मणिपुर में किसी पार्टी को नहीं मिला बहुमत

पुनः संशोधित शनिवार, 11 मार्च 2017 (22:58 IST)
इंफाल। मणिपुर में कांग्रेस राज्य की सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है, लेकिन पार्टी बहुमत से तीन सीट दूर रह गई है। अब पार्टी राज्य में अन्य राजनीतिक दलों से बहुमत जुटाने की कोशिश करेगी जिसने चार या इससे कम सीटें जीती है। 
अब राज्य में कांग्रेस राज्यपाल डॉ. नजमा हेपतुल्ला से सरकार बनाने का निमंत्रण पाने की उम्मीद कर रही है वहीं चुनाव में 21 सीटें प्राप्त करने वाली भारतीय जनता पार्टी राज्य में चार-चार सीटें प्राप्त करने वाली नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) और नागा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) और एक सीट प्राप्त करने वाली लोक जनशक्ति पार्टी से समर्थन की उम्मीद कर रही है। दोनों पार्टियां एकमात्र स्वतंत्र विधायक जिरीबाम को भी रिझाने की पूरी कोशिश करेंगे।
       
मुख्यमंत्री ओकराम इबोबी सिंह राज्य में सरकार बनाने के लिए अपने स्तर से प्रयास कर रही है वहीं राज्य में पहली बार इतनी सीटें प्राप्त करने वाली भाजपा के पक्ष में केंद्र में सत्ता होने का फायदा हो सकता है। एनपीपी और एनपीएफ यहां सरकार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :