पहल 89

(जुलाई अंक)

WD
संपादक
ज्ञानरंजन
सलाहकार संपादक - जितेन्द्र भाटिया, परितोष चतुर्वेदी, विनोद कुमार श्रीवास्तव, विजय कुमार

प्रकाशक - पहल
101, रामनगर, अधारताल, जबलपुर-482004
फोन - 2460393

पत्र
वी.पी.भारतीय (ग्वालियर),
अनिल कुमार सिन्हा (दिल्ली)

निधन
सुलभा कोरे : एक आहत कवि हृदय
सुखदेव सिंह : ग़ैरों की जमीन को अलविदा
अनुवाद - सत्यपाल सहगल : लालसिंह दिल की कविताएँ

लोकायत
गोंड और कोरकू गीत : प्रस्तुति - धर्मेंद्र पारे
भर्तृहरि की कविता : अनुरचना : पंकज चतुर्वेदी

रॉटरडम कविता महोत्सव
गीत चतुर्वेदी : अतीत में जाना है तो एक ट्राम पकड़ लो

सामयिक
जहाँ ज्ञान हो स्वाधीन : सुदीप बैनर्जी (व्याख्यान)
शिवसेना, कल आज और कल : कुमार केतकर

क़िताब
भगवा एजेंडा का नया रेटरिक/माइ कंट्री माइ लाइफ
कभी मिलना है हम करोड़ों को, हम करोड़ों से (विष्णु खरे) - व्योमेश शुक्ल
नहीं, बराबरी की बात कभी हुई ही नहीं (असद ज़ैदी) - व्योमेश शुक्ल
असद ज़ैदी की कविताएँ

पहल विशेष

उर्दू रजिस्टर/लंबी कहानी
ख़ालिद जावेद : शोक गीत गाने वाला

लंबी कविता
एकांत श्रीवास्वत : नागकेसर का देश यह

साक्षात्कार - बातचीत संवाद
मैं ऐसी किताबें पढ़ता हूँ जिसमें वर्चस्व के नाम पर लेखकीय दखल नहीं होता
विक्रम सेठ के साथ सुदीप सेन/अनुवादक - शिवदेव

सफलता ने मुझे तबाह कर दिया
अरुंधति राय से शोमा चौधरी/अनु. योगेंद्र आहूजा
जैसे कि यह जगह जहाँ गलियों में आप उपन्यास से टकरा सकते हैं
सलमान रशदी से एलेस्टेयर निवेन / अनुवादक - ओमप्रकाश

कविताएँ
कुमार अंबुज/शैलेन्द्र चौहान/प्रेमशंकर रघुवंशी
प्रताप राव कदम और अनिल त्रिपाठी

आलेख
चिंता और चेतना (किशोरीलाल गोस्वामी) मधुरेश : (अंतिम किश्त)
विस्थापन और संस्कृति : परमानंद श्रीवास्तव (दूसरी कड़ी)
उत्तर उपनिवेशवाद और प्राच्यवाद : रवि श्रीवास्तव

धारावाहिक
पन्नों की फटती छाती पर (अनामिका) : जितेन्द्र श्रीवास्तव (अंतिम)

डायरी
प्रभात त्रिपाठी : 12 और 13 अगस्त 07

नए कहानीकार
कृष्ण मोहन : भूलता तो यह भी जा रहा हूँ कि भूलता जा रहा हूँ मैं
मनीष द्विवेदी : एक प्रेम कहानी के आखिरी पन्ने

गीत दुनिया
श्री कृष्ण शर्मा और कुमार रवींद्र

WD|
मूल्य : 50 रुपए

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :