मुख्य पृष्ठ > विविध > सेहत > आयुर्वेद
सुझाव/प्रतिक्रियामित्र को भेजियेयह पेज प्रिंट करें
 
वटी व गोलियाँ
पुष्पधन्वा रस : आयु व शक्ति वर्द्धक, धातु पौष्टिक, वीर्यवर्द्धक तथा बाजीकर। मात्रा 1 से 2 रत्ती सुबह-शाम शहद अथवा मक्खन में।

बहुमूत्रांतक रस : प्रमेह, मूत्ररोग, अधिक और बार-बार पेशाब का होना, मधुमेह, रक्त की कमी व दुर्बलता में लाभकारी। मात्रा 1 से 2 रत्ती शहद से।

ब्राह्मी वटी : बुद्धि व स्मरण शक्ति वर्द्धक। दिमाग को ताकत देती है। दिमागी कमजोरी उत्पन्न रोगों पर लाभकारी। मात्रा 1 से 2 रत्ती शहद से।

बोलबद्ध रस : खूनी बवासीर, नकसीर, खाँसी या दस्त आदि किसी भी रोग में खून आने पर लाभकारी। मात्रा 1-1 गोली दिन में 2-3 बार।

बंगेश्वर रस : धातु, पौष्टिक, बल स्फूर्ति व कांतिदायक, शक्तिवर्द्धक व असंयमजनित रोगों में लाभकारी। मात्रा 1 से 2 गोली सुबह व सायं शहद व मक्खन से।

बंगेश्वर रस वृहत्‌ (स्वर्णयुक्त) : नई पुरानी सभी तरह की शारीरिक दुर्बलता दूर होती है। परम पौष्टिक और ओजवर्द्धक है। मात्रा 1/2 रत्ती सुबह व शाम मक्खन या शहद के साथ।

मधुमालिनी वसंत : बलवर्द्धक, पुष्टिकारक, धातुपोषक, जीर्ण ज्वर तथा धातुविकार व प्रदर नाशक, गर्भवती स्त्रियों को विशेष लाभकारी। मात्रा 1 से 2 गोली सुबह व शाम दूध अथवा शहद से।

मन्मथ रस : बलवर्द्धक, वीर्यवर्द्धक, बाजीकार। मात्रा 2 से 4 रत्ती दूध से।

मरिचादि वटी : सब प्रकार के खाँसी पर फायदा करती है। विशेषकर जब कफ चिपकने वाला होने से जल्दी न निकले। मात्रा 6 से 8 गोली तक दिन भर मुँह में डालकर चूसना चाहिए।

महावात विध्वंस रस : अनेक प्रकार के वातरोग, अंगों की आवश्यकता, आमवात आदि रोगों पर लाभकारी। मात्रा 1 से 2 रत्ती।

महाशंख वटी : अजीर्ण, पेट दर्द, अफरा, आमदोष, संग्रहणी, अतिसार, मंदाग्नि गुल्म आदि में। मात्रा 1 से 2 गोली पानी से।

महालक्ष्मी विलास रस (स्वर्णयुक्त) : फेफड़े की दुर्बलता, बार-बार होने वाला जुकाम, नजला, कास, श्वास आदि में लाभकारी तथा बलवर्द्धक। मात्रा 1 से 2 रत्ती दूध अथवा शहद से।

मुक्ता पंचामृत : पुराना बुखार, कास, श्वास, फेफड़े की कमजोरी, राजयक्षमा आदि में लाभदायक तथा बलवर्द्धक। मात्रा 1 से 2 रत्ती शहद या मक्खन में।

मृगांक रस (स्वर्णयुक्त) : पुरानी खांसी, बुखार, कफयुक्त खाँसी, रक्त मिश्रित खाँसी, रक्त पित्त आदि रोगों में लाभकारी पुष्टिकारक, रक्त व ओजवर्द्धक। मात्रा 1/2 से 1 रत्ती।

मृत्युंजय रस (महा) : कफ प्रधान बुखारों पर, खाँसी, ग्रंथिक, सन्निपात, मलेरिया आदि रोगों पर लाभकारी। इसके प्रयोग से मल-मूत्रावरोध दूर होता है और पसीना आकर बुखार उतर जाता है। मात्रा 1 से 3 रत्ती।

मृत्युंजय रस (स्वर्णयुक्त) : सब तरह के बुखार, श्वास, खाँसी, मलेरिया, सन्निपात आदि पर लाभकारी। मात्रा 1 से 2 गोली सुबह-शाम शहद व अदरक से।

योगेन्द्र रस (स्वर्णयुक्त) : पुराने और जटिल वात विकार, शरीर में वायु की विकृति होने से अनिद्रा और बेचैनी, अंगों की अशक्तता, प्रमेह, बहुमूत्र, इंद्रिय दौर्बल्य, स्नायु दौर्बल्य आदि पर। मात्रा 1/2 से 1 रत्ती दिन में 2-3 बार।

रजः प्रवर्तिनी वटी : स्त्रियों का मासिक धर्म साफ न होना, कष्ट होना तथा रुका हुआ मासिक धर्म इससे खुल जाता है। हाथ, पैर की जलन, कमर और पेडू का दर्द आदि कष्टों को दूर करती है। मात्रा 1 से 2 गोली सुबह-शाम गर्म पानी से।

रस राजरस (स्वर्णयुक्त) : सब प्रकार के वात रोग, अंगों की अशक्तता, अपतंत्रक, अक्षेपक, कानों में आवाज होना, सिर में चक्कर आना आदि कठिन वात रोगों में। मात्रा 1 से 2 रत्ती सुबह-शाम शहद से।

रस माणिक्य : सब प्रकार के रक्त एवं चर्मरोग, कुष्ट, वातरक्त, भगंदर, उपदंश आदि में लाभकारी। मात्रा 1 रत्ती प्रातः व सायं शहद या मक्खन से।

रस पीपरी : बाल रोगों की प्रसिद्ध दवा, ज्वर, खाँसी, सर्दी, जुकाम, उल्टी, पतले दस्त तथा दाँत उठने की तकलीफ को दूर करती है। मात्रा 1/2 से 1 रत्ती सुबह-शाम।
<< 1 | 2 
और भी
अन्य औषधियाँ
बीमारी के अनुसार दवाएँ
आयुर्वेदिक लड्डू
स्त्री-पुरुष रोगों की दवाएँ
कमर दर्द या कटिवात
सोरायसिस रोग