चाँदनी की रश्मियों से चित्रित छायाएँ

प्रेम कई तरह से आपको छूता है, स्पर्श करता है. आपकी साँसों को महका देता है। और यह सब इतने महीन और नायाब तरीकों से होता है कि कई बार आप उसे समझ नहीं पाते। यह एक तरह का जादू है। यह कभी भी, कहीं भी फूट पड़ता है, खिल उठता है, महक उठता है। इसी जादुई अहसास से जब प्रेमी अपनी आँखों से जो कुछ भी देखता है उसे वह प्रेममय जान पड़ता है।

Widgets Magazine

मेरी आँखों में ठहरी हुई तुम

कभी-कभी कोई बहुत ही सादी सी बात दिल को छू जाती है। और मामला यदि प्रेम कविता को हो तो इसमें सादी सी बात कुछ गहरे असर करती है। दिल में गहरे उतरकर ...

मनुष्य की सोच में ब्रह्मांड आ गया

एक दिन सुबह एक दृश्य उभरा। यह दृश्य गाँव से दूर था। वहाँ दो पहाड़ी थीं। ये दोनों अटल अलग अलग थे। शाश्वत अलग अलग। बरसात के दिन थे। पेड़ बहुत हरे ...

सब कुछ अपरिचय से घिरा है

यह पहली सुबह है इस ईसाई संत के प्राचीन कमरे में अकेले। दिन धीर-धीरे चढ़ रहा है। थोड़ी देर पहले इस कमरे से लगे छोटे से बगीचे में एक रंगीन सी चिड़िया ...

जीवन से बड़ी नहीं हो सकती है रचना

जीवन की तरफ देखो तो यह उतना ही सहज लगता है जितना पानी का बहना, फूल का खिलना और फिर किसी हवा का चलना और उससे किसी हरे पे़ड़-पौधों का लय में हिलना। ...

इस बार नहीं गाऊँगा गीत पीड़ा भुला देने वाले

प्रसून जोशी बॉलीवुड में गीतकार के रूप में खासे लोकप्रिय हो गए हैं। उनके गीतों में कविता है। उन्होंने अपने बेहतरीन गीतों से यह बखूबी जता दिया है ...

खिड़की खुलती है पर कोई झाँकता नहीं

खिड़की बाहर खुलती है वह अंदर को बाहर देखने के जरिये जोड़ती है। बाहर है यह अंदर को याद रहे। बाहर को यह अहसास बना रहे कि अंदर है। खिड़की अंदर और बाहर ...

बारिश में भीगते पेड़ के साथ

बारिश भी एक रहस्य है। हर बार गिरती हुई वह अपने किसी नए रहस्य के साथ प्रकट होती है। वह प्रकट होकर आपके किसी रहस्य से जुड़ जाती है आप महसूस करने ...

हम सबमें अपना शहर धड़कता है

शहर और आप, दोनों साथ-साथ विकसित होते हैं। पल्लवित होते हैं और एक साथ टूटते-फूटते हैं। कभी शहर में फूल खिलते हैं, नये पत्ते आते हैं तो आपके भीतर ...

अंतर की अतल गहराइयों को जान पाते हैं?

ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित कवि-उपन्यासकार-चिंतक श्रीनेरश मेहता अपनी वैष्णवी संवेदनशीलता के लिए जाने जाते हैं। अपने संस्मरणों की एक किताब 'हम ...

झुरमुट में प्रतीक्षा करती गेंद

ऐसे ही किसी झुरमुट में रखी गेंद इस समय याद आ रही है। जीवन के उस अधेड़ झुरमुट में बचपन अब गेंद की तरह ही रखा हुआ है। अब खेल नहीं सकते, सिर्फ ...

वह बारिश है, अनंत बारिश

जानता हूँ कि बारिश को ठीक -ठीक, पूरा -पूरा किसी कविता में भी नहीं लिखा जा सकता। कहानी में तो कतई नहीं। वह गद्य के स्पर्श भर से स्थूल हो जाएगी। ...

वह तो हरे रंग की जादूगरनी है !

वह जब भी करीब आती है, लगता बारिश करीब आ रही है। उसके भीतर हमेशा बारिश मचलती रहती है। मैं जब भी उसके करीब खड़ा होता हूँ तो मुझे बारिश का संगीत ...

बारिश गिरो ना,बिना प्यार की गई स्त्री पर

यह बारिश का इंतजार है लेकिन इंतजार के साथ ही एक पुकार है कि बारिश गिरो ना। यह एक कवि की पुकार है। इसमें कवि का दुःख दूसरों के दुःखों से मिलकर ...

वह चुपचाप सिरहाने फूल रख जाता है

दुनिया के मशहूर चित्रकार पिकासो की गुएर्निका विश्वविख्यात पेंटिंग है। उस पेंटिंग को असल रूप में देखने का सौभाग्य तो इस जनम में नहीं मिलेगा लेकिन ...

जड़त्व एक रूप लिए होता है

कला या काव्य इसलिए हैं ताकि दैनंदिन जीवन की हर घटना. हर स्थिति, हर यथार्थ की काव्यात्मकता और कलात्मकता का प्रत्यक्ष हो जाए। यह निखिल चराचर एक ...

मेरे अरमानों की कसक नीली है

मेरे लिए हिंदी में कृष्ण बलदेव वैद की मौजूदगी बहुत हसीन और मारू है। उनका गद्य इतना अलहदा और मौलिक है कि उसकी किसी से तुलना नहीं। वह अतुलनीय है। ...

हौले हौले हो जाएगा प्यार ...

इश्क में दिल को समझाना पड़ता है। कई तरह से समझाना पड़ता है। इश्क में दिल को बहलाना पड़ता है। कई तरह से बहलाना पड़ता है। समझाने और बहलाने के लिए ...

कुछ कम रोशन है रोशनी, कुछ कम गीली हैं बारिशें

जिंदगी में किसी के होने, न होने से बहुत फर्क पड़ता है। लगता है जैसे किसी का होना हमें कोई नया अर्थ दे रहा है। उसके होने से हमारा जीवन कुछ ज्यादा ...

Widgets Magazine

लाइफ स्‍टाइल

दिवाली व्यंग्य रचना : दिवाली बोनान्जा ऑफर की बरसात

इन दिनों दिवाली तक नैक-टू-नैक चल रहे त्योहारों के अवसर को भुनाने के चक्कर में बाजार से रोजाना ...

म्यूजिक थेरेपी : संगीत की स्वर लहरियों से सेहत तक

भारत में संगीत की परंपरा भले ही बहुत पुरानी रही हो लेकिन संगीत से इलाज या ‘म्यूजिक थेरेपी’ की ...

Widgets Magazine

जरुर पढ़ें

धनतेरस पर समृद्धि का वरदान देते हैं कुबेर, पढ़ें मंत्र

समस्त धन सम्पदा के स्वामी कुबेर के लिए भी धनतेरस पर सायंकाल 13 दीप समर्पित किए जाते हैं। कुबेर धन ...

रूपचौदस विशेष : पढ़ें स्नान के शुभ मुहूर्त

दिवाली के पूर्व रूपचौदस मनाई जाती है। इस बार रूप चतुर्दशी 22 अक्टूबर, बुधवार को प्रात: है।

लक्ष्मी प्राप्ति के लिए दीपावली पर करें यह उपाय

दीपावली के दिन मां लक्ष्मी के मंदिर में जाकर कमल पुष्प, गुलाब पुष्प, गन्ना, कमल गट्टे की माला ...

Widgets Magazine