते हुए मानव संस्कृतियों के गुण और नियम संधारित होते हैं और मानव संस्कृति और त्योहारों के बीच के रिश्ते का पता चला है।
भारतीय और पश्चिमी देशों के बीच त्योहार भावनात्मक अभिव्यक्तियों के रूप में अलग होते हैं। अपने वास्तविक विचारों को प्रदर्शित करते हैं जबकि पश्चिमी लोग हमेशा अपने दिमाग को स्वतंत्र रूप से प्रकट करते हैं। उपहारों और व्यवहारों को स्वीकार करने का तरीका अलग है। त्योहारों के दौरान भारतीय और पश्चिमी देशों के त्योहारों में उपहार के बारे में बहुत भिन्न हैं। भारतीय लोग अक्सर उपहार को प्रसन्नता से स्वीकार करते हैं, लेकिन वे इसे प्रस्तुतकर्ता के सामने नहीं खोलेंगे जबकि पश्चिमी देश में लोग एक उपहार की मांग करते हैं और वे आमतौर पर लोगों के सामने इसे खोलते और उनका धन्यवाद व्यक्त करते हैं।
पाश्चात्य संस्कृति प्राचीन यूनान की सभ्यता की उपज है जिसका विकास नगर दीवारों की किलाबंदियों से हुआ। आधुनिक सभ्यता अर्थात तथाकथित पाश्चात्य सभ्यता को पूर्णत: जड़वादी कहा जाता है, क्योंकि मनुष्यों के मन पर इन दीवारों की गहरी छाप पड़ गई है। रवीन्द्रनाथ टैगोर के शब्दों में 'यह प्रवृत्ति हमें स्वनिर्मित प्राचीरों के बाहर की प्रत्येक वस्तु को संदिग्ध दृष्टि से देखने को विवश कर देती है और हमारे अंत:करण तक प्रवेश करने के लिए सच्चाई को भी विकट युद्ध करना पड़ता है।'
पाश्चात्य संस्कृति के मध्य साधन और साध्य दोनों ही दृष्टियों से व्यापक अंतर है। एक प्रकृति से साहचर्य की पक्षधर है तो वहीं द्वितीय स्वनिर्मित दीवारों के मध्य बनाए गए छिद्रों से होकर प्रकृति को देखकर संतुष्ट कर लेती है। त्योहारों का महत्व समाज और राष्ट्र की एकता-समृद्धि, प्रेम एकता, मेल-मिलाप की दृष्टि से है और सांप्रदायिकता एकता, धार्मिक समन्वय, सामाजिक समानता को प्रदर्शित करना है।
हमारे भारतीय त्योहार समय-समय पर घटित होकर हमारे अंदर आत्मीयता और राष्ट्रीयता उत्पन्न करते रहते हैं। जातीय भेद-भावना और संकीर्णता के धुंध को ये त्योहार अपने अपार उल्लास और आनंद के द्वारा छिन्न-भिन्न कर देते हैं। सबसे बड़ी बात तो यह होती है कि ये त्योहार अपने जन्मकाल से लेकर अब तक उसी पवित्रता और सात्विकता की भावना को संजोए हुए हैं। युग-परिवर्तन और युग का पटाक्षेप इन त्योहारों के लिए कोई प्रभाव नहीं डाल सका।
भारतीय त्योहार पश्चिमी त्योहारों से अलग हैं। अधिकांश भारतीय त्योहार प्राचीन मिथकों से आते हैं, लेकिन इनका धर्म से अटूट संबंध है। प्राचीन समय में अलग-अलग इलाकों में एक-दूसरे के साथ संचार का मौका, असुविधाजनक परिवहन के कारण राष्ट्रों में कम अनुबंध थे इसलिए संस्कृतियां पूरी तरह से अलग थीं। इन संस्कृतियों को प्रदर्शित और इनके विस्तार में त्योहारों का महत्वपूर्ण योगदान है। पश्चिमी त्योहारों का मूल सृजन व्यक्तिवाद के आनंद के लिए हुआ है। पश्चिमी विश्व में व्यक्ति प्रमुख है, समाज या परिवार उसके बाद है और इस बात का परिलक्षण वहां के त्योहारों एवं रीति-रिवाजों में स्पष्ट दिखाई देता है।
भारत में त्योहार दैनिक जीवन का एक हिस्सा है। उत्सव के दौरान विशेष और रंगीन क्रिया-कलाप राष्ट्रीय संस्कृति के सबसे प्रमुख और प्रतिनिधि पहलुओं को संरक्षित करते हैं। यद्यपि त्योहारों के रूप एक-दूसरे से अलग होते हैं। वे सभी प्राचीन रीति-रिवाजों, रिश्तों व ज्ञान, अनुभव या एक खजाने लिए खड़े होते हैं इसलिए हम देश या राष्ट्र में त्योहारों की समझ के माध्यम से संस्कृति समझ सकते हैं। त्योहार कुछ राष्ट्र से संबंधित हैं और सभी इंसानों के भी हैं। विभिन्न मूल, पृष्ठभूमि और सामाजिक संरचनाओं के बावजूद मानव हमेशा आनंद और खुशी के इजहार के लिए त्योहारों का आश्रय प्राचीनकाल से लेता आ रहा है।
भारतीय संस्कृति समृद्ध और विविध है और अपने तरीके से अद्वितीय है। भारतीय संस्कृति का स्वरूप विश्वव्यापी एवं आध्यात्मिकतागामी है जबकि पाश्चात्य संस्कृति जड़वादी एवं आत्मक्रेंदित है। पाश्चात्य संस्कृति व्यक्तिवादी है, जबकि भारतीय संस्कृति विश्व के साथ व्यक्ति के संबंधों को महत्व देती है। भारतीय संस्कृति मानवतावादी है जबकि पाश्चात्य संस्कृति स्वकेंद्रित है और व्यक्ति को छोटे-छोटे कटघरों में बांटकर देखती है।
हमारा शिष्टाचार, एक-दूसरे के साथ संवाद करने का तरीका आदि हमारी संस्कृति के महत्वपूर्ण घटक हैं। हालांकि हमने जीवन के आधुनिक साधनों को स्वीकार कर लिया है, हमारी जीवनशैली में सुधार किया है, हमारे मूल्यों और विश्वास अभी भी अपरिवर्तित हैं। कोई व्यक्ति अपने कपड़े, खाने और रहने के तरीके को बदल सकता है, लेकिन किसी व्यक्ति के समृद्ध मूल्य हमेशा अपरिवर्तित रहते हैं, क्योंकि वे हमारे दिल, मन, शरीर और आत्मा के भीतर गहराई से जुड़ें हैं, जो हम अपनी संस्कृति से प्राप्त करते हैं।
पश्चिमी संस्कृति को उन्नत संस्कृति के रूप में भी जाना जा सकता है। यह इसलिए है, क्योंकि इसके विचार और मूल्य उन्नत सभ्यता के विकास और विकास को बढ़ावा देते हैं। पाश्चात्य संस्कृति भौतिकता के प्रति प्रतिबद्ध दिखाई देती है। अत: वह मूलत: अर्थवादी है तथा उसकी मूल प्रवृत्ति भोगवादी है। यह मुख्यत: भौतिक उन्नति के प्रति समर्पित प्रतीत होती है, क्योंकि उसका आध्यात्मिक पक्ष भी पदार्थ के सूक्ष्मतम रूप से आगे नहीं बढ़ पाता है। दृष्टव्य है कि ईसाई धर्म का दार्शनिक पक्ष मनुष्य के बंधुत्व पर जाकर रुक जाता है।
पश्चिमी संस्कृति का भारत में काफी प्रभाव पड़ा है लेकिन इसके पास इसके पेशेवर और विपक्ष भी हैं। पश्चिमी संस्कृति में कई अच्छी चीजें हैं, जो हमने अपनाई हैं लेकिन हम केवल नकारात्मक क्यों देखते हैं? यहां तक ​​कि भारतीय संस्कृति ने पश्चिमी दुनिया को भी प्रभावित किया है। दुनिया सिकुड़ रही है और हम सभी कई तरीकों से एक-दूसरे के करीब आ रहे हैं। पश्चिमी संस्कृति ने समाज के लगभग हर आयाम को प्रभावित किया है। किंतु मुख्य धार्मिक परंपराएं अभी भी समान हैं। हां, ये बात जरूर है कि पश्चिमी संस्कृति के कारण भारतीय जीवनशैली में अंतर आया है। हम यह कह सकते हैं कि पश्चिमी संस्कृति ने भारतीय समाज की प्रमुख परंपराओं पर असर नहीं डाला, बल्कि जीवनशैली और समाज की स्पष्ट विशेषताएं बदल दी हैं।
इन त्योहारों का रूप चाहे व्यक्ति तक ही सीमित हो, चाहे संपूर्ण समाज और राष्ट्र को प्रभावित करने वाला हो, चाहे बड़ा हो, चाहे छोटा, चाहे एक क्षेत्र विशेष का हो या समग्र देश का अवश्यमेय श्रद्धा और विश्वास, नैतिकता और विशुद्धता का परिचायक है। इससे कलुषता और हीनता की भावना समाप्त होती है और सच्चाई, निष्कपटता तथा आत्मविश्वास की उच्च और श्रेष्ठ भावना का जन्म होता है।


और भी पढ़ें :