नई ऊर्जा के साथ नव वर्ष का करें स्वागत

कर्नाटक में युगादि, तेलुगू क्षेत्रों में उगादि, महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा, सिंधी समाज में चैती चांद, मणिपुर में सजिबु नोंगमा, नाम कोई भी हो तिथि एक ही है की शुक्ल प्रतिपदा, के अनुसार सृष्टि की उत्पत्ति का दिन, नव वर्ष का पहला दिन, नवरात्रि का पहला दिन।

इस नव वर्ष का स्वागत केवल मानव ही नहीं पूरी प्रकृति कर रही होती है। ॠतुराज वसन्त प्रकृति को अपनी आगोश में ले चुके होते हैं, पेड़ों की टहनियां नई पत्तियों के साथ इठला रही होती हैं, पौधे फूलों से लदे इतरा रहे होते हैं, खेत सरसों के पीले फूलों की चादर से ढंके होते हैं, कोयल की कूक वातावरण में अमृत घोल रही होती है, मानो दुल्हन सी सजी धरती पर कोयल की मधुर वाणी शहनाई सा रस घोलकर नवरात्रि में मां के धरती पर आगमन की प्रतीक्षा कर रही हो।

इस प्रकार नववर्ष का आरंभ मां के आशीर्वाद के साथ होता है। पृथ्वी के नए सफर की शुरुआत के इस पर्व को मनाने और आशीर्वाद देने स्वयं मां पूरे नौ रातों और दस दिनों के लिए पृथ्वी पर आती हैं। 'माँ' यानी शक्ति स्वरूपा, उनकी उपासना अर्थात शक्ति की उपासना और नौ दिनों की उपासना का यह पर्व हममें वर्षभर के लिए एक नई ऊर्जा का संचार करता है।

सबसे विशेष बात यह है कि इस सृष्टि में केवल मानव ही नहीं अपितु देवता, गन्धर्व, दानव सभी शक्तियों के लिए मां पर ही निर्भर हैं। दरअसल 'दुर्गा' का अर्थ है 'दुर्ग' अर्थात 'किला'। जिस प्रकार एक किला अपने भीतर रहने वाले को शत्रुओं से सुरक्षा प्रदान करता है, उसी प्रकार दुर्गा के रूप में मां की उपासना हमें अपने शत्रुओं से एक दुर्ग रूपी छत्रछाया प्रदान करती है, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हमें अपने शत्रुओं से तभी मुक्ति मिलती है जब हम उन्हें पहचान लेते हैं।

इसलिए जरूरत इस बात को समझने और स्वीकार करने की है कि यह आज का ही नहीं बल्कि अनादिकाल का शाश्वत सत्य है कि हमारे सबसे बड़े शत्रु हमारे ही भीतर होते हैं। दरअसल, हर व्यक्ति के भीतर दो प्रकार की प्रवृत्तियां होती हैं, एक आसुरी और दूसरी दैवीय। यह घड़ी होती है अपने भीतर एक दिव्य ज्योति जलाकर उस शक्ति का आह्वान करने की, जिससे हमारे भीतर की दैवीय शक्तियों का विकास हो और आसुरी प्रवृत्तियों का नाश हो।

मां ने जिस प्रकार दुर्गा का रूप धर कर महिषासुर, धूम्रलोचन, चंड मुंड, शुभ निशुंभ, मधु कैटभ जैसे राक्षसों का नाश किया, उसी प्रकार हमें भी अपने भीतर पलने वाले आलस्य, क्रोध, लालच, अहंकार, मोह, ईर्ष्या, द्वेष जैसे राक्षसों का नाश करना चाहिए। नवरात्रि वो समय होता है जब यज्ञ की अग्नि की ज्वाला से हम अपने अन्दर के अन्धकार को मिटाने के लिए वो ज्वाला जगाएं जिसकी लौ में हमारे भीतर पलने वाले सभी राक्षसों का, हमारे असली शत्रुओं का नाश हो।

यह समय होता है स्वयं को निर्मल और स्वच्छ करके मां का आशीर्वाद लेने का। यह समय होता है नव वर्ष के आरंभ के साथ नई ऊर्जा के साथ एक नई शुरुआत करने का। यह समय होता है स्वयं पर विजय प्राप्त करने का।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार
आभार व्यक्त तो कीजिए। फिर देखिए, उसकी सुगंध कैसे आपके रिश्तों को अद्भुत स्नेह से सींचती ...

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है
थोड़ा समय अपने शौक को देंगे तो आपको अपना आराम और मनोरंजन पूर्ण महसूस होगा।

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें
जिस तरह बालों को सॉफ्ट और शाइनी बनाने के लिए आप हेयर कंडीशनिंग करते हैं, उसी तरह से त्वचा ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम की बातें
लगातार बैठे रहने और कम मेहनत करने वालों का पेट बाहर आ जाता है लेकिन यह जरूरी नहीं है... ...

अभी भी वक्त है कुदरती पानी को सहेजें

अभी भी वक्त है कुदरती पानी को सहेजें
पानी को लेकर विश्वयुद्ध की बातें अब नई नहीं हैं। सुनने में जरूर अटपटी लगती हैं लेकिन ...

जानकारों में मतभेद, हो सकती है नौतपा में भारी बरसात, अच्छे ...

जानकारों में मतभेद, हो सकती है नौतपा में भारी बरसात, अच्छे नहीं हैं प्रदेश के लिए संकेत...
जहां एक तरफ नौतपा के खूब तपने की भविष्यवाणी है वहीं दूसरी तरफ नौतपा के दौरान बारिश की ...

आपने नहीं पढ़ी होगी शनि प्रदोष व्रत की यह पौराणिक कथा...

आपने नहीं पढ़ी होगी शनि प्रदोष व्रत की यह पौराणिक कथा...
शनि प्रदोष के दिन भगवान शंकर और शनिदेव पूजन किया जाता है। शनि प्रदोष के संबंध में वर्णित ...

घर के अंदर सजे पौधों का ऐसे रखें ध्यान, पढ़ें 3 सुझाव

घर के अंदर सजे पौधों का ऐसे रखें ध्यान, पढ़ें 3 सुझाव
जब मौसम गर्मी का हो तो ऐसे में लोग सुबह-शाम बाग-बगीचे में टहलना, बैठना व समय बिताना पसंद ...

आंखें होंगी साफ, स्वस्थ और चमकीली, यह 3 उपाय आजमा कर देखें

आंखें होंगी साफ, स्वस्थ और चमकीली, यह 3 उपाय आजमा कर देखें
हम आपको बता रहे हैं आंखों की सुरक्षा के अचूक उपाय.. जानिए कौन सी 3 चीजें ऐसी हैं जो आंखों ...