वागर्थ : मार्च 2009

अंक 164

WDWD
प्रबंध संपादक : डॉ. कुसुम खेमानी
प्रकाशक : नंदलाल शाह
मूल्य : 20 रुपए

संपादकीय
समय की हिन्दी उर्फ़ हिन्दी का समय

चिन्तन
धर्मपाल : हम किसी और के संसार में रहने लगे हैं

विचार
किशन पटनायक : आधुनिक विज्ञान और तकनीक का दम्भ
विजय बहादुर सिंह : औरों से अलग हटकर लिखना

पिछले पन्नों से
भवानी प्रसाद मिश्र : ये किसी व्याकुल समय की सूचनाएँ हैं, और यह कवि-कथन

आलेख
लक्ष्मण के‍डिया : सभ्यता के चकाचौंध के पार का कवि : भवानी प्रसाद मिश्र
अभिज्ञात : केदारनाथ सिंह की कविता : आलोक और आयाम

कहानी
विजयकांत : कुफ़्र
महावीर राजी : बीज

इतिहास और समाज
सुरेश मिश्र : इतिहास, जरा हटकर

चिट्‍ठी-पत्री
निदा फ़ाजली की चिट्‍ठियाँ

ग़ज़ल
ओम प्रभाकर

साक्षात्कार
कथा ही आज के समय की अपनी विधा है
सुपरिचित लेखिका ज्योत्स्ना मिलन से छबिल मेहरे की बातची

कविता
रवि कुमार : बच्चे और फूल
प्रभात : धाड़ैती
श्याम सुंदर बगड़िया : दो कविताएँ
सत्यवान : यह उजली कौंध
श्याम किशोर सिंह : वापस जाओ, बेल
सुधांशु 'फिरदौस' : माँ, टूटे बिखरे सपने

आलेख
प्रमीला के.पी. : अनूदि‍त जंग बनाम आतंकवाद
विजेंद्र नारायण सिंह : दिनकर की उर्वशी : उग्र नारीवाद की पहली हिन्दी रचना

संस्कृत ग़ज़ल
अभिराज राजेंद्र मिश्र : भुजङ्ग: कथम्?

गीत
राम सेंगर : किसे पड़ी है

ग़ज़ल
अजय पाण्डेय 'सहाब'
राजेश रेड्‍ड
अखिलेश तिवार

परख
हितेन्द्र पटेल : तीसरा विभाजन (कहानी संग्रह) : अन्य
दयानंद पाण्डेय : महात्मा गाँधी : ब्रह्मचर्य के प्रयोग (व्यक्तित्व) :
दयाशंकर शुक्ल साग
किरण अग्रवाल : यकीन की आयतें (कविता संग्रह) : आशुतोष दुबे

सांस्कृतिक गतिविधियाँ :
झरोखा
WD|
लोकमत

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :