मनु के लिए माँ बने बापू

'बापू मेरी माँ' में लिखे मनुबेन ने संस्मरण

भाषा|
ND
राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के वैसे तो अपने चार पुत्र थे लेकिन वे तमाम भारतीयों को अपनी मानस संतान के तौर पर देखते थे। फिर भी उन्होंने अंतिम दिनों में अपने साथ रही मनुबेन गाँधी का पालन-पोषण माँ के रूप में किया।

महात्मा गाँधी की पौत्री मनु से बापू बार-बार कहते थे। मैं तो तुम्हारी माँ बन चुका हूँ न, बाप तो बहुतों का बन चुका लेकिन माँ तो सिर्फ तुम्हारी ही बना हूँ।

बापू की यह टिप्पणी मनुबेन गाँधी लिखित पुस्तिका 'बापू मेरी माँ' में उल्लेखित है। 1946 के आखिर में जब से मनुबेन महात्मा गाँधी के साथ हुई तबसे उन्होंने वहाँ की डायरी लिखी। मनुबेन नोआखाली का मिशन शुरू होने से लेकर बापू के अंतिम दिन तक उनके साथ थीं।
लेखिका के अनुसार पुरुष माँ नहीं बन सकता क्योंकि ईश्वर ने जो वात्सल्यपूर्ण हृदय स्त्री को दिया है वह पुरुष को नहीं दिया। लेकिन बापू ने पुरुष होकर भी ईश्वर की इस अनोखी देन में हिस्सा बँटाया था।

मनुबेन के अनुसार जिस तरह एक माँ अपनी बच्ची की परवरिश करती है उसी तरह बापू ने मुझे पाला था। मनु की उम्र जब सिर्फ 12 साल थी तभी उन्हें जन्म देने वाली माँ का निधन हो गया था। शुरू में कस्तूरबा गाँधी ने माँ की भूमिका निभाई। बा की मृत्यु के बाद माँ का जिम्मा बापू ने संभाला।
ND
माँ की भूमिका में बापू ने मनुबेन के कपड़े पहनने के तरीके से लेकर नियमित पढ़ाई तक में अहम भूमिका निभाई। बापू ने उन्हें संस्कृत पढ़ाना अंत तक नहीं छोड़ा उस समय भी जब उनकी तबीयत ठीक नहीं थी। इसके अलावा बापू ने गीता पढ़ाने में भी काफी दिलचस्पी ली।
मनुबेन ने अपनी किताब में सादगी पसंद गाँधीजी के व्यक्तित्व के विभिन्न आयामों का वर्णन किया है। उनकी सख्त दिनचर्या, विलंब से परहेज, बच्चों से लगाव, समाज के हर व्यक्ति का ख्याल, सफाई समय का सदुपयोग रामनाम में श्रद्धा आदि शामिल हैं।

मनुबेन के अनुसार रामनाम में उनकी श्रद्धा आखिर तक बनी रही। 30 जनवरी 1948 को बापू ने मुझसे कहा था कि आखिरी दम तक हमें रामनाम रटते रहना चाहिए। इस तरह आखिरी वक्त भी बापू के मुँह से दो बार राम-रा....म सुनना मेरे ही भाग्य में बदा था।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें जरूर
आप खाने के शौकीन हैं लेकिन क्या आप महसूस कर रहे हैं कि पिछले कुछ समय से आपका पाचन थोड़ा ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके अपनाएं
जब बालों का निचला हिस्सा दो भागों में बंट जाता है, तब उसे बालों का दोमुंहा होना कहते हैं। ...

फुटबॉल के मैदान से हटकर अब चर्चा कूटनीति के मैदान की

फुटबॉल के मैदान से हटकर अब चर्चा कूटनीति के मैदान की
दुनिया का सबसे बड़ा और रोमांच से भरपूर फुटबॉल मेला समाप्त हुआ। करोड़ों को रुला लिया, ...

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे
नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे,अब आ भी जाओ,कि अंजुमन को तेरी दरक़ार है, ढूँढता रहा,

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, ...

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, जानिए...
आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही देवशयनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से भगवान श्री हरि ...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...
शिव यक्ष के रूप को धारण करते हैं और लंबी-लंबी खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में ...

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये

ग़ज़ल: सर झुकाना आ जाये
नज़ाकत-ए-जानाँ1 देखकर सुकून-ए-बे-कराँ2 आ जाये, चाहता हूँ बेबाक इश्क़ मिरे बे-सोज़3 ज़माना ...