Widgets Magazine

क्योंकि बाल स्त्री का गौरव है, कमजोरी नहीं (Video)

Author प्रीति सोनी|



भाषा कोई भी हो, भावनाओं को हदों में नहीं बांध सकती। बल्कि भावनाएं ही हैं, जिन्हें व्यक्त करने के लिए कभी किसी भाषा विशेष की आवश्यकता नहीं होती...वे बिना शब्दों के ही मन को भिगोने में कामयाब होती हैं और कभी-कभी बहा भी ले जाती हैं उस दुनिया में, जहां आप एक बार सोचने पर मजबूर जरूर हो जाते हैं।  बस एक मन होना चाहिए, उन्हें समझने के लिए और एक कला उसे समझाने के लिए। 
 
जहां नारी के प्रति होनी वाली घरेलू हिंसा को समझाने के लिए शब्दों से भरे कई-कई पन्हें या लंबे-लंबे भाषण एवं सुविचार हार से गए, उसे दो मिनट में सिर्फ एक वीडियो ने व्यक्त कर दिया। बंग्लादेश में तैयार किए गए इस विज्ञापन वीडियो में बंगाली प्रमुख भाषा है, लेकिन बगैर उसे जाने भी आप विषय और भाव को बेहद आसानी से समझ सकते हैं। 
 
यह वीडियो दर्शाता है, कि हिंसा या प्रताड़ना, एक स्त्री के मन को इस कदर व्यथित कर देती है, कि वह उन सभी वजहों को खत्म कर देना चा‍हती है, जो उसे हिंसा का शिकार बनाती हैं। वह निकाल फेंकना चाहिए है अपने सौंदर्य और श्रंगार के उन मापदंडों को भी, जो उस तक प्रेम के बजाए हिंसा, प्रताड़ना और दुख-तकलीफों कोउस तक पहुंचने में सेतु बन रहे हैं। एक स्त्री के लिए इससे अधिक वेदना क्या होगी, कि वे ईश्वर द्वारा प्रदत्त उन उपहारों को भी त्यागने को मजबूर हो जाए, जो उसे स्त्री होने का सौंदर्य और गौरव दिलाते हों। 
 
वीडियो एक लंबे बालों वाली खूबसूरत महिला के इर्द-गिर्द घूमता है, जो अपने खूबसूरत बालों को कटवाने के लिए सलून जाती है। और वह तब तक उन बालों को कटवाती है, जब तक वे इतने छोटे न जाएं कि कोई उन्हें पकड़कर खींच न पाए। इस वीडियो में काटने वाली महिला का प्रस्तुतिकरण भी ध्यान देने योग्य है आर नायिका द्वारा अंत में दिया गया संदेश भी बेहद प्रभाव छोड़ता है, जो कहता है कि -  महिलाओं के बाल उनका गौरव है, उसे उनकी कमजोरी न बनने दें। 
 
इसमें दिए गए आंकड़ों के अनुसार हर 100 में से 80 महिलाएं, घर या बाहर किसी न किसी तरह से हिंसा का शिकार होती हैं। इसके खिलाफ कदम उठाए जाने की जरुरत है। सोशल मीडिया पर वायरल हो चुके इस वीडियो को 50 लाख से भी ज्यादा बार देखा जा चुका है और इसे बेहद सराहा भी जा रहा है।
 
 महिलाओं के जीवन के इस पहलू को जिस तरह से इस वीडियो में अभिव्यक्त किया गया है, वह वाकई काबिले तारीफ है। वीडियो का प्रस्तुतिकरण कहता है, कि स्त्री को किसी ने करीब से जानने का प्रयास भी किया है और उसके अंदरुनी घावों कों को भी जाना है। घरेलू हिंसा पर बनाया गया यह वीडियो, एक सराहनीय कदम है... हर उस स्त्री के सम्मान के लिए, जो घर में या बाहर प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष हिंसा का शिकार होती है।  
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine